Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Dec 2017 · 1 min read

“घनश्याम छंद”

“घनश्याम छंद”

मिला कर हाथ, सर्व सखा जयकार करें।
रहें जब साथ, मानव सा हुक्कार करें।।
यही मम देश, भारत है मिल हाथ रहें
दिखे जब प्रात, पर्व सखा पुर साथ रहें।।

महातम मिश्र ‘गौतम’ गोरखपुरी

Language: Hindi
1 Comment · 834 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कुंवारों का तो ठीक है
कुंवारों का तो ठीक है
शेखर सिंह
ज़िंदादिली
ज़िंदादिली
Dr.S.P. Gautam
हीरक जयंती 
हीरक जयंती 
Punam Pande
नया एक रिश्ता पैदा क्यों करें हम
नया एक रिश्ता पैदा क्यों करें हम
Shakil Alam
★मृदा में मेरी आस ★
★मृदा में मेरी आस ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
কি?
কি?
Otteri Selvakumar
"वो बुड़ा खेत"
Dr. Kishan tandon kranti
हरि लापता है, ख़ुदा लापता है
हरि लापता है, ख़ुदा लापता है
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
आत्मज्ञान
आत्मज्ञान
Shyam Sundar Subramanian
जीत मुश्किल नहीं
जीत मुश्किल नहीं
Surinder blackpen
कौन यहाँ पर पीर है,
कौन यहाँ पर पीर है,
sushil sarna
दो जीवन
दो जीवन
Rituraj shivem verma
वाह मेरा देश किधर जा रहा है!
वाह मेरा देश किधर जा रहा है!
कृष्ण मलिक अम्बाला
लंका दहन
लंका दहन
Paras Nath Jha
शीर्षक – फूलों सा महकना
शीर्षक – फूलों सा महकना
Sonam Puneet Dubey
जज्बात लिख रहा हूॅ॑
जज्बात लिख रहा हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
समंदर
समंदर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आजकल की औरते क्या क्या गजब ढा रही (हास्य व्यंग)
आजकल की औरते क्या क्या गजब ढा रही (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
-- गुरु --
-- गुरु --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
रात……!
रात……!
Sangeeta Beniwal
खुद को मैंने कम उसे ज्यादा लिखा। जीस्त का हिस्सा उसे आधा लिखा। इश्क में उसके कृष्णा बन गया। प्यार में अपने उसे राधा लिखा
खुद को मैंने कम उसे ज्यादा लिखा। जीस्त का हिस्सा उसे आधा लिखा। इश्क में उसके कृष्णा बन गया। प्यार में अपने उसे राधा लिखा
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
धन ..... एक जरूरत
धन ..... एक जरूरत
Neeraj Agarwal
शिखर पर पहुंचेगा तू
शिखर पर पहुंचेगा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
भरे मन भाव अति पावन....
भरे मन भाव अति पावन....
डॉ.सीमा अग्रवाल
आज के समय में शादियां सिर्फ एक दिखावा बन गई हैं। लोग शादी को
आज के समय में शादियां सिर्फ एक दिखावा बन गई हैं। लोग शादी को
पूर्वार्थ
💐प्रेम कौतुक-510💐
💐प्रेम कौतुक-510💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वक्त आने पर सबको दूंगा जवाब जरूर क्योंकि हर एक के ताने मैंने
वक्त आने पर सबको दूंगा जवाब जरूर क्योंकि हर एक के ताने मैंने
Ranjeet kumar patre
3155.*पूर्णिका*
3155.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हे माधव
हे माधव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
रक्षा बन्धन पर्व ये,
रक्षा बन्धन पर्व ये,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...