Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Aug 2023 · 1 min read

चंद्रयान-3

#कविता :- #चंद्रयान-3

हे चंद्रयान तुम बने महान।
मान गया तुम्हें सकल जहान।।

करके सफल आज अभियान।
इसरो ने बढ़ाई भारत की शान।।

अब नंबर वन हम कहलाये।
भारत को दी एक नयी पहचान।।

देखते ही रह गये रूस, जापान।
अमेरिका,चीन और पाकिस्तान।।

वैज्ञानिकों तुम्हें करते नमन।
वन्देमातरम, जय हिन्दुस्तान।।

**** दिनांक-23-8-2023

© #राजीव_नामदेव “#राना_लिधौरी” #टीकमगढ़
संपादक “#आकांक्षा” पत्रिका
संपादक- ‘#अनुश्रुति’ त्रैमासिक बुंदेली ई पत्रिका
जिलाध्यक्ष म.प्र. लेखक संघ टीकमगढ़
अध्यक्ष #वनमाली सृजन केन्द्र टीकमगढ़
नई चर्च के पीछे, शिवनगर कालोनी,
टीकमगढ़ (मप्र)-472001
#rajeev_namdeo_rana_lidhori
#jai_bundeli_sahitya_samoh_tikamgarh
#जय_बुंदेली_साहित्य_समूह
#ISRO #ISRO #चंद्रयान #इसरो

1 Like · 382 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
" आज़ का आदमी "
Chunnu Lal Gupta
अपनों की ठांव .....
अपनों की ठांव .....
Awadhesh Kumar Singh
बाल कविता :गर्दभ जी
बाल कविता :गर्दभ जी
Ravi Prakash
साँसें कागज की नाँव पर,
साँसें कागज की नाँव पर,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"ऐसा मंजर होगा"
पंकज कुमार कर्ण
जागेगा अवाम
जागेगा अवाम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आज कोई नही अनजान,
आज कोई नही अनजान,
pravin sharma
कसम है तुम्हें भगतसिंह की
कसम है तुम्हें भगतसिंह की
Shekhar Chandra Mitra
तो क्या हुआ
तो क्या हुआ
Sûrëkhâ Rãthí
इंसानियत
इंसानियत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ठंडक
ठंडक
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
* जिन्दगी में *
* जिन्दगी में *
surenderpal vaidya
फिर एक पल भी ना लगा ये सोचने में........
फिर एक पल भी ना लगा ये सोचने में........
shabina. Naaz
शुभ रात्रि मित्रों.. ग़ज़ल के तीन शेर
शुभ रात्रि मित्रों.. ग़ज़ल के तीन शेर
आर.एस. 'प्रीतम'
Sharminda kyu hai mujhse tu aye jindagi,
Sharminda kyu hai mujhse tu aye jindagi,
Sakshi Tripathi
जीभ का कमाल
जीभ का कमाल
विजय कुमार अग्रवाल
संत गोस्वामी तुलसीदास
संत गोस्वामी तुलसीदास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आजकल का प्राणी कितना विचित्र है,
आजकल का प्राणी कितना विचित्र है,
Divya kumari
जीवन वो कुरुक्षेत्र है,
जीवन वो कुरुक्षेत्र है,
sushil sarna
आचार संहिता
आचार संहिता
Seema gupta,Alwar
दोस्तों के साथ धोखेबाजी करके
दोस्तों के साथ धोखेबाजी करके
ruby kumari
फितरत
फितरत
पूनम झा 'प्रथमा'
*अजब है उसकी माया*
*अजब है उसकी माया*
Poonam Matia
बुद्धिमान बनो
बुद्धिमान बनो
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
साड़ी हर नारी की शोभा
साड़ी हर नारी की शोभा
ओनिका सेतिया 'अनु '
सुन लो बच्चों
सुन लो बच्चों
लक्ष्मी सिंह
कुछ रिश्तो में हम केवल ..जरूरत होते हैं जरूरी नहीं..! अपनी अ
कुछ रिश्तो में हम केवल ..जरूरत होते हैं जरूरी नहीं..! अपनी अ
पूर्वार्थ
कविता
कविता
Rambali Mishra
Loading...