Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jun 2023 · 1 min read

जिस तरह से बिना चाहे ग़म मिल जाते है

जिस तरह से बिना चाहे ग़म मिल जाते है
ऐसे ही बिन मांगे खुशियाँ भी मिल जाती है ……shabinaZ

333 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from shabina. Naaz
View all
You may also like:
अनंत का आलिंगन
अनंत का आलिंगन
Dr.Pratibha Prakash
কি?
কি?
Otteri Selvakumar
मैं ज्योति हूँ निरन्तर जलती रहूँगी...!!!!
मैं ज्योति हूँ निरन्तर जलती रहूँगी...!!!!
Jyoti Khari
एक  चांद  खूबसूरत  है
एक चांद खूबसूरत है
shabina. Naaz
लड़का पति बनने के लिए दहेज मांगता है चलो ठीक है
लड़का पति बनने के लिए दहेज मांगता है चलो ठीक है
शेखर सिंह
उस
उस"कृष्ण" को आवाज देने की ईक्षा होती है
Atul "Krishn"
हर पाँच बरस के बाद
हर पाँच बरस के बाद
Johnny Ahmed 'क़ैस'
बस हौसला करके चलना
बस हौसला करके चलना
SATPAL CHAUHAN
*नदियाँ पेड़ पहाड़ (कुंडलिया)*
*नदियाँ पेड़ पहाड़ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
उम्मीद कभी तू ऐसी मत करना
उम्मीद कभी तू ऐसी मत करना
gurudeenverma198
कल्पना ही हसीन है,
कल्पना ही हसीन है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
द्रोपदी फिर.....
द्रोपदी फिर.....
Kavita Chouhan
मेरी लाज है तेरे हाथ
मेरी लाज है तेरे हाथ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
मुजरिम करार जब कोई क़ातिल...
मुजरिम करार जब कोई क़ातिल...
अश्क चिरैयाकोटी
अब तो आ जाओ कान्हा
अब तो आ जाओ कान्हा
Paras Nath Jha
रक्तदान
रक्तदान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
लू, तपिश, स्वेदों का व्यापार करता है
लू, तपिश, स्वेदों का व्यापार करता है
Anil Mishra Prahari
*
*"वो भी क्या दिवाली थी"*
Shashi kala vyas
क्या मिटायेंगे भला हमको वो मिटाने वाले .
क्या मिटायेंगे भला हमको वो मिटाने वाले .
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
वो आए और देखकर मुस्कुराने लगे
वो आए और देखकर मुस्कुराने लगे
Surinder blackpen
कान्हा तेरी नगरी, आए पुजारी तेरे
कान्हा तेरी नगरी, आए पुजारी तेरे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
भाग दौड़ की जिंदगी में अवकाश नहीं है ,
भाग दौड़ की जिंदगी में अवकाश नहीं है ,
Seema gupta,Alwar
"अवशेष"
Dr. Kishan tandon kranti
"आंधी की तरह आना, तूफां की तरह जाना।
*Author प्रणय प्रभात*
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
डोला कड़वा -
डोला कड़वा -
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
When you learn to view life
When you learn to view life
पूर्वार्थ
हर बात पे ‘अच्छा’ कहना…
हर बात पे ‘अच्छा’ कहना…
Keshav kishor Kumar
3218.*पूर्णिका*
3218.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...