Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Oct 2022 · 1 min read

छठ है आया

छठ है आया

नमन सूर्य को कर
दिनकर को अर्घ्य चढ़ाया ,
सहस्त्रों किरणें चमकाकर रवि
फिर उजला दिखलाया
करके तैयारी ढेर सारी खीर,
और पकवान बनाया
चार दिनों का पर्व छठ है आया।

साफ सफाई करते पावन
घर आगन को ,
और नहा खा से होती
शुरुआत पर्व का ,
लेते हैं संकल्प
पूर्ण करना इस व्रत को ।

खरना में निर्जल रहकर
बनता है प्रसाद खीर का ,
पावन नदियों से जल लाकर
करके पूजन सच्चे मन से
सूर्य देव का ध्यान लगाते I

शुद्ध घी में ठेकुआ , टिकरी
और टोकरी में फल भरकर
पीत वस्त्र धारण करते हैं ,
और कहारी बन माता की
श्रद्धा भाव से सिर पर लेकर
पावन नदियों के तट जाते ।

जल में होकर खड़ा सूर्य को
अपना अर्घ्य समर्पित करते ,
छठ माता भी कहते हैं हम।

पूजन करते अंतर्मन से
हाथ जोड़ छठी माई से
सुख ,समृद्धि का वर पाते हैं I

इससे पावन नहीं और
कोई त्यौहार ,
सहकर कष्ट परम सुख पाते
भक्त अपार !

1 Like · 24 Views
You may also like:
🙏मॉं कालरात्रि🙏
पंकज कुमार कर्ण
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*विद्यालय की रिक्शा आई (बाल कविता)*
Ravi Prakash
■ संस्मरण / "अलविदा"
*प्रणय प्रभात*
कर्म -धर्म
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ना होता कुलनाश, चले धर्म-कर्म से जो
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
माहौल का प्रभाव
AMRESH KUMAR VERMA
गीत ग़ज़लें सदा गुनगुनाते रहो।
सत्य कुमार प्रेमी
★TIME IS THE TEACHER OF HUMAN ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
गरिमामय प्रतिफल
Shyam Sundar Subramanian
तुम स्वर बन आये हो
Saraswati Bajpai
परवाह
Anamika Singh
यादों में तेरे रहना ख्वाबों में खो जाना
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
ज़ाफ़रानी
Anoop 'Samar'
ख़ुलूसो - अम्न के साए में काम करती हूँ
Dr Archana Gupta
कौन बता
Dr fauzia Naseem shad
जागो।
Anil Mishra Prahari
अजीज
shabina. Naaz
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
युवाको मानसिकता (नेपाली लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
बेचूराम
Shekhar Chandra Mitra
* तेरी चाहत बन जाऊंगा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️न जाने वो कौन से गुनाहों की सज़ा दे रहा...
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
मैं पिता हूं।
Taj Mohammad
गीतायाः पाठ:।
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अपना अपना आवेश....
Ranjit Tiwari
हिन्दू धर्म और अवतारवाद
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
हो गई स्याह वह सुबह
gurudeenverma198
✍️पिता:एक किरण✍️
'अशांत' शेखर
Loading...