Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Aug 2016 · 1 min read

गज़ल :– दिल दरवाजा खोल रखा है !!

ग़ज़ल :– दिल दरवाजा खोल रखा है !!

बहर –222—-221—122 !!
!
तुम आयोगी बोल रखा है !
दिल दरवाजे खोल रखा है !!
!
समझाओ तुम इस पगले को !
अन्दर कुछ अनमोल रखा है !!
!
सुंदर साज सुडौल नहीं पर !
ये अपनी काजोल रखा है !!
!
अरमानों की प्रेम क्षुधा में !
मीठे सपने घोल रखा है !!
!
जज्बातों की मापदण्ड का !
हर नक्शा भूगोल रखा है !!

गज़लकार :– अनुज तिवारी “इन्दवार “

3 Likes · 7 Comments · 526 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Anuj Tiwari
View all
You may also like:
होली रो यो है त्यौहार
होली रो यो है त्यौहार
gurudeenverma198
"बाल-मन"
Dr. Kishan tandon kranti
रूठते-मनाते,
रूठते-मनाते,
Amber Srivastava
योगी?
योगी?
Sanjay ' शून्य'
जब किसी व्यक्ति और महिला के अंदर वासना का भूकम्प आता है तो उ
जब किसी व्यक्ति और महिला के अंदर वासना का भूकम्प आता है तो उ
Rj Anand Prajapati
जब तात तेरा कहलाया था
जब तात तेरा कहलाया था
Akash Yadav
स्वयं से सवाल
स्वयं से सवाल
आनन्द मिश्र
सँभल रहा हूँ
सँभल रहा हूँ
N.ksahu0007@writer
■ एक आलेख : भर्राशाही के खिलाफ
■ एक आलेख : भर्राशाही के खिलाफ
*Author प्रणय प्रभात*
दोहा-
दोहा-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*काल क्रिया*
*काल क्रिया*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जिस सनातन छत्र ने, किया दुष्टों को माप
जिस सनातन छत्र ने, किया दुष्टों को माप
Vishnu Prasad 'panchotiya'
ज़रा मुस्क़ुरा दो
ज़रा मुस्क़ुरा दो
आर.एस. 'प्रीतम'
चिढ़ है उन्हें
चिढ़ है उन्हें
Shekhar Chandra Mitra
Do you know ??
Do you know ??
Ankita Patel
*** रेत समंदर के....!!! ***
*** रेत समंदर के....!!! ***
VEDANTA PATEL
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
नता गोता
नता गोता
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
नवसंवत्सर लेकर आया , नव उमंग उत्साह नव स्पंदन
नवसंवत्सर लेकर आया , नव उमंग उत्साह नव स्पंदन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बचपन बेटी रूप में
बचपन बेटी रूप में
लक्ष्मी सिंह
" तुम्हारी जुदाई में "
Aarti sirsat
2756. *पूर्णिका*
2756. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*वोट को डाले बिना, हर तीर्थ-यात्रा पाप है (मुक्तक)*
*वोट को डाले बिना, हर तीर्थ-यात्रा पाप है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
मेरी ख़्वाहिश ने
मेरी ख़्वाहिश ने
Dr fauzia Naseem shad
"विचित्रे खलु संसारे नास्ति किञ्चिन्निरर्थकम् ।
Mukul Koushik
जुगनू
जुगनू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
फरिश्तों या ख़ुदा तुमको,
फरिश्तों या ख़ुदा तुमको,
Satish Srijan
कैसे गाएँ गीत मल्हार
कैसे गाएँ गीत मल्हार
संजय कुमार संजू
सच सोच ऊंची उड़ान की हो
सच सोच ऊंची उड़ान की हो
Neeraj Agarwal
इक झटका सा लगा आज,
इक झटका सा लगा आज,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
Loading...