Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Mar 2024 · 1 min read

चोर उचक्के बेईमान सब, सेवा करने आए

कितना आकर्षण है सत्ता का,पल भर चैन न आए
कई दल तोड़े कई बनाए, फिर भी कुर्सी से नहीं अघाए
वोटों की तैयार हैं फसलें,कई चैतुए आए
नए नए मोर्चे बना बना, जनता को भरमाए
चोर उचक्के बेईमान सब, सेवा करने आए
गले गले तक भ्रष्टाचार में डूबे, कट्टर ईमानदार बताए
चोरी और फिर सीनाजोरी,जैलों से सरकार चलाए
खाकर शपथ संविधान की,माल चकाचक खाए
कैसे पहचानें इनको, बात समझ न आए
मुंख पर है जनता की सेवा, और अंदर मेवा ही मेवा
चल नहीं सकता है पग भर, फिर भी सरकार चलाए
कैसे कैसे दल और नेता, इनसे भगवान बचाए
नहीं नीति रीति न धर्म-कर्म, कुर्सी को ललचाए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

Language: Hindi
99 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
*फंदा-बूँद शब्द है, अर्थ है सागर*
*फंदा-बूँद शब्द है, अर्थ है सागर*
Poonam Matia
#आह्वान_तंत्र_का
#आह्वान_तंत्र_का
*Author प्रणय प्रभात*
मेरी मजबूरी को बेवफाई का नाम न दे,
मेरी मजबूरी को बेवफाई का नाम न दे,
Priya princess panwar
बोलता इतिहास 🙏
बोलता इतिहास 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अरुणोदय
अरुणोदय
Manju Singh
*अपना भारत*
*अपना भारत*
मनोज कर्ण
सफर की यादें
सफर की यादें
Pratibha Pandey
वह नारी है
वह नारी है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
वर्तमान
वर्तमान
Shyam Sundar Subramanian
*रखिए जीवन में सदा, सबसे सद्व्यवहार (कुंडलिया)*
*रखिए जीवन में सदा, सबसे सद्व्यवहार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
घर सम्पदा भार रहे, रहना मिलकर सब।
घर सम्पदा भार रहे, रहना मिलकर सब।
Anil chobisa
तुलसी युग 'मानस' बना,
तुलसी युग 'मानस' बना,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आसमान में छाए बादल, हुई दिवस में रात।
आसमान में छाए बादल, हुई दिवस में रात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
आता है उनको मजा क्या
आता है उनको मजा क्या
gurudeenverma198
मैं उन लोगो में से हूँ
मैं उन लोगो में से हूँ
Dr Manju Saini
" जलाओ प्रीत दीपक "
Chunnu Lal Gupta
" from 2024 will be the quietest era ever for me. I just wan
पूर्वार्थ
वो इँसा...
वो इँसा...
'अशांत' शेखर
टाँगतोड़ ग़ज़ल / MUSAFIR BAITHA
टाँगतोड़ ग़ज़ल / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
धर्म ज्योतिष वास्तु अंतराष्ट्रीय सम्मेलन
धर्म ज्योतिष वास्तु अंतराष्ट्रीय सम्मेलन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
2843.*पूर्णिका*
2843.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
खुद को इतना हंसाया है ना कि
खुद को इतना हंसाया है ना कि
Rekha khichi
ज़माने की निगाहों से कैसे तुझपे एतबार करु।
ज़माने की निगाहों से कैसे तुझपे एतबार करु।
Phool gufran
.......शेखर सिंह
.......शेखर सिंह
शेखर सिंह
चला गया
चला गया
Mahendra Narayan
केतकी का अंश
केतकी का अंश
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
संबंधो में अपनापन हो
संबंधो में अपनापन हो
संजय कुमार संजू
मुझे नहीं पसंद किसी की जीहुजूरी
मुझे नहीं पसंद किसी की जीहुजूरी
ruby kumari
दूजी खातून का
दूजी खातून का
Satish Srijan
किस क़दर
किस क़दर
हिमांशु Kulshrestha
Loading...