Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

जब वफ़ापर सवाल होता है

जब वफ़ा पर सवाल होता है
तब बुरा दिल का’ हाल होता है

बात से घात मत कभी करिए
खून में भी उबाल होता है

जब तलक हम सँभल नहीं पाते
फिर नया इक बवाल होता है

याद आता है बचपना जब भी
फिर वही सब धमाल होता है

कौन कितना हिसाब रक्खेगा
रोज ही गोलमाल होता है

दौर दौरों का’ चल पड़ा है अब
रोज कोई हलाल होता है

कौन आता है’ रोज यूँ छत पर
बारिशों में कमाल होता है

हाल होता ख़राब शहरों का
चोर जब कोतवाल होता है

वक्त मिलता न आँसुओं को तब
हाथ में जब रुमाल होता है

हो अगर दिल बुझा बुझा सा तो
गीत में सुर न ताल होता है

132 Views
You may also like:
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
कैसे मैं याद करूं
Anamika Singh
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
साधु न भूखा जाय
श्री रमण 'श्रीपद्'
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
✍️काश की ऐसा हो पाता ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️कोई नहीं ✍️
Vaishnavi Gupta
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गीत
शेख़ जाफ़र खान
आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पीकर जी भर मधु-प्याला
श्री रमण 'श्रीपद्'
हमको जो समझे हमीं सा ।
Dr fauzia Naseem shad
दुनिया की आदतों में
Dr fauzia Naseem shad
इश्क
Anamika Singh
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
ये बारिश का मौसम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...