Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 May 2023 · 1 min read

जब मैं तुमसे प्रश्न करूँगा

जब मैं तुमसे प्रश्न करूँगा

जब मैं तुमसे प्रश्न करूँगा, मुझे पता था यही कहोगे,
साँसे तन से भारी होंगी, रोक रखोगे, बोझ सहोगे।
शब्दों से परहेज़ तुम्हें है, शब्दों के संग नहीं रहोगे,
तुम तो जादूगर हो कोई, आँखों से मन की बात कहोगे।
शब्द किये हैं कैद तुम्ही ने, अक्षर डिबिया में रक्खे हैं,
बेचारों को दो आज़ादी, कब तक इनको कैद रखोगे।
होंठ सिये मत बैठे रहना, कब तक विष का पान करोगे,
इंतज़ार है अब उस पल का, अपने अधरों को गति तुम दोगे।

(c) @ दीपक कुमार श्रीवास्तव “नील पदम्”

Language: Hindi
5 Likes · 2 Comments · 462 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
View all
You may also like:
जब ख्वाब भी दर्द देने लगे
जब ख्वाब भी दर्द देने लगे
Pramila sultan
जीवन मंथन
जीवन मंथन
Satya Prakash Sharma
ये   दुनिया  है  एक  पहेली
ये दुनिया है एक पहेली
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
खुद्दार
खुद्दार
अखिलेश 'अखिल'
"परीक्षा के भूत "
Yogendra Chaturwedi
दूसरों को देते हैं ज्ञान
दूसरों को देते हैं ज्ञान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
माँ मुझे विश्राम दे
माँ मुझे विश्राम दे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
**जिंदगी की टूटी लड़ी है**
**जिंदगी की टूटी लड़ी है**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
भूख
भूख
Neeraj Agarwal
I met Myself!
I met Myself!
कविता झा ‘गीत’
■ कथ्य के साथ कविता (इससे अच्छा क्या)
■ कथ्य के साथ कविता (इससे अच्छा क्या)
*प्रणय प्रभात*
सर्द हवाएं
सर्द हवाएं
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Dr अरुण कुमार शास्त्री
Dr अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मौसम - दीपक नीलपदम्
मौसम - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*पियक्कड़* (हास्य कुंडलिया)
*पियक्कड़* (हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
"पलायन"
Dr. Kishan tandon kranti
सीख लिया है सभी ने अब
सीख लिया है सभी ने अब
gurudeenverma198
शिव-स्वरूप है मंगलकारी
शिव-स्वरूप है मंगलकारी
कवि रमेशराज
2758. *पूर्णिका*
2758. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विडंबना इस युग की ऐसी, मानवता यहां लज्जित है।
विडंबना इस युग की ऐसी, मानवता यहां लज्जित है।
Manisha Manjari
जिंदगी एक परीक्षा है काफी लोग.....
जिंदगी एक परीक्षा है काफी लोग.....
Krishan Singh
साड़ी हर नारी की शोभा
साड़ी हर नारी की शोभा
ओनिका सेतिया 'अनु '
साहिल समंदर के तट पर खड़ी हूँ,
साहिल समंदर के तट पर खड़ी हूँ,
Sahil Ahmad
शहीदों के लिए (कविता)
शहीदों के लिए (कविता)
गुमनाम 'बाबा'
वो खुशनसीब थे
वो खुशनसीब थे
Dheerja Sharma
फिदरत
फिदरत
Swami Ganganiya
किसी की लाचारी पर,
किसी की लाचारी पर,
Dr. Man Mohan Krishna
10) “वसीयत”
10) “वसीयत”
Sapna Arora
मत गुजरा करो शहर की पगडंडियों से बेखौफ
मत गुजरा करो शहर की पगडंडियों से बेखौफ
Damini Narayan Singh
हर रात उजालों को ये फ़िक्र रहती है,
हर रात उजालों को ये फ़िक्र रहती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...