Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2024 · 1 min read

“जिन्दगी”

“जिन्दगी”
जिन्दगी एक कर्तव्य है
उसे निभाओ
जिन्दगी एक गीत है
उसे गाओ
जिन्दगी अगरबत्ती सी है
उसकी खुशबू लो
वर्ना जल ही तो रही है
खत्म तो हो ही जाएगी।

1 Like · 1 Comment · 37 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
"अन्तर"
Dr. Kishan tandon kranti
जून की दोपहर
जून की दोपहर
Kanchan Khanna
दुखांत जीवन की कहानी में सुखांत तलाशना बेमानी है
दुखांत जीवन की कहानी में सुखांत तलाशना बेमानी है
Guru Mishra
डॉ ऋषि कुमार चतुर्वेदी (श्रद्धाँजलि लेख)
डॉ ऋषि कुमार चतुर्वेदी (श्रद्धाँजलि लेख)
Ravi Prakash
वो तेरी पहली नज़र
वो तेरी पहली नज़र
Yash Tanha Shayar Hu
आंखों की नशीली बोलियां
आंखों की नशीली बोलियां
Surinder blackpen
सीख गांव की
सीख गांव की
Mangilal 713
Happy Father Day, Miss you Papa
Happy Father Day, Miss you Papa
संजय कुमार संजू
सोने के पिंजरे से कहीं लाख़ बेहतर,
सोने के पिंजरे से कहीं लाख़ बेहतर,
Monika Verma
हमसफर
हमसफर
लक्ष्मी सिंह
परिणति
परिणति
Shyam Sundar Subramanian
आ गए आसमाॅ॑ के परिंदे
आ गए आसमाॅ॑ के परिंदे
VINOD CHAUHAN
इश्क समंदर
इश्क समंदर
Neelam Sharma
3238.*पूर्णिका*
3238.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
Dr Tabassum Jahan
"You are still here, despite it all. You are still fighting
पूर्वार्थ
* गीत प्यारा गुनगुनायें *
* गीत प्यारा गुनगुनायें *
surenderpal vaidya
जाने क्यूं मुझ पर से
जाने क्यूं मुझ पर से
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
🌙Chaand Aur Main✨
🌙Chaand Aur Main✨
Srishty Bansal
फादर्स डे
फादर्स डे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कौन जिम्मेदार इन दीवार के दरारों का,
कौन जिम्मेदार इन दीवार के दरारों का,
कवि दीपक बवेजा
#इधर_सेवा_उधर_मेवा।
#इधर_सेवा_उधर_मेवा।
*Author प्रणय प्रभात*
सिर्फ यह कमी थी मुझमें
सिर्फ यह कमी थी मुझमें
gurudeenverma198
* शरारा *
* शरारा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पंचायती राज दिवस
पंचायती राज दिवस
Bodhisatva kastooriya
सुखी होने में,
सुखी होने में,
Sangeeta Beniwal
माईया गोहराऊँ
माईया गोहराऊँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*** मैं प्यासा हूँ ***
*** मैं प्यासा हूँ ***
Chunnu Lal Gupta
वक्त-ए-रूखसती पे उसने पीछे मुड़ के देखा था
वक्त-ए-रूखसती पे उसने पीछे मुड़ के देखा था
Shweta Soni
सच
सच
Sanjeev Kumar mishra
Loading...