Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Dec 2023 · 1 min read

*चलो अयोध्या रामलला के, दर्शन करने चलते हैं (भक्ति गीत)*

चलो अयोध्या रामलला के, दर्शन करने चलते हैं (भक्ति गीत)
—————————————-
चलो अयोध्या रामलला के, दर्शन करने चलते हैं
1)
सदियों से थी प्यास हृदय में, पूरी अब हो पाई
अवधपुरी में ध्वजा राम की, आलौकिक फहराई
घर-घर सौ-सौ दीपक घी के, खुशियों के अब जलते हैं
2)
जन्म राम का था अवतारी, समझ सभी को आया
रामचरितमानस तुलसी का, यों संपूर्ण कहाया
जमे हुए जो सदियों से थे, वह हिमखंड पिघलते हैं
3)
राम तारते आए जग को, राम हमें तारेंगे
सज्जन अभय-दान पाऍंगे, दुष्टों को मारेंगे
दुर्दिन कितने भी लंबे हों, संकल्पों से ढलते हैं
चलो अयोध्या रामलला के, दर्शन करने चलते हैं
—————————————-
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

173 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
Never forget
Never forget
Dhriti Mishra
कुत्ते की पूंछ भी
कुत्ते की पूंछ भी
*Author प्रणय प्रभात*
ज़िंदगी इतनी मुश्किल भी नहीं
ज़िंदगी इतनी मुश्किल भी नहीं
Dheerja Sharma
मुक्तक
मुक्तक
डॉक्टर रागिनी
* खुशियां मनाएं *
* खुशियां मनाएं *
surenderpal vaidya
कसरत करते जाओ
कसरत करते जाओ
Harish Chandra Pande
Moti ki bhi ajib kahani se , jisne bnaya isko uska koi mole
Moti ki bhi ajib kahani se , jisne bnaya isko uska koi mole
Sakshi Tripathi
खुशी की तलाश
खुशी की तलाश
Sandeep Pande
"तफ्तीश"
Dr. Kishan tandon kranti
"गाँव की सड़क"
Radhakishan R. Mundhra
💐प्रेम कौतुक-349💐
💐प्रेम कौतुक-349💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रात……!
रात……!
Sangeeta Beniwal
धन ..... एक जरूरत
धन ..... एक जरूरत
Neeraj Agarwal
मुझे क्रिकेट के खेल में कोई दिलचस्पी नही है
मुझे क्रिकेट के खेल में कोई दिलचस्पी नही है
ruby kumari
मुस्कराओ तो फूलों की तरह
मुस्कराओ तो फूलों की तरह
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
किताब का दर्द
किताब का दर्द
Dr. Man Mohan Krishna
कहाँ चल दिये तुम, अकेला छोड़कर
कहाँ चल दिये तुम, अकेला छोड़कर
gurudeenverma198
पापा
पापा
Kanchan Khanna
बेटियाँ
बेटियाँ
विजय कुमार अग्रवाल
आपके स्वभाव की सहजता
आपके स्वभाव की सहजता
Dr fauzia Naseem shad
पाप का भागी
पाप का भागी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मुझे मेरी फितरत को बदलना है
मुझे मेरी फितरत को बदलना है
Basant Bhagawan Roy
2695.*पूर्णिका*
2695.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बंद करो अब दिवसीय काम।
बंद करो अब दिवसीय काम।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
*राधा जी आओ खेलो, माधव के सॅंग मिल होली (गीत)*
*राधा जी आओ खेलो, माधव के सॅंग मिल होली (गीत)*
Ravi Prakash
क्या सत्य है ?
क्या सत्य है ?
Buddha Prakash
मैं 🦾गौरव हूं देश 🇮🇳🇮🇳🇮🇳का
मैं 🦾गौरव हूं देश 🇮🇳🇮🇳🇮🇳का
डॉ० रोहित कौशिक
ज़ख्म दिल में छुपा रखा है
ज़ख्म दिल में छुपा रखा है
Surinder blackpen
ମଣିଷ ଠାରୁ ଅଧିକ
ମଣିଷ ଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
Loading...