Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 8, 2016 · 1 min read

चाहता हूँ साथ में माँ भी रहे आराम से

चाहता हूँ साथ में माँ भी रहे आराम से ।
पैर में मालिश करूँ जब भी आऊ काम से ।।

गाँव की गलियाँ बताती काम करती रातदिन ।
स्वप्न में भी नाम रटती आशीष राजू लाला विपिन ।।

गाय की सेवा वो करती पापा जी के साथ में ।
पूर्णमासी ब्रत कथा किताब रखती हाथ में ।।

चारों बेटों का भला हो कहती है भगवान से ।
चाहता हूँ साथ में माँ भी रहे आराम से ।।

याद आते दिन पुराने मैं भी रोता हूँ यहाँ ।
माँ का दिल है जान जाती वो भी रोती है वहा ।।

वायु सेना में है राजू हर समय सूली चढ़ा ।
झेलकर सारी मुसीबत पैरो पर जुगनू खड़ा ।।

छोटे भाई से है कहती तुम ना लड़ना राम से ।
चाहता हूँ साथ में माँ भी रहे आराम से ।।

आज तक पैसे नहीं ली रहती पुराने हाल में ।
देख आता हूँ गरीबी छ महीना साल में ।।

घर बनाके साथ में तेरे पास ही रहना मुझे ।
माँ सुनाना लोरियाँ दहिजार भी कहना मुझे ।।

पुण्य ज्यादा है तेरे चरणों में चारोधाम से ।
चाहता हूँ साथ में माँ भी रहे आराम से ।।

168 Views
You may also like:
"कभी मेरा ज़िक्र छिड़े"
Lohit Tamta
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
✍️✍️असर✍️✍️
"अशांत" शेखर
दाने दाने पर नाम लिखा है
Ram Krishan Rastogi
वक्त मलहम है।
Taj Mohammad
साजन जाए बसे परदेस
Shivkumar Bilagrami
मोर के मुकुट वारो
शेख़ जाफ़र खान
तमन्ना ए कल्ब।
Taj Mohammad
दुआ
Alok Saxena
समीक्षा -'रचनाकार पत्रिका' संपादक 'संजीत सिंह यश'
Rashmi Sanjay
भाग्य लिपि
ओनिका सेतिया 'अनु '
तिलका छंद "युद्ध"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
गांव का भोलापन ना रह गया है।
Taj Mohammad
आज के नौजवान
DESH RAJ
प्रेरक संस्मरण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
माँ
संजीव शुक्ल 'सचिन'
रिश्तों की कसौटी
VINOD KUMAR CHAUHAN
*श्री विष्णु शरण अग्रवाल सर्राफ के गीता-प्रवचन*
Ravi Prakash
शायद...
Dr. Alpa H. Amin
कविता - राह नहीं बदलूगां
Chatarsingh Gehlot
# महकता बदन #
DR ARUN KUMAR SHASTRI
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
बेजुबां जीव
Jyoti Khari
देशभक्ति के पर्याय वीर सावरकर
Ravi Prakash
कभी कभी।
Taj Mohammad
माँ
Dr. Meenakshi Sharma
सही दिशा में
Ratan Kirtaniya
सफलता की कुंजी ।
Anamika Singh
जो बीत गई।
Taj Mohammad
जय सियाराम जय-जय राधेश्याम …
Mahesh Ojha
Loading...