Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jul 2023 · 1 min read

जब सारे दरवाजे बंद हो जाते है….

जब सारे दरवाजे बंद हो जाते है….
तो खुदा खोल देता
है
अपनी कुदरत से
नया दर………
मौसम खिजां का गुजर जाता
है
तो खिलता है फिर से नया शजर………shabinaZ

338 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from shabina. Naaz
View all
You may also like:
न दिया धोखा न किया कपट,
न दिया धोखा न किया कपट,
Satish Srijan
"आँसू"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरे दिल के खूं से, तुमने मांग सजाई है
मेरे दिल के खूं से, तुमने मांग सजाई है
gurudeenverma198
जय माँ दुर्गा देवी,मैया जय अंबे देवी...
जय माँ दुर्गा देवी,मैया जय अंबे देवी...
Harminder Kaur
बिन बोले सुन पाता कौन?
बिन बोले सुन पाता कौन?
AJAY AMITABH SUMAN
ग़ज़ल:- रोशनी देता है सूरज को शरारा करके...
ग़ज़ल:- रोशनी देता है सूरज को शरारा करके...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
मदनोत्सव
मदनोत्सव
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
लौट कर फिर से
लौट कर फिर से
Dr fauzia Naseem shad
अपना मन
अपना मन
Neeraj Agarwal
आदतों में तेरी ढलते-ढलते, बिछड़न शोहबत से खुद की हो गयी।
आदतों में तेरी ढलते-ढलते, बिछड़न शोहबत से खुद की हो गयी।
Manisha Manjari
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
जीने दो मुझे अपने वसूलों पर
जीने दो मुझे अपने वसूलों पर
goutam shaw
'उड़ान'
'उड़ान'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
हक़ीक़त
हक़ीक़त
Shyam Sundar Subramanian
मौन
मौन
निकेश कुमार ठाकुर
कोई टूटे तो उसे सजाना सीखो,कोई रूठे तो उसे मनाना सीखो,
कोई टूटे तो उसे सजाना सीखो,कोई रूठे तो उसे मनाना सीखो,
Ranjeet kumar patre
बच्चे पैदा कीजिए, घर-घर दस या बीस ( हास्य कुंडलिया)
बच्चे पैदा कीजिए, घर-घर दस या बीस ( हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
मुझे
मुझे "विक्रम" मत समझो।
*Author प्रणय प्रभात*
सफर की यादें
सफर की यादें
Pratibha Pandey
2615.पूर्णिका
2615.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*Treasure the Nature*
*Treasure the Nature*
Poonam Matia
मेरे प्यारे भैया
मेरे प्यारे भैया
Samar babu
डरने कि क्या बात
डरने कि क्या बात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
शिक्षा व्यवस्था
शिक्षा व्यवस्था
Anjana banda
नये साल में
नये साल में
Mahetaru madhukar
क़िताबों में दफ़न है हसरत-ए-दिल के ख़्वाब मेरे,
क़िताबों में दफ़न है हसरत-ए-दिल के ख़्वाब मेरे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*दिल से*
*दिल से*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरे चेहरे से ना लगा मेरी उम्र का तकाज़ा,
मेरे चेहरे से ना लगा मेरी उम्र का तकाज़ा,
Ravi Betulwala
अबला नारी
अबला नारी
Buddha Prakash
Loading...