Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2024 · 1 min read

गुलाम

शिक्षित किशोर ,
तुम मूर्ख क्यों बन रहे हो ?
ठेकेदारों की बोली के माध्यम,
तुम क्यों बन रहे हो ?

अपनी बुद्धि के मुन्ना खोलो,
तुम किसी और का बड़ी लंग्वेज क्यों बन रहे हो ?
थे ही पुरखा गुलाम,
तुम वैसे ही क्यों बन रहे हो ?

हर जगह शिल्पकार समुदाय,
तुम दूसरे का प्रतीक क्यों बन रहे हैं ?
लोकतंत्र तुम्हारे लिए आया ही नहीं,
तुम फिर भी युज बैटरी क्यों बन रहे हो ?

शासक द्वारा बनाई गई मिट्टी की मूर्तियाँ,
तुम २१वीं सदी में भी क्यों बन रहे हो ?
‘हट केक हमेशा रहा मधेश,
तुम शोषक के भूलभूलैया के प्रतीक क्यों बन रहे हो ?

तुम्हारा ही जल, जंगल, जमीन पर दूसरों का कब्जा है,
तुम दूसरों के लिए गेंद क्यों बन रहे हैं ?
नव पीढि के दादा बनने का इतिहास,
तुम अधुरा क्यो छोड रहे हो ?

तुमरा खूद का आन, वान , शान और पहचान है,
तुम फिर भी दूसरों का स्तुतिकर्ता क्यों बन रहे हो ?
स्वयं शिक्षित होकर भी,
तुम गुलाम क्यों बन रहे हो ?

#दिनेश_यादव
काठमाडौं (नेपाल)

Language: Hindi
2 Likes · 67 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
View all
You may also like:
समय के खेल में
समय के खेल में
Dr. Mulla Adam Ali
पारा बढ़ता जा रहा, गर्मी गुस्सेनाक (कुंडलिया )
पारा बढ़ता जा रहा, गर्मी गुस्सेनाक (कुंडलिया )
Ravi Prakash
क्षणिका
क्षणिका
sushil sarna
बोझ लफ़्ज़ों के दिल पे होते हैं
बोझ लफ़्ज़ों के दिल पे होते हैं
Dr fauzia Naseem shad
कानून अंधा है
कानून अंधा है
Indu Singh
"जर्दा"
Dr. Kishan tandon kranti
बरस रहे है हम ख्वाबो की बरसात मे
बरस रहे है हम ख्वाबो की बरसात मे
देवराज यादव
सोशल मीडिया पर दूसरे के लिए लड़ने वाले एक बार ज़रूर पढ़े…
सोशल मीडिया पर दूसरे के लिए लड़ने वाले एक बार ज़रूर पढ़े…
Anand Kumar
बुढ़ापा हूँ मैं
बुढ़ापा हूँ मैं
VINOD CHAUHAN
शब्द
शब्द
लक्ष्मी सिंह
बुंदेली दोहा- चंपिया
बुंदेली दोहा- चंपिया
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जय श्रीकृष्ण -चंद दोहे
जय श्रीकृष्ण -चंद दोहे
Om Prakash Nautiyal
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हाथों में डिग्री आँखों में निराशा,
हाथों में डिग्री आँखों में निराशा,
शेखर सिंह
आइसक्रीम
आइसक्रीम
Neeraj Agarwal
श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर विशेष कविता:-
श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर विशेष कविता:-
*प्रणय प्रभात*
3352.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3352.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
ये आँखे हट नही रही तेरे दीदार से, पता नही
ये आँखे हट नही रही तेरे दीदार से, पता नही
Tarun Garg
अधूरे सवाल
अधूरे सवाल
Shyam Sundar Subramanian
जाते जाते कुछ कह जाते --
जाते जाते कुछ कह जाते --
Seema Garg
#कुछ खामियां
#कुछ खामियां
Amulyaa Ratan
कोरोना - इफेक्ट
कोरोना - इफेक्ट
Kanchan Khanna
ऊंट है नाम मेरा
ऊंट है नाम मेरा
Satish Srijan
मुझे भी
मुझे भी "याद" रखना,, जब लिखो "तारीफ " वफ़ा की.
Ranjeet kumar patre
लिखना है मुझे वह सब कुछ
लिखना है मुझे वह सब कुछ
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
प्यार
प्यार
Anil chobisa
हमारा गुनाह सिर्फ यही है
हमारा गुनाह सिर्फ यही है
gurudeenverma198
अच्छा बोलने से अगर अच्छा होता,
अच्छा बोलने से अगर अच्छा होता,
Manoj Mahato
इंसान को इंसान से दुर करनेवाला केवल दो चीज ही है पहला नाम मे
इंसान को इंसान से दुर करनेवाला केवल दो चीज ही है पहला नाम मे
Dr. Man Mohan Krishna
मुझे प्यार हुआ था
मुझे प्यार हुआ था
Nishant Kumar Mishra
Loading...