Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Feb 2023 · 1 min read

जाम पीते हैं थोड़ा कम लेकर।

गज़ल

2122……..1212………22
जाम पीते हैं थोड़ा कम लेकर।
आओ पीते किसी का गम लेकर।

एक जीवन से मुक्ति मिल जाए,
क्या करेंगे कई जनम लेकर।

तक गये हो तो थोड़ा सुस्ता लो,
चल पड़ेगे जरा सा दम लेकर।

इक तुम्हारी ज़रा सी गलती से,
जा रहा है वो आंख नम लेकर।

दिल को रखना है आइना जैसा,
कोई चलना नहीं भरम लेकर।

टीवी अखबार का है काम यही,
रोज हाज़िर खबर गरम लेकर।

जिसका प्रेमी हूं आ गया हमदम,
प्यार की ह्विस्की और रम लेकर।

……….✍️ सत्य कुमार प्रेमी

38 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
हिम्मत और महब्बत एक दूसरे की ताक़त है
हिम्मत और महब्बत एक दूसरे की ताक़त है
SADEEM NAAZMOIN
दोस्ती और प्यार पर प्रतिबन्ध
दोस्ती और प्यार पर प्रतिबन्ध
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
*टैगोर काव्य गोष्ठी* भारत जिंदाबाद लोकार्पण
*टैगोर काव्य गोष्ठी* भारत जिंदाबाद लोकार्पण
Ravi Prakash
बिछड़ के नींद से आँखों में बस जलन होगी।
बिछड़ के नींद से आँखों में बस जलन होगी।
Prashant mishra (प्रशान्त मिश्रा मन)
लुकन-छिपी
लुकन-छिपी
Dr. Rajiv
“ कितने तुम अब बौने बनोगे ?”
“ कितने तुम अब बौने बनोगे ?”
DrLakshman Jha Parimal
कुछ तो तुझ से मेरा राब्ता रहा होगा।
कुछ तो तुझ से मेरा राब्ता रहा होगा।
Ahtesham Ahmad
2256.
2256.
Dr.Khedu Bharti
मत याद करो बीते पल को
मत याद करो बीते पल को
Surya Barman
अरे ये कौन नेता हैं, न आना बात में इनकी।
अरे ये कौन नेता हैं, न आना बात में इनकी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
शायरी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
हमारे दोस्त
हमारे दोस्त
Shivkumar Bilagrami
लगन लगे जब नेह की,
लगन लगे जब नेह की,
Rashmi Sanjay
आजादी का अमृतमहोत्सव एव गोरखपुर
आजादी का अमृतमहोत्सव एव गोरखपुर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
या'रब किसी इंसान को
या'रब किसी इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
जाने क्यूँ उसको सोचकर -
जाने क्यूँ उसको सोचकर -"गुप्तरत्न" भावनाओं के समन्दर में एहसास जो दिल को छु जाएँ
गुप्तरत्न
"अब मयस्सर है ऑनलाइन भी।
*Author प्रणय प्रभात*
प्यार हो जाय तो तकदीर बना देता है।
प्यार हो जाय तो तकदीर बना देता है।
Satish Srijan
क्या कहा, मेरी तरह जीने की हसरत है तुम्हे
क्या कहा, मेरी तरह जीने की हसरत है तुम्हे
Vishal babu (vishu)
*कैसे हम आज़ाद हैं?*
*कैसे हम आज़ाद हैं?*
Dushyant Kumar
मुहब्बत का ईनाम क्यों दे दिया।
मुहब्बत का ईनाम क्यों दे दिया।
सत्य कुमार प्रेमी
"अहसासों का समीकरण"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रेम में सब कुछ सहज है
प्रेम में सब कुछ सहज है
Ranjana Verma
बालकनी में चार कबूतर बहुत प्यार से रहते थे
बालकनी में चार कबूतर बहुत प्यार से रहते थे
Dr Archana Gupta
प्यारा सुंदर वह जमाना
प्यारा सुंदर वह जमाना
Vishnu Prasad 'panchotiya'
संसद की दिशा
संसद की दिशा
Shekhar Chandra Mitra
सप्तपदी
सप्तपदी
Arti Bhadauria
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
Rajni kapoor
मैं जिसको ढूंढ रहा था वो मिल गया मुझमें
मैं जिसको ढूंढ रहा था वो मिल गया मुझमें
Aadarsh Dubey
💐बस एक नज़र की ही तो बात है💐
💐बस एक नज़र की ही तो बात है💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...