Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2024 · 1 min read

घमंड

मंजिल तो तेरी यही थी उम्र गुजर गई आते-आते l
तुझे तेरी अपनों ने ही जला दिया तुझे जाते-जाते ll

Language: Hindi
1 Like · 38 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हम जो भी कार्य करते हैं वो सब बाद में वापस लौट कर आता है ,चा
हम जो भी कार्य करते हैं वो सब बाद में वापस लौट कर आता है ,चा
Shashi kala vyas
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मुक्तक
मुक्तक
कृष्णकांत गुर्जर
'अ' अनार से
'अ' अनार से
Dr. Kishan tandon kranti
श्री कृष्ण भजन 【आने से उसके आए बहार】
श्री कृष्ण भजन 【आने से उसके आए बहार】
Khaimsingh Saini
प्रेम मे डुबी दो रुहएं
प्रेम मे डुबी दो रुहएं
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
हिंदी दिवस पर एक आलेख
हिंदी दिवस पर एक आलेख
कवि रमेशराज
बात है तो क्या बात है,
बात है तो क्या बात है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
उजाले को वही कीमत करेगा
उजाले को वही कीमत करेगा
पूर्वार्थ
ऐसी थी बेख़्याली
ऐसी थी बेख़्याली
Dr fauzia Naseem shad
मेरी माटी मेरा देश....
मेरी माटी मेरा देश....
डॉ.सीमा अग्रवाल
जीवन एक सफर है, इसे अपने अंतिम रुप में सुंदर बनाने का जिम्मे
जीवन एक सफर है, इसे अपने अंतिम रुप में सुंदर बनाने का जिम्मे
Sidhartha Mishra
हे पिता
हे पिता
अनिल मिश्र
नया साल
नया साल
'अशांत' शेखर
तेरे ख़त
तेरे ख़त
Surinder blackpen
2742. *पूर्णिका*
2742. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*वधू (बाल कविता)*
*वधू (बाल कविता)*
Ravi Prakash
बुंदेली दोहा
बुंदेली दोहा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चंद अश'आर ( मुस्कुराता हिज्र )
चंद अश'आर ( मुस्कुराता हिज्र )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
निःस्वार्थ रूप से पोषित करने वाली हर शक्ति, मांशक्ति स्वरूपा
निःस्वार्थ रूप से पोषित करने वाली हर शक्ति, मांशक्ति स्वरूपा
Sanjay ' शून्य'
"नारी जब माँ से काली बनी"
Ekta chitrangini
(25) यह जीवन की साँझ, और यह लम्बा रस्ता !
(25) यह जीवन की साँझ, और यह लम्बा रस्ता !
Kishore Nigam
अफसोस-कविता
अफसोस-कविता
Shyam Pandey
नयन कुंज में स्वप्न का,
नयन कुंज में स्वप्न का,
sushil sarna
कुछ नया लिखना है आज
कुछ नया लिखना है आज
करन ''केसरा''
दिल हमारा तुम्हारा धड़कने लगा।
दिल हमारा तुम्हारा धड़कने लगा।
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
बढ़ती हुई समझ
बढ़ती हुई समझ
शेखर सिंह
आंख में बेबस आंसू
आंख में बेबस आंसू
Dr. Rajeev Jain
बदनाम
बदनाम
Neeraj Agarwal
Loading...