Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2024 · 1 min read

जिंदगी

जिंदगी ऐसे मोड़ आ गयी
निराश हताश जाने कहाँ खो गयी
खोजता हूँ जिंदगी जीने के बहाने
अतीत की आवाज आ गयी।।
इंसा वही हो जिंदगी में तमाम
मकसद मुकाम के हासिल किये
क्या बात हुई जिंदगी ठहर गयी।।
अतीत की आवाज़ दिलों दिमाग
पे छा गयी जिंदगी फिर नई मुकाम
पा गयी चल पड़ी फिर अंदाज़ नया
आतीत की आवाज़ क्या बात आ गयी।।
मुश्किलों दुश्वारियों में भी जिंदगी
जज्बा नही छोड़ा मौके धोखे परखना
सीखा बीते जिंदगी में जाने कितने
तारीख का नाज़ अतीत की आवाज
चाह की राह बता गयी।।
कितनी ठोकरों से घायल
जहाँ को कर दिया कायल
जिंदगी को जिंदगी की हद
हस्ती याद आ गयी।।
अतीत की आवाज़ कदमों के
निशां जिंदगी में जिंदगी की
सच्चाई जिंदगी को जिंदगी की
हद बता गयी।।
मायूस जिंदगी जाग गयी
अपनी हैसियत पहचान गयी
विखरे जज्बात जुड़ गए
जिंदगी अपनी रवानगी में चल गई।।
हर इंसान की जिंदगी अतीत के
लम्हे खास दुनियां के लिए खास
जिंदगी की राहों में जब भी
नजर आए अंधेरा पीछे मुड़ कर
देख लीजिये अतीत की आवाज़
सुन लीजिए।।
टूट जाएगी मुश्किलों की ठोकरे
जिंदगी की जिंदगी की राह आईने
की तरह साफ जिंदगी नए उमंग
नई मंजिल चल गई।।

Language: Hindi
72 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
View all
You may also like:
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
सत्य कुमार प्रेमी
खुद का वजूद मिटाना पड़ता है
खुद का वजूद मिटाना पड़ता है
कवि दीपक बवेजा
*मनायेंगे स्वतंत्रता दिवस*
*मनायेंगे स्वतंत्रता दिवस*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कोई खुशबू
कोई खुशबू
Surinder blackpen
फिर से जीने की एक उम्मीद जगी है
फिर से जीने की एक उम्मीद जगी है "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
कोई अपनों को उठाने में लगा है दिन रात
कोई अपनों को उठाने में लगा है दिन रात
Shivkumar Bilagrami
"सार"
Dr. Kishan tandon kranti
जोकर
जोकर
Neelam Sharma
हमको ख़ामोश कर दिया
हमको ख़ामोश कर दिया
Dr fauzia Naseem shad
कान में रखना
कान में रखना
Kanchan verma
* सताना नहीं *
* सताना नहीं *
surenderpal vaidya
पिता के बिना सन्तान की, होती नहीं पहचान है
पिता के बिना सन्तान की, होती नहीं पहचान है
gurudeenverma198
वर्षा जीवन-दायिनी, तप्त धरा की आस।
वर्षा जीवन-दायिनी, तप्त धरा की आस।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मैं लिखता हूं..✍️
मैं लिखता हूं..✍️
Shubham Pandey (S P)
चोरबत्ति (मैथिली हायकू)
चोरबत्ति (मैथिली हायकू)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
गम और खुशी।
गम और खुशी।
Taj Mohammad
खुदा ने ये कैसा खेल रचाया है ,
खुदा ने ये कैसा खेल रचाया है ,
Sukoon
साईं बाबा
साईं बाबा
Sidhartha Mishra
???
???
शेखर सिंह
बासी रोटी...... एक सच
बासी रोटी...... एक सच
Neeraj Agarwal
2379.पूर्णिका
2379.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हम अक्षम हो सकते हैं
हम अक्षम हो सकते हैं
*Author प्रणय प्रभात*
कुली
कुली
Mukta Rashmi
रस का सम्बन्ध विचार से
रस का सम्बन्ध विचार से
कवि रमेशराज
सितारों की तरह चमकना है, तो सितारों की तरह जलना होगा।
सितारों की तरह चमकना है, तो सितारों की तरह जलना होगा।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वो एक ही मुलाकात और साथ गुजारे कुछ लम्हें।
वो एक ही मुलाकात और साथ गुजारे कुछ लम्हें।
शिव प्रताप लोधी
मेरी …….
मेरी …….
Sangeeta Beniwal
"ज्वाला
भरत कुमार सोलंकी
कड़वा सच
कड़वा सच
Sanjeev Kumar mishra
Loading...