Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Apr 2024 · 1 min read

“जानिब”

“जानिब”
ना टूटे ना डूबे हैं
सब रहमत है तेरी जानिब,
ये कश्ती तुम पे छोड़ी
अब लंगर भी उठाने से रहा।

1 Like · 1 Comment · 27 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
मैं तुलसी तेरे आँगन की
मैं तुलसी तेरे आँगन की
Shashi kala vyas
2594.पूर्णिका
2594.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"सत्ता व सियासत"
*Author प्रणय प्रभात*
*दुखड़ा कभी संसार में, अपना न रोना चाहिए【हिंदी गजल/गीतिका】*
*दुखड़ा कभी संसार में, अपना न रोना चाहिए【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
मेरी चाहत
मेरी चाहत
umesh mehra
आगाज़
आगाज़
Vivek saswat Shukla
सवाल जिंदगी के
सवाल जिंदगी के
Dr. Rajeev Jain
कब होगी हल ऐसी समस्या
कब होगी हल ऐसी समस्या
gurudeenverma198
मोल
मोल
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
होंगे ही जीवन में संघर्ष विध्वंसक...!!!!
होंगे ही जीवन में संघर्ष विध्वंसक...!!!!
Jyoti Khari
सिंहासन पावन करो, लम्बोदर भगवान ।
सिंहासन पावन करो, लम्बोदर भगवान ।
जगदीश शर्मा सहज
चांद बिना
चांद बिना
Surinder blackpen
कृतघ्न व्यक्ति आप के सत्कर्म को अपकर्म में बदलता रहेगा और आप
कृतघ्न व्यक्ति आप के सत्कर्म को अपकर्म में बदलता रहेगा और आप
Sanjay ' शून्य'
कविता 10 🌸माँ की छवि 🌸
कविता 10 🌸माँ की छवि 🌸
Mahima shukla
प्रीति
प्रीति
Mahesh Tiwari 'Ayan'
दस्त बदरिया (हास्य-विनोद)
दस्त बदरिया (हास्य-विनोद)
दुष्यन्त 'बाबा'
सुकूं आता है,नहीं मुझको अब है संभलना ll
सुकूं आता है,नहीं मुझको अब है संभलना ll
गुप्तरत्न
बेटी को मत मारो 🙏
बेटी को मत मारो 🙏
Samar babu
Ahsas tujhe bhi hai
Ahsas tujhe bhi hai
Sakshi Tripathi
फूल
फूल
Neeraj Agarwal
व्यक्ति कितना भी बड़ा क्यों न हो जाये
व्यक्ति कितना भी बड़ा क्यों न हो जाये
शेखर सिंह
ख़ास तो बहुत थे हम भी उसके लिए...
ख़ास तो बहुत थे हम भी उसके लिए...
Dr Manju Saini
मैं नारी हूं...!
मैं नारी हूं...!
singh kunwar sarvendra vikram
आई होली आई होली
आई होली आई होली
VINOD CHAUHAN
खत उसनें खोला भी नहीं
खत उसनें खोला भी नहीं
Sonu sugandh
हिंदी दिवस पर विशेष
हिंदी दिवस पर विशेष
Akash Yadav
*मन का समंदर*
*मन का समंदर*
Sûrëkhâ
बहुत यत्नों से हम
बहुत यत्नों से हम
DrLakshman Jha Parimal
आँखों में सुरमा, जब लगातीं हों तुम
आँखों में सुरमा, जब लगातीं हों तुम
The_dk_poetry
ज़िदादिली
ज़िदादिली
Shyam Sundar Subramanian
Loading...