Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Sep 2022 · 1 min read

जनता की दुर्गति

हम तो
बेमौत मारे गए
कातिल को
मसीहा समझकर!
कहीं के
ना रहे हम तो
रहजन को
रहनुमा समझकर!
इसे हमारी
बुजदिली या
जहालत ही
मान लीजिए कि!
चुपचाप
हमने कबूल किया
साजिश को
नसीबा समझकर!
#मज़दूर #किसान #मेहनतकश
#बहुजन #अवाम #public
#Political #poetry #इंकलाबी
#शायरी #दलित #आदिवासी #गरीब

Language: Hindi
117 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नारी शक्ति वंदन
नारी शक्ति वंदन
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
मैं तो महज एक माँ हूँ
मैं तो महज एक माँ हूँ
VINOD CHAUHAN
इस तरहां बिताये मैंने, तन्हाई के पल
इस तरहां बिताये मैंने, तन्हाई के पल
gurudeenverma198
क्या ?
क्या ?
Dinesh Kumar Gangwar
"किसे कहूँ मालिक?"
Dr. Kishan tandon kranti
*हॅंसते बीता बचपन यौवन, वृद्ध-आयु दुखदाई (गीत)*
*हॅंसते बीता बचपन यौवन, वृद्ध-आयु दुखदाई (गीत)*
Ravi Prakash
घूँघट के पार
घूँघट के पार
लक्ष्मी सिंह
विनाश नहीं करती जिन्दगी की सकारात्मकता
विनाश नहीं करती जिन्दगी की सकारात्मकता
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्यार या प्रतिशोध में
प्यार या प्रतिशोध में
Keshav kishor Kumar
हुई नैन की नैन से,
हुई नैन की नैन से,
sushil sarna
विरह के दु:ख में रो के सिर्फ़ आहें भरते हैं
विरह के दु:ख में रो के सिर्फ़ आहें भरते हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिनके जानें से जाती थी जान भी मैंने उनका जाना भी देखा है अब
जिनके जानें से जाती थी जान भी मैंने उनका जाना भी देखा है अब
Vishvendra arya
ज़िंदगी कब उदास करती है
ज़िंदगी कब उदास करती है
Dr fauzia Naseem shad
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
*माटी कहे कुम्हार से*
*माटी कहे कुम्हार से*
Harminder Kaur
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दादी की वह बोरसी
दादी की वह बोरसी
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
हर हालात में अपने जुबाँ पर, रहता वन्देमातरम् .... !
हर हालात में अपने जुबाँ पर, रहता वन्देमातरम् .... !
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
✍️ D. K 27 june 2023
✍️ D. K 27 june 2023
The_dk_poetry
कविता-मरते किसान नहीं, मर रही हमारी आत्मा है।
कविता-मरते किसान नहीं, मर रही हमारी आत्मा है।
Shyam Pandey
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
shabina. Naaz
बात क्या है कुछ बताओ।
बात क्या है कुछ बताओ।
सत्य कुमार प्रेमी
किसी से मत कहना
किसी से मत कहना
Dr.Pratibha Prakash
3023.*पूर्णिका*
3023.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
संवेदनहीन
संवेदनहीन
अखिलेश 'अखिल'
" फ़साने हमारे "
Aarti sirsat
तुम से सुबह, तुम से शाम,
तुम से सुबह, तुम से शाम,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मायके से लौटा मन
मायके से लौटा मन
Shweta Soni
माईया पधारो घर द्वारे
माईया पधारो घर द्वारे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...