Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2023 · 1 min read

जन्मपत्री / मुसाफ़िर बैठा

मुर्दों की तो होती ही नहीं जन्मपत्री
जिंदों की भी नहीं होनी चाहिए
किसी शातिर गंद-दिमाग की उपज है यह जन्मपत्री
जो फैल पसर कर
हर कोटि के अंधविश्वासी मनुष्य को
मतांध बना जाती है
और करती होती है निरर्थक व अनर्थक हस्तक्षेप ज़िंदगी के मरहले में।

मरण के बिना
किसी जन्मपत्री के कायदे का
कोई मतलब नहीं
और, है कोई माई का लाल
को तैयार कर सके मरणपत्री?

Language: Hindi
231 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
हौंसले को समेट कर मेघ बन
हौंसले को समेट कर मेघ बन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*ऊन (बाल कविता)*
*ऊन (बाल कविता)*
Ravi Prakash
"शतरंज के मोहरे"
Dr. Kishan tandon kranti
यूं ही नहीं हमने नज़र आपसे फेर ली हैं,
यूं ही नहीं हमने नज़र आपसे फेर ली हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
तूने ही मुझको जीने का आयाम दिया है
तूने ही मुझको जीने का आयाम दिया है
हरवंश हृदय
ईश्वर के रहते भी / MUSAFIR BAITHA
ईश्वर के रहते भी / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
रुख़्सत
रुख़्सत
Shyam Sundar Subramanian
*दहेज*
*दहेज*
Rituraj shivem verma
तारो की चमक ही चाँद की खूबसूरती बढ़ाती है,
तारो की चमक ही चाँद की खूबसूरती बढ़ाती है,
Ranjeet kumar patre
चाहने वाले कम हो जाए तो चलेगा...।
चाहने वाले कम हो जाए तो चलेगा...।
Maier Rajesh Kumar Yadav
वक्त
वक्त
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हसरतों के गांव में
हसरतों के गांव में
Harminder Kaur
आवारा पंछी / लवकुश यादव
आवारा पंछी / लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
शायरी - गुल सा तू तेरा साथ ख़ुशबू सा - संदीप ठाकुर
शायरी - गुल सा तू तेरा साथ ख़ुशबू सा - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
3480🌷 *पूर्णिका* 🌷
3480🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
कहीं फूलों की बारिश है कहीं पत्थर बरसते हैं
कहीं फूलों की बारिश है कहीं पत्थर बरसते हैं
Phool gufran
एक सबक इश्क का होना
एक सबक इश्क का होना
AMRESH KUMAR VERMA
मैं चाँद को तोड़ कर लाने से रहा,
मैं चाँद को तोड़ कर लाने से रहा,
Vishal babu (vishu)
सोई गहरी नींदों में
सोई गहरी नींदों में
Anju ( Ojhal )
#शेर_का_मानी...
#शेर_का_मानी...
*Author प्रणय प्रभात*
चाय - दोस्ती
चाय - दोस्ती
Kanchan Khanna
काश आज चंद्रमा से मुलाकाकत हो जाती!
काश आज चंद्रमा से मुलाकाकत हो जाती!
पूर्वार्थ
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
मैं नारी हूं
मैं नारी हूं
Anamika Tiwari 'annpurna '
ईर्ष्या, द्वेष और तृष्णा
ईर्ष्या, द्वेष और तृष्णा
ओंकार मिश्र
दोहे-*
दोहे-*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अंतस का तम मिट जाए
अंतस का तम मिट जाए
Shweta Soni
फितरत
फितरत
Srishty Bansal
*देश का दर्द (मणिपुर से आहत)*
*देश का दर्द (मणिपुर से आहत)*
Dushyant Kumar
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Loading...