Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2016 · 1 min read

चाहता हूँ साथ में माँ भी रहे आराम से

चाहता हूँ साथ में माँ भी रहे आराम से ।
पैर में मालिश करूँ जब भी आऊ काम से ।।

गाँव की गलियाँ बताती काम करती रातदिन ।
स्वप्न में भी नाम रटती आशीष राजू लाला विपिन ।।

गाय की सेवा वो करती पापा जी के साथ में ।
पूर्णमासी ब्रत कथा किताब रखती हाथ में ।।

चारों बेटों का भला हो कहती है भगवान से ।
चाहता हूँ साथ में माँ भी रहे आराम से ।।

याद आते दिन पुराने मैं भी रोता हूँ यहाँ ।
माँ का दिल है जान जाती वो भी रोती है वहा ।।

वायु सेना में है राजू हर समय सूली चढ़ा ।
झेलकर सारी मुसीबत पैरो पर जुगनू खड़ा ।।

छोटे भाई से है कहती तुम ना लड़ना राम से ।
चाहता हूँ साथ में माँ भी रहे आराम से ।।

आज तक पैसे नहीं ली रहती पुराने हाल में ।
देख आता हूँ गरीबी छ महीना साल में ।।

घर बनाके साथ में तेरे पास ही रहना मुझे ।
माँ सुनाना लोरियाँ दहिजार भी कहना मुझे ।।

पुण्य ज्यादा है तेरे चरणों में चारोधाम से ।
चाहता हूँ साथ में माँ भी रहे आराम से ।।

Language: Hindi
Tag: कविता
258 Views
You may also like:
उम्मीदों का सूरज
Shoaib Khan
भोक
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
■ मुक्तक / दिल हार गया
*Author प्रणय प्रभात*
यूं भी तेरी उलफत का .....
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
*छतरी ने कमाल दिखलाया (बाल कविता)*
Ravi Prakash
आखिर कौन हो तुम?
Satish Srijan
अपने और जख्म
Anamika Singh
दिला दअ हो अजदिया
Shekhar Chandra Mitra
भूल गयी वह चिट्ठी
Buddha Prakash
🗿🗿आपको याद किया याद किया।🗿🗿
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
“ लूकिंग टू लंदन एण्ड टाकिंग टू टोकियो “
DrLakshman Jha Parimal
अंगडाई अंग की, वो पुकार है l
अरविन्द व्यास
" बुलबुला "
Dr Meenu Poonia
✍️अल्फाज़ो का कोहिनूर "ताज मोहम्मद"✍️
'अशांत' शेखर
पुस्तक समीक्षा
Rashmi Sanjay
गीत-बेटी हूं हमें भी शान से जीने दो
SHAMA PARVEEN
शराफत में इसको मुहब्बत लिखेंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
जिंदगी
लक्ष्मी सिंह
आई लव यू / आई मिस यू
N.ksahu0007@writer
जिंदगी भी क्या है
shabina. Naaz
. खुशी
Vandana Namdev
किन्नर बेबसी कब तक ?
Dr fauzia Naseem shad
पेड़ पौधों के बीच में
जगदीश लववंशी
रावण के मन की व्यथा
Ram Krishan Rastogi
प्यार-दिल की आवाज़
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
^^बहरूपिये लोग^^
गायक और लेखक अजीत कुमार तलवार
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*"वो दिन जो हम साथ गुजारे थे"*
Shashi kala vyas
हाँ, मैं ऐसा तो नहीं था
gurudeenverma198
आधा इंसान
GOVIND UIKEY
Loading...