Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Apr 2023 · 1 min read

जब साथ तुम्हारे रहता हूँ

जब साथ तुम्हारे रहता हूँ

पीड़ामय संसार भुलाकर
आँसू वाला भार गिराकर
धीरे-धीरे प्रीत-धरा पर
आजाद पवन-सा बहता हूँ ।
जब साथ तुम्हारे रहता हूँ ।

दर्द न जाने किस घर जाकर
चादर अपनी बुनने लगते
छोड़ सुमन मेरी बगिया के
शोक कहीं जा चुनने लगते

खिलता है इक मधुबन मन में
हँसता है इक बचपन तन में
पुलकित होकर किसी भ्रमर-सा
मकरंद मधुर मैं गहता हूँ ।
जब साथ तुम्हारे रहता हूँ ।

नैन क्षितिज पर जाने कितने
इंद्रधनुष लगते मुस्काने
नीरव होंठों की बस्ती में
गीत- पपीहे लगते गाने

मोहित होकर वर्तुल लट पर
बैठ नदी के बालू तट पर
चुपके-चुपके अंतर्मन से
हाँ एक कहानी कहता हूँ ।
जब साथ तुम्हारे रहता हूँ ।

करती हैं बेचैन उमंगें
अनुभव ऐसे पल वरदानी
जन्म-जन्म के प्यासे लब पर
लिखदे जैसे बादल पानी

उर उपजी मृदु मनुहारों से
अपनेपन की बौछारों से
कभी नहीं मृत होने वाला
आनंद अमर मैं लहता हूँ ।
जब साथ तुम्हारे रहता हूँ ।

अशोक दीप
जयपुर

164 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Meditation
Meditation
Ravikesh Jha
मैं हिंदी में इस लिए बात करता हूं क्योंकि मेरी भाषा ही मेरे
मैं हिंदी में इस लिए बात करता हूं क्योंकि मेरी भाषा ही मेरे
Rj Anand Prajapati
पत्नी-स्तुति
पत्नी-स्तुति
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
कविता
कविता
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
गुलाब के काॅंटे
गुलाब के काॅंटे
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
दिलाओ याद मत अब मुझको, गुजरा मेरा अतीत तुम
दिलाओ याद मत अब मुझको, गुजरा मेरा अतीत तुम
gurudeenverma198
लम्बा पर सकडा़ सपाट पुल
लम्बा पर सकडा़ सपाट पुल
Seema gupta,Alwar
जीवन
जीवन
Rekha Drolia
कत्ल करती उनकी गुफ्तगू
कत्ल करती उनकी गुफ्तगू
Surinder blackpen
**प्यार भरा पैगाम लिखूँ मैं **
**प्यार भरा पैगाम लिखूँ मैं **
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
लिख लेते हैं थोड़ा-थोड़ा
लिख लेते हैं थोड़ा-थोड़ा
Suryakant Dwivedi
विषय - प्रभु श्री राम 🚩
विषय - प्रभु श्री राम 🚩
Neeraj Agarwal
मैं सोचता हूँ आखिर कौन हूॅ॑ मैं
मैं सोचता हूँ आखिर कौन हूॅ॑ मैं
VINOD CHAUHAN
जै जै जै गण पति गण नायक शुभ कर्मों के देव विनायक जै जै जै गण
जै जै जै गण पति गण नायक शुभ कर्मों के देव विनायक जै जै जै गण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
थोपा गया कर्तव्य  बोझ जैसा होता है । उसमें समर्पण और सेवा-भा
थोपा गया कर्तव्य बोझ जैसा होता है । उसमें समर्पण और सेवा-भा
Seema Verma
- दीवारों के कान -
- दीवारों के कान -
bharat gehlot
तूने ही मुझको जीने का आयाम दिया है
तूने ही मुझको जीने का आयाम दिया है
हरवंश हृदय
राज़ की बात
राज़ की बात
Shaily
*नभ में सबसे उच्च तिरंगा, भारत का फहराऍंगे (देशभक्ति गीत)*
*नभ में सबसे उच्च तिरंगा, भारत का फहराऍंगे (देशभक्ति गीत)*
Ravi Prakash
जीवन में प्यास की
जीवन में प्यास की
Dr fauzia Naseem shad
मुझे नहीं पसंद किसी की जीहुजूरी
मुझे नहीं पसंद किसी की जीहुजूरी
ruby kumari
"अहसास के पन्नों पर"
Dr. Kishan tandon kranti
23/178.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/178.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वेदनामृत
वेदनामृत
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
बाल कविता: तोता
बाल कविता: तोता
Rajesh Kumar Arjun
💐Prodigy Love-7💐
💐Prodigy Love-7💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
#तेवरी-
#तेवरी-
*Author प्रणय प्रभात*
हुनर
हुनर
अखिलेश 'अखिल'
ਅੱਜ ਮੇਰੇ ਲਫਜ਼ ਚੁੱਪ ਨੇ
ਅੱਜ ਮੇਰੇ ਲਫਜ਼ ਚੁੱਪ ਨੇ
rekha mohan
🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹
🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹
Dr Shweta sood
Loading...