Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jun 2023 · 1 min read

जानबूझकर कभी जहर खाया नहीं जाता

जानबूझकर कभी जहर खाया नहीं जाता
मुसीबतों को खुद से गले लगाया नहीं जाता
और अगर हौसला हो कुछ अलग ही कर दिखाने का
परिस्थितियों का बहाना इस तरह बनाया नहीं जाता।।

1 Like · 367 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वोट दिया किसी और को,
वोट दिया किसी और को,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सुकूं आता है,नहीं मुझको अब है संभलना ll
सुकूं आता है,नहीं मुझको अब है संभलना ll
गुप्तरत्न
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
स्पर्श करें निजजन्म की मांटी
स्पर्श करें निजजन्म की मांटी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
छल.....
छल.....
sushil sarna
श्री कृष्ण का चक्र चला
श्री कृष्ण का चक्र चला
Vishnu Prasad 'panchotiya'
भारत का अतीत
भारत का अतीत
Anup kanheri
देश की हालात
देश की हालात
Dr. Man Mohan Krishna
★मां का प्यार★
★मां का प्यार★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
"You are still here, despite it all. You are still fighting
पूर्वार्थ
👍संदेश👍
👍संदेश👍
*प्रणय प्रभात*
जिसको गोदी मिल गई ,माँ की हुआ निहाल (कुंडलिया)
जिसको गोदी मिल गई ,माँ की हुआ निहाल (कुंडलिया)
Ravi Prakash
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
"बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ"
Dr. Kishan tandon kranti
!...............!
!...............!
शेखर सिंह
देख तो ऋतुराज
देख तो ऋतुराज
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
बढ़ रही नारी निरंतर
बढ़ रही नारी निरंतर
surenderpal vaidya
बादल
बादल
Shankar suman
" ढले न यह मुस्कान "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
Naushaba Suriya
कश्मीरी पण्डितों की रक्षा में कुर्बान हुए गुरु तेगबहादुर
कश्मीरी पण्डितों की रक्षा में कुर्बान हुए गुरु तेगबहादुर
कवि रमेशराज
राम दर्शन
राम दर्शन
Shyam Sundar Subramanian
थोड़ा अदब भी जरूरी है
थोड़ा अदब भी जरूरी है
Shashank Mishra
घर
घर
Slok maurya "umang"
अपने चरणों की धूलि बना लो
अपने चरणों की धूलि बना लो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"" *आओ बनें प्रज्ञावान* ""
सुनीलानंद महंत
*मै भारत देश आजाद हां*
*मै भारत देश आजाद हां*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
छह दिसबंर / MUSAFIR BAITHA
छह दिसबंर / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मसला ये नहीं कि कोई कविता लिखूं ,
मसला ये नहीं कि कोई कविता लिखूं ,
Manju sagar
Loading...