Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jul 2021 · 5 min read

चौपई /जयकारी छंद

#चौपई/जयकारी/जयकरी छंद‌

चार चरण,प्रत्येक चरण में 15 मात्राएँ,
विशेष ध्यान ——-प्रत्येक चरण में आठ – सात पर यति
अंत में गुरु लघु 21 (ताल). दो-दो चरण समतुकांत।

आठ -सात यति समझाने के लिए प्रत्येक चरण में अल्प विराम लगा रहा हूँ , बैसे लगाना जरुरी नहीं है

चौपई छंद‌ (12 जुलाई)

कैसे बढ़ती , उनकी शान | खुद जो गाते , अपना गान ||
समझें दूजों , को नादान | पर चाहें खुद का सम्मान ||

सबसे कहते हवा प्रचंड | पर यह होता , वेग घमंड ||
रखते अपने , मन में रार | खाते रहते , खुद ही खार ||

बनता मानव, खुद ही भूप | सागर छोड़े , खोजे कूप ||
नहीं आइना, देखे रूप | अंधा बनता, पाकर धूप ||

बढ़ता कटता , है नाखून | सच्चा होता‌ , है कानून ||
करते लागू‌‌ , जो फानून | मर्यादा का , होता खून ||

(फानून =मनमर्जी कानून ){देशज शब्द है )

चौपइ (जयकरी छंद )

मिले नाम के हैं उपहास |
अन्वेषण में लगा सुभास ||
हैं तस्वीरें बड़ी विचित्र |
नहीं नाम से मिलें चरित्र ||

नहीं मंथरा मिलता नाम |
पर दिखते हैं उसके काम ||
गिनती में हैं लाख करोड़ |
मिले न जिनके कोई तोड़ ||

नहीं कैकयी नारी नाम |
पर मिलते हैं उसके काम ||
तजे आज भी दशरथ प्राण |
मिलें देखने कई प्रमाण ||

घर-घर में पनपें षड्यंत्र |
फूँक मुहल्ला जाता मंत्र ||
सीता बैठी करे विचार –
समझ परे हैं सब व्यवहार |

नहीं विभीषण मिलता नाम |
अनुज करें पर भेदी काम ||
शूर्पणखा के मिलते काम |
नाक कटा जो लोटे शाम ||

देखे मामा हैं मारीच |
मचा गये जो छल से कीच ||
नहीं नाम के मिलते मेल |
पर दिख जाते छल के खेल ||

सुभाष ‌सिंघई जतारा टीकमगढ़
=========================

#चौपई/जयकारी/जयकरी छंद. #मुक्तक
यह छंद के चार चरण का मुत्तक है
दो‌ युग्म जोड़कर भी मुक्तक सृजन हो सकता है ,जिसका उदाहरण आगे लिखा है

बढ़ता कटता , है नाखून |
सच्चा होता‌ , है कानून |
करते लागू‌‌ , जो भी रार –
मर्यादा का , होता खून |

कैसे बढ़ती उनकी‌ शान |
खुद जो गाते , अपना गान |
उल्टी – सीधी , चलते‌ चाल ~
समझें दूजों , को नादान |

सबसे कहते हवा प्रचंड |
पर यह होता , वेग घमंड |
रखे दुश्मनी , मन में ठान ~
खाता रहता , खुद ही दंड |

बनता मानव, खुद ही भूप |
सागर छोड़े , खोजे कूप |
नहीं करे वह , रस का पान ~
अंधा बनता, पाकर धूप |

लिखता मुक्तक , यहाँ सुभाष |
चौपई छंद , रखे प्रकाश |
पर सच मानो , वह अंजान ~
कदम रखे वह , कुछ है खास |
======================
दो‌ युग्म जोड़कर भी मुक्तक सृजन हो सकता है

कैसे बढ़ती उनकी‌ शान , खुद जो गाते , अपना गान |
समझें दूजों , को नादान , पर चाहें खुद , का सम्मान |
सबसे कहते हवा प्रचंड , पर यह होता , वेग. घमंड ~
टूटे पत्थर , सा हो खंड , रखे दुश्मनी , मन में ठान |

=================================
#चौपई/जयकारी/जयकरी छंद. #गीतिका( 14 जुलाई )

इस तरह भी चौपई गीतिका लिखी जा सकती है , पर आठ सात -आठ सात पर 21 से यति करके तीस मात्रा की

कैसे बढ़ती उनकी‌ शान , खुद जो गाते , अपना गान |
समझें दूजों , को नादान , पर चाहें खुद , का सम्मान ||

सबसे कहते हवा प्रचंड , पर यह होता , वेग घमंड ,
टूटे पत्थर , सा हो खंड , रखे दुश्मनी , मन में ठान |

बनता मानव, खुद ही भूप , सागर छोड़े , खोजे कूप ,
अंधा बनता, पाकर धूप , नहीं करे वह , रस का पान |

