Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Mar 2024 · 1 min read

एक पौधा तो अपना भी उगाना चाहिए

जब किसी पेड़ की शाखा पर पल रहे हो
एक पौधा तो अपना भी उगाना चाहिए
कितनी भी उड़ाने भरो आसमान में लेकिन
शाम होते ही धरती पर लौट आना चाहिए

चाहे मंजिलों तक पहुंचने में आए लाख मुश्किल
कभी किसी मौसम में नहीं घबराना चाहिए…
रोशनी कहां बिखेर पाए किसी पिंजरे का जुगनू
जग को रोशन करना है तो बाहर आना चाहिए

खुद से खुद ही बातें करके मन उत्साहित करलो
गर्दिश में भी हंसने का कहां कोई बहाना चाहिए
अगर रास्ते में सताती है तुम्हें भी धूप की गर्मी
कभी अनजानी राहों पर पेड़ लगाना चाहिए

एक अकेली गंगा अब कहां तक मैल धोएगी
मन का उतर जाऐ मैल ऐसे भी नहाना चाहिए
कोई सुन ना ले तुम्हारी खामोशी को आखिर
कभी खुद से अकेले में भी गुनगुनाना चाहिए

उस रहबर की रहमत हो अगर सर पर तेरे
भला और इस जमाने से तुझको क्या चाहिए
महफिल हो मदहोश चाहे कितनी भी आखिर
बिना शफकत से कहीं न आना जाना चाहिए

नहीं मायूस होना है इस भीड़ में जाकर
खुद में हंसने का भी एक बहाना चाहिए
कोई ला करके नहीं देगा चांद धरती पर
अपने किरदार को खुद से जगमगाना चाहिए

कोई हाथ देता है अगर तुमको आगे बढ़ाने को
खुदा वह साथ है तेरे तुझको समझ जाना चाहिए
कहां से होकर गुजरेगा तुम्हारी मंजिल का सफर
उस रहबर की रहमत का न अंदाज लगाना चाहिए

✍️कवि दीपक सरल

1 Like · 62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इतनी जल्दी क्यूं जाते हो,बैठो तो
इतनी जल्दी क्यूं जाते हो,बैठो तो
Shweta Soni
अभी और कभी
अभी और कभी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कहती गौरैया
कहती गौरैया
Dr.Pratibha Prakash
जिंदगी की राहों पे अकेले भी चलना होगा
जिंदगी की राहों पे अकेले भी चलना होगा
VINOD CHAUHAN
तू बस झूम…
तू बस झूम…
Rekha Drolia
जहर मिटा लो दर्शन कर के नागेश्वर भगवान के।
जहर मिटा लो दर्शन कर के नागेश्वर भगवान के।
सत्य कुमार प्रेमी
अपने कदमों को बढ़ाती हूँ तो जल जाती हूँ
अपने कदमों को बढ़ाती हूँ तो जल जाती हूँ
SHAMA PARVEEN
मुस्कुराहटे जैसे छीन सी गई है
मुस्कुराहटे जैसे छीन सी गई है
Harminder Kaur
मौसम आया फाग का,
मौसम आया फाग का,
sushil sarna
यूं कीमतें भी चुकानी पड़ती है दोस्तों,
यूं कीमतें भी चुकानी पड़ती है दोस्तों,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
विचार ही हमारे वास्तविक सम्पत्ति
विचार ही हमारे वास्तविक सम्पत्ति
Ritu Asooja
आईना
आईना
Sûrëkhâ
अक्षर ज्ञान नहीं है बल्कि उस अक्षर का को सही जगह पर उपयोग कर
अक्षर ज्ञान नहीं है बल्कि उस अक्षर का को सही जगह पर उपयोग कर
Rj Anand Prajapati
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
औरत
औरत
नूरफातिमा खातून नूरी
*खुशी मनाती आज अयोध्या, रामलला के आने की (हिंदी गजल)*
*खुशी मनाती आज अयोध्या, रामलला के आने की (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
याद
याद
Kanchan Khanna
जमाने को खुद पे
जमाने को खुद पे
A🇨🇭maanush
न जाने क्यों अक्सर चमकीले रैपर्स सी हुआ करती है ज़िन्दगी, मोइ
न जाने क्यों अक्सर चमकीले रैपर्स सी हुआ करती है ज़िन्दगी, मोइ
पूर्वार्थ
मैं हू बेटा तेरा तूही माँ है मेरी
मैं हू बेटा तेरा तूही माँ है मेरी
Basant Bhagawan Roy
फ़ितरत
फ़ितरत
Dr.Priya Soni Khare
असफलता का जश्न
असफलता का जश्न
Dr. Kishan tandon kranti
प्यार का नाम मेरे दिल से मिटाया तूने।
प्यार का नाम मेरे दिल से मिटाया तूने।
Phool gufran
*** लम्हा.....!!! ***
*** लम्हा.....!!! ***
VEDANTA PATEL
शून्य से अनन्त
शून्य से अनन्त
The_dk_poetry
वज़्न ---221 1221 1221 122 बह्र- बहरे हज़ज मुसम्मन अख़रब मक़्फूफ़ मक़्फूफ़ मुखंन्नक सालिम अर्कान-मफ़ऊल मुफ़ाईलु मुफ़ाईलु फ़ऊलुन
वज़्न ---221 1221 1221 122 बह्र- बहरे हज़ज मुसम्मन अख़रब मक़्फूफ़ मक़्फूफ़ मुखंन्नक सालिम अर्कान-मफ़ऊल मुफ़ाईलु मुफ़ाईलु फ़ऊलुन
Neelam Sharma
#दो_टूक
#दो_टूक
*प्रणय प्रभात*
समझ
समझ
Dinesh Kumar Gangwar
कई वर्षों से ठीक से होली अब तक खेला नहीं हूं मैं /लवकुश यादव
कई वर्षों से ठीक से होली अब तक खेला नहीं हूं मैं /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
डूबे किश्ती तो
डूबे किश्ती तो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...