Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2024 · 1 min read

चाँद और इन्सान

फलक पर मुस्कुरा,
रहा था चाँद,
अपनी तन्हाई के साथ,
हमने पूछा – ऐ चाँद,
क्यों हो इस कदर उदास?
तुम्हारी इस खामोश तन्हाई,
का कुछ तो होगा राज,
कुछ पल के लिए ही सही,
हमें अपना हमराज बना लो,
अगर न हो कोई ऐतराज,
यह राज हमसे कह डालो।

मुस्कुरा कर चाँद ; एक
फीकी सी हँसी हँस दिया,
बोला – मैं हैरान हूँ,
इन्सान के बदलते‌ रंग – ढंग,
देखकर परेशान हूँ ; रोज ही,
मैं फलक के एक छोर से,
दूसरे छोर तक आता – जाता हूँ,
मुझमें कोई परिवर्तन नहीं आया है।

किन्तु इन्सान की फितरत,
मैं कभी समझ नहीं पाया हूँ,
हर दिन एक नये‌ रूप में,
यह‌ सामने आता है,
न जाने रोज नये करतब,
कहाँ से‌ सीख आता है?

हमने कहा – ऐ चाँद,
क्यों हो इस‌ कदर खफा,
कुछ कमी तो तुममें भी रही होगी,
कि तुम इन्सान को समझ नहीं पाये,
तुम्हारा तो आसमान का सीधा सफर है,
तुम जमीं की जिन्दगी को नहीं जानते।

यहाँ रोज ही कितनी मजबूरियाँ,
मुश्किलें पेश आती हैं,
इन्सान को नये-नये रंग-ढंग सिखाती हैं,
सीधे – सादे इन्सान को,
पत्थरदिल और कठोर बनाती हैं।
शुक्र करो –
तुम फलक पर‌ टँगे हो,
नीचे जमीं‌ पर नहीं आते,
आज इन्सान को दे रहे हो दोष,
मुमकिन है तब तुम भी बदल जाते।

रचनाकार :- कंचन खन्ना,
मुरादाबाद, (उ०प्र०, भारत) ।
वर्ष :- २०१३.

Language: Hindi
50 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kanchan Khanna
View all
You may also like:
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
बस यूँ ही
बस यूँ ही
Neelam Sharma
समय
समय
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कुछ पाने के लिए
कुछ पाने के लिए
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
महान् बनना सरल है
महान् बनना सरल है
प्रेमदास वसु सुरेखा
*कड़वाहट केवल ज़ुबान का स्वाद ही नहीं बिगाड़ती है..... यह आव
*कड़वाहट केवल ज़ुबान का स्वाद ही नहीं बिगाड़ती है..... यह आव
Seema Verma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
सभी धर्म महान
सभी धर्म महान
RAKESH RAKESH
मैं फूलों पे लिखती हूँ,तारों पे लिखती हूँ
मैं फूलों पे लिखती हूँ,तारों पे लिखती हूँ
Shweta Soni
दिल जीत लेगी
दिल जीत लेगी
Dr fauzia Naseem shad
चलो आज कुछ बात करते है
चलो आज कुछ बात करते है
Rituraj shivem verma
"जरा देख"
Dr. Kishan tandon kranti
I want my beauty to be my identity
I want my beauty to be my identity
Ankita Patel
तब मानोगे
तब मानोगे
विजय कुमार नामदेव
कठिन परिश्रम साध्य है, यही हर्ष आधार।
कठिन परिश्रम साध्य है, यही हर्ष आधार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
स्थायित्व कविता
स्थायित्व कविता
Shyam Pandey
*गाओ  सब  जन  भारती , भारत जिंदाबाद   भारती*   *(कुंडलिया)*
*गाओ सब जन भारती , भारत जिंदाबाद भारती* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मसरूफियत बढ़ गई है
मसरूफियत बढ़ गई है
Harminder Kaur
💐प्रेम कौतुक-306💐
💐प्रेम कौतुक-306💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ सेवाएं ऑनलाइन भी उपलब्ध।
■ सेवाएं ऑनलाइन भी उपलब्ध।
*Author प्रणय प्रभात*
भगवान महाबीर
भगवान महाबीर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आज बहुत दिनों के बाद आपके साथ
आज बहुत दिनों के बाद आपके साथ
डा गजैसिह कर्दम
कुछ बातें ईश्वर पर छोड़ दें
कुछ बातें ईश्वर पर छोड़ दें
Sushil chauhan
रिश्तों को तू तोल मत,
रिश्तों को तू तोल मत,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तुमसे मोहब्बत हमको नहीं क्यों
तुमसे मोहब्बत हमको नहीं क्यों
gurudeenverma198
मानव मूल्य शर्मसार हुआ
मानव मूल्य शर्मसार हुआ
Bodhisatva kastooriya
*
*"बसंत पंचमी"*
Shashi kala vyas
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक - अरुण अतृप्त  - शंका
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक - अरुण अतृप्त - शंका
DR ARUN KUMAR SHASTRI
किसान का दर्द
किसान का दर्द
Tarun Singh Pawar
सबक ज़िंदगी पग-पग देती, इसके खेल निराले हैं।
सबक ज़िंदगी पग-पग देती, इसके खेल निराले हैं।
आर.एस. 'प्रीतम'
Loading...