Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 May 2022 · 1 min read

जब-जब देखूं चाँद गगन में…..

विरह वेदना के झंकृत स्वर मंद-मंद मुस्काते हैं।
स्नेहिल स्मृतियों के झूले झूला रोज़ झुलाते हैं।।

जब-जब देखूं चाँद गगन में बस तुझमें खो जाता हूँ,
मन के सूने आंगन में पर ख़ुद को तनहा पाता हूँ,
स्वप्न सुनहरे जुगनू बनकर आँखों में छा जाते हैं-
स्नेहिल स्मृतियों के झूले झूला रोज़ झुलाते हैं।।

रात चाँदनी नागिन बनकर हर क्षण डँसती रहती है,
सुध-बुध सारा अपहृत कर मन मेरा विह्वल करती है,
व्यथित हृदय के स्पंदन फिर मुझको ख़ूब सताते हैं-
स्नेहिल स्मृतियों के झूले झूला रोज़ झुलाते हैं।।

सावन लेता हो अँगड़ाई और चले जब पुरवाई,
‘अश्क’ नयन के गीत सुनाते,पीर बजाती शहनाई,
कंपित अधरों से निकले स्वर प्रतिपल तुझे बुलाते हैं-
स्नेहिल स्मृतियों के झूले झूला रोज़ झुलाते हैं।।

© गीतकार : अशोक कुमार ” अश्क चिरैयाकोटी ”
चिरैयाकोट, जनपद-मऊ (उ०प्र०)

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 444 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीने की
जीने की
Dr fauzia Naseem shad
दोयम दर्जे के लोग
दोयम दर्जे के लोग
Sanjay ' शून्य'
"यह भी गुजर जाएगा"
Dr. Kishan tandon kranti
*अगर ईश्वर नहीं चाहता, कभी मिलता नहीं होता (मुक्तक)*
*अगर ईश्वर नहीं चाहता, कभी मिलता नहीं होता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
खुले आँगन की खुशबू
खुले आँगन की खुशबू
Manisha Manjari
इश्क- इबादत
इश्क- इबादत
Sandeep Pande
हिम्मत कभी न हारिए
हिम्मत कभी न हारिए
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
ईद की दिली मुबारक बाद
ईद की दिली मुबारक बाद
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कर्म-धर्म
कर्म-धर्म
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
*अवध  में  प्रभु  राम  पधारें है*
*अवध में प्रभु राम पधारें है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मेरी चाहत
मेरी चाहत
umesh mehra
शक्ति साधना सब करें
शक्ति साधना सब करें
surenderpal vaidya
शाहकार (महान कलाकृति)
शाहकार (महान कलाकृति)
Shekhar Chandra Mitra
*मुश्किल है इश्क़ का सफर*
*मुश्किल है इश्क़ का सफर*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मत पूछो मुझ पर  क्या , क्या  गुजर रही
मत पूछो मुझ पर क्या , क्या गुजर रही
श्याम सिंह बिष्ट
चांद पर पहुंचे बधाई, ये बताओ तो।
चांद पर पहुंचे बधाई, ये बताओ तो।
सत्य कुमार प्रेमी
“नया मुकाम”
“नया मुकाम”
DrLakshman Jha Parimal
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
Vishal babu (vishu)
गीतिका/ग़ज़ल
गीतिका/ग़ज़ल
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
शुभ रात्रि मित्रों.. ग़ज़ल के तीन शेर
शुभ रात्रि मित्रों.. ग़ज़ल के तीन शेर
आर.एस. 'प्रीतम'
बताओगे कैसे, जताओगे कैसे
बताओगे कैसे, जताओगे कैसे
Shweta Soni
💐प्रेम कौतुक-482💐
💐प्रेम कौतुक-482💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ समय की बात....
■ समय की बात....
*Author प्रणय प्रभात*
रोशन है अगर जिंदगी सब पास होते हैं
रोशन है अगर जिंदगी सब पास होते हैं
VINOD CHAUHAN
Meri Jung Talwar se nahin hai
Meri Jung Talwar se nahin hai
Ankita Patel
यही तो मजा है
यही तो मजा है
Otteri Selvakumar
चुलबुली मौसम
चुलबुली मौसम
Anil "Aadarsh"
नारी का सम्मान 🙏
नारी का सम्मान 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
Loading...