Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Mar 2024 · 1 min read

“जीवन का प्रमेय”

“जीवन का प्रमेय”
आँसू याद फरियाद की रेखा से
खींच गए त्रिभुज,
यह जीवन का प्रमेय बड़ा जटिल
बूझ सके तो बूझ।

2 Likes · 2 Comments · 49 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
वह बरगद की छाया न जाने कहाॅ॑ खो गई
वह बरगद की छाया न जाने कहाॅ॑ खो गई
VINOD CHAUHAN
अवधी गीत
अवधी गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
3362.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3362.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
उठो, जागो, बढ़े चलो बंधु...( स्वामी विवेकानंद की जयंती पर उनके दिए गए उत्प्रेरक मंत्र से प्रेरित होकर लिखा गया मेरा स्वरचित गीत)
उठो, जागो, बढ़े चलो बंधु...( स्वामी विवेकानंद की जयंती पर उनके दिए गए उत्प्रेरक मंत्र से प्रेरित होकर लिखा गया मेरा स्वरचित गीत)
डॉ.सीमा अग्रवाल
संविधान का पालन
संविधान का पालन
विजय कुमार अग्रवाल
वक्त के थपेड़ो ने जीना सीखा दिया
वक्त के थपेड़ो ने जीना सीखा दिया
Pramila sultan
About [ Ranjeet Kumar Shukla ]
About [ Ranjeet Kumar Shukla ]
Ranjeet Kumar Shukla
बना चाँद का उड़न खटोला
बना चाँद का उड़न खटोला
Vedha Singh
ये दिन है भारत को विश्वगुरु होने का,
ये दिन है भारत को विश्वगुरु होने का,
शिव प्रताप लोधी
स्वदेशी कुंडल ( राय देवीप्रसाद 'पूर्ण' )
स्वदेशी कुंडल ( राय देवीप्रसाद 'पूर्ण' )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कहे महावर हाथ की,
कहे महावर हाथ की,
sushil sarna
चमकते तारों में हमने आपको,
चमकते तारों में हमने आपको,
Ashu Sharma
*डंका बजता योग का, दुनिया हुई निहाल (कुंडलिया)*
*डंका बजता योग का, दुनिया हुई निहाल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
!...............!
!...............!
शेखर सिंह
बिखर गई INDIA की टीम बारी बारी ,
बिखर गई INDIA की टीम बारी बारी ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
राम वन गमन हो गया
राम वन गमन हो गया
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*शादी के पहले, शादी के बाद*
*शादी के पहले, शादी के बाद*
Dushyant Kumar
निशानी
निशानी
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
तुम्हारी याद तो मेरे सिरहाने रखें हैं।
तुम्हारी याद तो मेरे सिरहाने रखें हैं।
Manoj Mahato
हिज़ाब को चेहरे से हटाएँ किस तरह Ghazal by Vinit Singh Shayar
हिज़ाब को चेहरे से हटाएँ किस तरह Ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
तबीयत मचल गई
तबीयत मचल गई
Surinder blackpen
मेरी किस्मत
मेरी किस्मत
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
मंजिल की तलाश में
मंजिल की तलाश में
Praveen Sain
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏🙏
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
लालटेन-छाप
लालटेन-छाप
*Author प्रणय प्रभात*
*
*"अवध में राम आये हैं"*
Shashi kala vyas
खुले आम जो देश को लूटते हैं।
खुले आम जो देश को लूटते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
उपेक्षित फूल
उपेक्षित फूल
SATPAL CHAUHAN
लालच
लालच
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...