Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

जीवन और मृत्यु के मध्य, क्या उच्च ये सम्बन्ध है।

जीवन और मृत्यु के मध्य, क्या उच्च ये सम्बन्ध है,
आरम्भ से पूर्व हो चूका, अंत का प्रबंध है।
उपवन से पतझड़ में भी, आती पुष्पों की सुगंध है,
पर इस समाज की व्यथा तो देख, जहां से आती अराजकता की दुर्गन्ध है।
प्रारंभ से हीं मनुष्य ने, प्रकृति से किया एक अनुबंध है,
मानव छू रहा स्वार्थ के शिखर, और प्रकृति तोड़ रही तटबंध है।
पीड़ा और आनंद का समभार हीं तो, जीवन का मूल निबंध है,
तू दृष्टि नहीं, दृष्टिकोण बदल, ज्ञान पर किसने लगाया प्रतिबन्ध है।
नैतिकता के स्तंभ पर टिका, हर निर्णय का उपबंध है,
प्रश्न तू स्वयं से कर के देख, उत्तरों का तेरे चैतन्य से सहसम्बन्ध है।
अन्धकार और प्रकाश में भी तो, एक अंतहीन आबंध है,
सूरज की महत्ता के पीछे, रात्रि की गहनता का निर्मल संध है।
आस्था तेरी अडिग रही तो, पार्थक्य क्या है की तू जन्मांध है,
खुले नेत्र भी देख सके ना, तेरे और ईश्वर के मध्य जो सेतुबंध है।

3 Likes · 134 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
खुले लोकतंत्र में पशु तंत्र ही सबसे बड़ा हथियार है
खुले लोकतंत्र में पशु तंत्र ही सबसे बड़ा हथियार है
प्रेमदास वसु सुरेखा
तेरे आँखों मे पढ़े है बहुत से पन्ने मैंने
तेरे आँखों मे पढ़े है बहुत से पन्ने मैंने
Rohit yadav
1...
1...
Kumud Srivastava
दिल को लगाया है ,तुझसे सनम ,   रहेंगे जुदा ना ,ना  बिछुड़ेंगे
दिल को लगाया है ,तुझसे सनम , रहेंगे जुदा ना ,ना बिछुड़ेंगे
DrLakshman Jha Parimal
* सुखम् दुखम *
* सुखम् दुखम *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"फूलों की तरह जीना है"
पंकज कुमार कर्ण
मैनें प्रत्येक प्रकार का हर दर्द सहा,
मैनें प्रत्येक प्रकार का हर दर्द सहा,
Aarti sirsat
!! परदे हया के !!
!! परदे हया के !!
Chunnu Lal Gupta
#हाँसो_र_मुस्कान
#हाँसो_र_मुस्कान
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
******आधे - अधूरे ख्वाब*****
******आधे - अधूरे ख्वाब*****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बोर्ड परीक्षा में सुधार के उपाय
बोर्ड परीक्षा में सुधार के उपाय
Ravi Prakash
हर लम्हा दास्ताँ नहीं होता ।
हर लम्हा दास्ताँ नहीं होता ।
sushil sarna
तुम आशिक़ हो,, जाओ जाकर अपना इश्क़ संभालो ..
तुम आशिक़ हो,, जाओ जाकर अपना इश्क़ संभालो ..
पूर्वार्थ
वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप
वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप
Ravi Yadav
2515.पूर्णिका
2515.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कुर्सी
कुर्सी
Bodhisatva kastooriya
बलपूर्वक निर्मित स्थिति
बलपूर्वक निर्मित स्थिति
*Author प्रणय प्रभात*
हिन्दी की मिठास, हिन्दी की बात,
हिन्दी की मिठास, हिन्दी की बात,
Swara Kumari arya
हैप्पी प्रॉमिस डे
हैप्पी प्रॉमिस डे
gurudeenverma198
रोटियों से भी लड़ी गयी आज़ादी की जंग
रोटियों से भी लड़ी गयी आज़ादी की जंग
कवि रमेशराज
जो जी में आए कहें, बोलें बोल कुबोल।
जो जी में आए कहें, बोलें बोल कुबोल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
*कुंडलिया छंद*
*कुंडलिया छंद*
आर.एस. 'प्रीतम'
जाति-पाति देखे नहीं,
जाति-पाति देखे नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गरीबी……..
गरीबी……..
Awadhesh Kumar Singh
भारत के लाल को भारत रत्न
भारत के लाल को भारत रत्न
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दोस्ती गहरी रही
दोस्ती गहरी रही
Rashmi Sanjay
मम्मी थी इसलिए मैं हूँ...!! मम्मी I Miss U😔
मम्मी थी इसलिए मैं हूँ...!! मम्मी I Miss U😔
Ravi Betulwala
आयी थी खुशियाँ, जिस दरवाजे से होकर, हाँ बैठी हूँ उसी दहलीज़ पर, रुसवा अपनों से मैं होकर।
आयी थी खुशियाँ, जिस दरवाजे से होकर, हाँ बैठी हूँ उसी दहलीज़ पर, रुसवा अपनों से मैं होकर।
Manisha Manjari
जीवन में मोह माया का अपना रंग है।
जीवन में मोह माया का अपना रंग है।
Neeraj Agarwal
"जीवन"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...