बढ़ता कटता , है नाखून , सच्चा होता‌ , है कानून ,
करते लागू‌‌ , जो फानून , मर्यादा का , है नुकसान ||

लिखे गीतिका , यहाँ सुभाष , चौपई छंद , का आभाष ,
कदम उठाता , कुछ है खास , पर सच मानो , वह अंजान |

या

इस तरह भी चौपई गीतिका लिखी जा सकती है , पर आठ सात -आठ सात पर 21 से यति करके तीस मात्रा की

कैसे उनका , माने भार , खुद जो गाते , अपना गान |
समझें दूजों , को बेकाम , पर चाहें खुद , का सम्मान ||

सबसे कहते हवा सुजान , पर है करते , सदा घमंड ,
खाता रहता , खुद ही खार , रखे दुश्मनी , मन में ठान |

देखा मानव, का है ज्ञान , सागर छोड़े , खोजे कूप ,
अंधा बनता, पाकर साथ , नहीं करे वह , रस का पान |

बढ़ती कटती , देखी डाल , सच्चा होता‌ , यहाँ उसूल ,
करते लागू‌‌ , अपना जोर , मर्यादा का , है नुकसान ||

लिखे गीतिका , यहाँ सुभाष , चौपई छंद , रखे प्रकाश ,
करता साहस , सबके बीच , पर सच मानो ,है अंजान |
========================

चौपई छंद‌ गीत (आठ- सात की क्रमश: यति रखते हुए )15 जुलाई

कैसे बढ़ती , उनकी शान , खुद जो गाते , अपना गान | मुखड़ा‌
समझें दूजों , को नादान , पर चाहें खुद का सम्मान || टेक

सबसे कहते हवा प्रचंड , पर यह होता , वेग घमंड |अंतरा
रखता अपने , मन में रार , खाता रहता , खुद ही खार ||
करता सबसे‌, जमकर बैर‌, और मचाता‌ , है तूफान | पूरक
समझें दूजों , ~~~~~~~~~~~~~`~~~~~~~~|| टेक

बनता मानव, खुद ही भूप ,सागर छोड़े , खोजे कूप |अंतरा
नहीं आइना, देखे रूप , अंधा बनता, पाकर धूप ||
पागल बनता , जग में घूम , करे सभी से , रारा ठान | पूरक
समझें दूजों ~~~`~~~~~~~~~~~~~~~~~~~||टेक

बढ़ता कटता , है नाखून , सच्चा होता‌ , है कानून |अंतरा
करते लागू‌‌ , जो फानून , मर्यादा का , होता खून ||
अब कवि सुभाष , करे आभाष ,उन्हें प्रेम का , कैसा दान |पूरक
समझें दूजों ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~||टेक

`~`~~“

चौपइ छंद ( जयकरी छंद) गीत
तीन चौकल + गाल या 8- 7

अजब गजब लगते दरबार , कागा करते हैं उपचार |
जहर हवा में अपरम्पार , साँस खींचना हैं दुश्वार ||

आज समय का लगता फेर, हर कारज में होती देर |
देखा हमने कच्चा बेर , पकवानों में बनता शेर ||
सच्ची कहता झूठ निहार , बगुला पहने कंठीहार |
जहर हवा में अपरम्पार , साँस खींचना है दुश्वार ||

पैदा है जो अब हालात , कौन सुनेगा‌ सच्ची बात |
सत्य यहाँ अब खाता मात , मिलती रहती उसको घात ||
तम का घेरा बोता खार , नागफनी फैली हर द्वार‌ |
जहर हवा में अपरम्पार , साँस खींचना है दुश्वार ||

जगह- जगह पर दिखती झोल , मिले पोल में हमको पोल |
खट्टा खाते मीठे बोल , झूठ यहाँ पर है अनमोल ||
छिपी छिपकली है दीवार , जहाँ राम का चित्र शुमार |
जहर हवा में अपरम्पार , साँस खींचना है दुश्वार |

सुभाष सिंघई

~~~
यह छंद बाल कविता में उपयोगी है

#विधा जयकरी छंद आधारित बाल कविता

जंगल का राजा है शेर |
सब झुकने को करें न देर ||
चमचा उसका बना सियार |
करता रहता जय जयकार ||

किया शेर ने एक शिकार |
आकर बोला तभी सियार ||
मत खाना इसको सरदार |
यह था टीवी का बीमार ||

छोड़‌ शेर ने वहाँ शिकार |
चला गया पर्वत के पार ||
तब सियार का माया जाल |
लगा मुफ्त का खाने माल ||

पर शिकार था सच बीमार |
अकल ठिकाने लगी सियार ||
आए डाक्टर बंदरराज |
भूखा रखकर करें इलाज |

सुभाष सिंघई

~~~~~~`

बंदर काकू हैं बाजार |
फल को माँगे वहाँ उधार ||
कहते फिर दे दूगाँ दाम |
अभी दीजिए हमको आम ||

