Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2024 · 1 min read

जंगल ही ना रहे तो फिर सोचो हम क्या हो जाएंगे

ये खूबसूरत दृश्य आंखों से ओझल हो जाएंगे
जंगल ही ना रहे तो फिर सोचो हम क्या हो जाएंगे
आधुनिक इस खेल में बस पुर्जे ही रह जाएंगे
बारिश नहीं होगी ओर पंछियों के कलरव भी रूक जाएंगे
जंगल ही ना रहे तो फिर सोचो हम क्या हो जाएंगे

Language: Hindi
75 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
View all
You may also like:
नाथू राम जरा बतलाओ
नाथू राम जरा बतलाओ
Satish Srijan
नारी जागरूकता
नारी जागरूकता
Kanchan Khanna
मुहब्बत का ईनाम क्यों दे दिया।
मुहब्बत का ईनाम क्यों दे दिया।
सत्य कुमार प्रेमी
प्यार
प्यार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हम कहाँ जा रहे हैं...
हम कहाँ जा रहे हैं...
Radhakishan R. Mundhra
Success_Your_Goal
Success_Your_Goal
Manoj Kushwaha PS
सोने के भाव बिके बैंगन
सोने के भाव बिके बैंगन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तुम हो तो मैं हूँ,
तुम हो तो मैं हूँ,
लक्ष्मी सिंह
एक समझदार मां रोते हुए बच्चे को चुप करवाने के लिए प्रकृति के
एक समझदार मां रोते हुए बच्चे को चुप करवाने के लिए प्रकृति के
Dheerja Sharma
न पाने का गम अक्सर होता है
न पाने का गम अक्सर होता है
Kushal Patel
मैं तुम और हम
मैं तुम और हम
Ashwani Kumar Jaiswal
अपात्रता और कार्तव्यहीनता ही मनुष्य को धार्मिक बनाती है।
अपात्रता और कार्तव्यहीनता ही मनुष्य को धार्मिक बनाती है।
Dr MusafiR BaithA
मत सता गरीब को वो गरीबी पर रो देगा।
मत सता गरीब को वो गरीबी पर रो देगा।
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अनुभूति
अनुभूति
Pratibha Pandey
तुम से ना हो पायेगा
तुम से ना हो पायेगा
Gaurav Sharma
अगर लोग आपको rude समझते हैं तो समझने दें
अगर लोग आपको rude समझते हैं तो समझने दें
ruby kumari
तुम्हारे अवारा कुत्ते
तुम्हारे अवारा कुत्ते
Maroof aalam
उठो, जागो, बढ़े चलो बंधु...( स्वामी विवेकानंद की जयंती पर उनके दिए गए उत्प्रेरक मंत्र से प्रेरित होकर लिखा गया मेरा स्वरचित गीत)
उठो, जागो, बढ़े चलो बंधु...( स्वामी विवेकानंद की जयंती पर उनके दिए गए उत्प्रेरक मंत्र से प्रेरित होकर लिखा गया मेरा स्वरचित गीत)
डॉ.सीमा अग्रवाल
प्रेमचंद के पत्र
प्रेमचंद के पत्र
Ravi Prakash
अपने-अपने चक्कर में,
अपने-अपने चक्कर में,
Dr. Man Mohan Krishna
जो उसके हृदय को शीतलता दे जाए,
जो उसके हृदय को शीतलता दे जाए,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
💐प्रेम कौतुक-249💐
💐प्रेम कौतुक-249💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
2729.*पूर्णिका*
2729.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
औरों की उम्मीदों में
औरों की उम्मीदों में
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
मुक्तक
मुक्तक
Rashmi Sanjay
वो इश्क जो कभी किसी ने न किया होगा
वो इश्क जो कभी किसी ने न किया होगा
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के व्यवस्था-विरोध के गीत
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के व्यवस्था-विरोध के गीत
कवि रमेशराज
........,
........,
शेखर सिंह
अपनेपन की रोशनी
अपनेपन की रोशनी
पूर्वार्थ
बेटी उड़ान पर बाप ढलान पर👸👰🙋
बेटी उड़ान पर बाप ढलान पर👸👰🙋
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...