Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2024 · 1 min read

जल प्रदूषण दुःख की है खबर

जल प्रदूषण दुःख की है खबर,
दूषित जल बीमारियों की जड़,
पर्यावरण संरक्षण दुश्वार,
होगी बड़ी चिंता की बात।

कारखानों का दूषित जल,
मत बहाओ नदियों में कल,
कचरा और ई-कचरा मत फेकों उधर,
श्रोत जल का रखो पावन।

जल प्रदूषण से होता है हानि,
नहीं मिलेगा भविष्य में शुद्ध जल,
हुए नहीं जल्द ही जागरूक,
स्वच्छ जल से भविष्य है कल।

जल ही जीवन है सभी जीवो का,
प्रदूषित जल है जीवो का दुश्मन,
मुक्त करो जल को प्रदूषण से,
जल प्रदूषण घातक है जन जीवन को।

रचनाकार –
बुद्ध प्रकाश,
मौदहा हमीरपुर।

Language: Hindi
2 Likes · 92 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
सियासत
सियासत
हिमांशु Kulshrestha
पास ही हूं मैं तुम्हारे कीजिए अनुभव।
पास ही हूं मैं तुम्हारे कीजिए अनुभव।
surenderpal vaidya
रमेशराज के 'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में 7 बालगीत
रमेशराज के 'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में 7 बालगीत
कवि रमेशराज
" मेरे प्यारे बच्चे "
Dr Meenu Poonia
तेरे बिन घर जैसे एक मकां बन जाता है
तेरे बिन घर जैसे एक मकां बन जाता है
Bhupendra Rawat
इससे पहले कि ये जुलाई जाए
इससे पहले कि ये जुलाई जाए
Anil Mishra Prahari
ज़माने पर भरोसा करने वालों, भरोसे का जमाना जा रहा है..
ज़माने पर भरोसा करने वालों, भरोसे का जमाना जा रहा है..
पूर्वार्थ
समूची दुनिया में
समूची दुनिया में
*प्रणय प्रभात*
" वो क़ैद के ज़माने "
Chunnu Lal Gupta
मैं ढूंढता हूं जिसे
मैं ढूंढता हूं जिसे
Surinder blackpen
बच्चे का संदेश
बच्चे का संदेश
Anjali Choubey
झकझोरती दरिंदगी
झकझोरती दरिंदगी
Dr. Harvinder Singh Bakshi
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लिखना चाहूँ  अपनी बातें ,  कोई नहीं इसको पढ़ता है ! बातें कह
लिखना चाहूँ अपनी बातें , कोई नहीं इसको पढ़ता है ! बातें कह
DrLakshman Jha Parimal
माता रानी का भजन अरविंद भारद्वाज
माता रानी का भजन अरविंद भारद्वाज
अरविंद भारद्वाज
"" *माँ की ममता* ""
सुनीलानंद महंत
चाटुकारिता
चाटुकारिता
Radha shukla
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
23/182.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/182.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अपने मन मंदिर में, मुझे रखना, मेरे मन मंदिर में सिर्फ़ तुम रहना…
अपने मन मंदिर में, मुझे रखना, मेरे मन मंदिर में सिर्फ़ तुम रहना…
Anand Kumar
My Expressions
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
" सूत्र "
Dr. Kishan tandon kranti
बहुत गहरी थी रात
बहुत गहरी थी रात
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
यादों के तराने
यादों के तराने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
संगीत........... जीवन हैं
संगीत........... जीवन हैं
Neeraj Agarwal
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
इस जीवन के मधुर क्षणों का
इस जीवन के मधुर क्षणों का
Shweta Soni
कविता- 2- 🌸*बदलाव*🌸
कविता- 2- 🌸*बदलाव*🌸
Mahima shukla
सम्मान
सम्मान
Paras Nath Jha
*चलते-चलते मिल गईं, तुम माणिक की खान (कुंडलिया)*
*चलते-चलते मिल गईं, तुम माणिक की खान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...