फल वाला भी था हुश्यार |
कहता नियम बना इस बार ||
आज नगद- कल मिले उधार |
बात समझना तुम सरदार ||

समझ गया सब बंदर बात |
दिखा रहा यह अपनी जात ||
कभी न आए कल संसार |
सदा आज ही है उपहार ||

आम उठाकर चढ़ा मकान |
बोला बंदर हे श्रीमान ||
आज तुम्हारे लेता आम |
कल मैं दूगाँ पूरे दाम ||

चुके उधारी उठें सवाल |
बंदर कहता देगें काल ||
फलवाला जब बोले आज |
बंदर दे कल की आवाज ||

सुभाष सिंघई

जयकरी छंद आधारित बाल कविता लिखकर मैनें अपने पौत्र को याद कराई थी , वह इसे सबको सुनाता है

मैं घर का हूँ राजकुमार |
सब करते हैं मुझसे प्यार ||
पापा लेते है पुचकार |
मम्मी करती सदा दुलार ||

मेरी दीदी करे दुलार |
कहती मुझसे तू उपहार ||
राजा भैया कहती बोल |
मैं लगता उसको अनमोल ||

मेरे दादा सुनो सुभास |
देते मुझको ज्ञान प्रकाश ||
विजया दादी रहे निहाल |
रखती मेरा हरदम ख्याल ||

मामा मामी मेरे खास |
रहते दिल्ली जहाँ उजास ||
नाम रखा है सुनो श्रयान |
पर मामू कहते है शान ||

मेरी है दो बुआ महान |
खजुराहो सागर शुभ स्थान ||
टीकमगढ़ नानी का वास |
आशीषों का दें आभाष ||

अब मैं जाता हूँ स्कूल |
मानू मैडम के सब रूल ||
मैं कहता हूँ उनको मेम |
पर वह लेती‌ मेरा नेम || 🤗

सुभाष सिंघई

========================
समस्त उदाहरण स्वरचित व मौलिक
-©सुभाष सिंघई जतारा टीकमगढ़ म० प्र०
एम•ए• हिंदी साहित्य ,दर्शन शास्त्र

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 2027 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हमेशा..!!
हमेशा..!!
'अशांत' शेखर
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Insaan badal jata hai
Insaan badal jata hai
Aisha Mohan
My Precious Gems
My Precious Gems
Natasha Stephen
ज़िंदगी चाँद सा नहीं करना
ज़िंदगी चाँद सा नहीं करना
Shweta Soni
खुशी ( Happiness)
खुशी ( Happiness)
Ashu Sharma
तेज़ाब का असर
तेज़ाब का असर
Atul "Krishn"
जोड़ियाँ
जोड़ियाँ
SURYA PRAKASH SHARMA
हरियाणा दिवस की बधाई
हरियाणा दिवस की बधाई
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दूसरों की लड़ाई में ज्ञान देना बहुत आसान है।
दूसरों की लड़ाई में ज्ञान देना बहुत आसान है।
Priya princess panwar
फ़र्क
फ़र्क
Dr. Pradeep Kumar Sharma
इस क्षितिज से उस क्षितिज तक देखने का शौक था,
इस क्षितिज से उस क्षितिज तक देखने का शौक था,
Smriti Singh
I've lost myself
I've lost myself
VINOD CHAUHAN
"तेरे वादे पर"
Dr. Kishan tandon kranti
हिन्दी के साधक के लिए किया अदभुत पटल प्रदान
हिन्दी के साधक के लिए किया अदभुत पटल प्रदान
Dr.Pratibha Prakash
श्रेष्ठ बंधन
श्रेष्ठ बंधन
Dr. Mulla Adam Ali
भारत कि गौरव गरिमा गान लिखूंगा
भारत कि गौरव गरिमा गान लिखूंगा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
वो पेड़ को पकड़ कर जब डाली को मोड़ेगा
वो पेड़ को पकड़ कर जब डाली को मोड़ेगा
Keshav kishor Kumar
2558.पूर्णिका
2558.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रक्षाबंधन का त्यौहार
रक्षाबंधन का त्यौहार
Ram Krishan Rastogi
बांदरो
बांदरो
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
इंतजार
इंतजार
Pratibha Pandey
तोड़कर दिल को मेरे इश्क़ के बाजारों में।
तोड़कर दिल को मेरे इश्क़ के बाजारों में।
Phool gufran
औरत बुद्ध नहीं हो सकती
औरत बुद्ध नहीं हो सकती
Surinder blackpen
जमाना है
जमाना है
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
एक फूल
एक फूल
अनिल "आदर्श"
*एक (बाल कविता)*
*एक (बाल कविता)*
Ravi Prakash
हो रही है ये इनायतें,फिर बावफा कौन है।
हो रही है ये इनायतें,फिर बावफा कौन है।
पूर्वार्थ
■ नि:शुल्क सलाह।।😊
■ नि:शुल्क सलाह।।😊
*प्रणय प्रभात*
............
............
शेखर सिंह
Loading...