Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2023 · 2 min read

गुलाब

हिंदी साहित्य प्रेमियों को सादर प्रणाम🙏🙏🙏🙏🙏🙏
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
मैने देखे फूल गुलाब के
सुन्दर अच्छे लगे मुझको
कालिया भी अच्छी थी
खुशबु भी महकी थी
रोम रोम में मेरे तो
उनको पाने की इच्छा थी
पहला प्रयास किया मैने तो
काँटा मेरे चुब गया
लाल रक्त से मेरा हाथ
लहू लहान हो गया
दुसर्रे प्रयास मै ही
एक कली मुझे मिल गयी
उस को पाकर मेरे मन की
अभिलाषा अब पूर्ण हुई
नेहरू जी बन निकला
मै तो पूरे बाज़ार मै
मेरा तन मन महक रहा हैं
खुशबु कि भरमार से
मैं भी महका दिल भी महका
भूल गया सब काम को
मैने अपना मोबाइल निकाला
सेल्फी ली बड़ी शान से
उस को पाकर मेरे मन मै
और तमन्ना जाग गई
देश भक्त बन कर या तो
कुर्बानी दे दु आपनी जान की
भारत माता के खातिर मै तो
अपनी जान गवां दूँगा
शहीद कहलाने का मौका
मुझको तो मिल जायेगा
एक लड़की को देखा तो
पल मै मूड बदल गया
उस के पीछे पीछे मै तो
मजनू बन कर चल दिया
धीरे धीरे ओ चलती तो
धीरे धीरे मे चला
प्यार का मेरे मन मे
एक नया दीप जला
इजहार करने के लिए
फूल उसको दे दिया
उसने भी मुस्करा कर मुझको
आई लव यू कह दिया
इक पल भी नही रह सकता
उसके बिना संसार मे
शादी कर के घर बसा लू
ऐसा करू विचार मे
उसके भाई ने आकर मेरे
दो चार जूते मार दिये
सिया राम की पूजा करता
तो तर जाता संसार से
मति मेरी मर गई थी
उलझा ऐसे जाल मै
करियर मेरा बिगड़ गया
दो कोड़ी के काम मे
मंदिर जा कर प्रभु से बोला
अब तो माफ करो मुझको
मे तो हूँ अज्ञानी बालक
मुझ पर अब ध्यान धरो
चरण कमल का लिया आसरा
मुझको अब माफ करो
फूल तोड़ कर सीधा अब मे
मंदिर मे ही लाऊँगा
मात पिता की बात मानकर
मन मे शिक्षा का दीप जलाऊंगा
संत सनातन धर्म के खातिर
अपनी जान गवां दुगा
जयसिया राम🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏
जय हिन्द
जय भारती
दूसरा प्रयास किया है धीरे धीरे सुधार होगा कुछ गलत हो तो आप अनुभवि हो बता देना 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

(♥ω♥*)(✿ ♥‿♥)(✿ ♥‿♥)(✿ ♥‿

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 400 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
अंसार एटवी
"दिमाग"से बनाये हुए "रिश्ते" बाजार तक चलते है!
शेखर सिंह
सँविधान
सँविधान
Bodhisatva kastooriya
दलितों, वंचितों की मुक्ति का आह्वान करती हैं अजय यतीश की कविताएँ/ आनंद प्रवीण
दलितों, वंचितों की मुक्ति का आह्वान करती हैं अजय यतीश की कविताएँ/ आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
सुख दुःख मनुष्य का मानस पुत्र।
सुख दुःख मनुष्य का मानस पुत्र।
लक्ष्मी सिंह
"रिश्ते टूट जाते हैं"
Dr. Kishan tandon kranti
सफर की यादें
सफर की यादें
Pratibha Pandey
Jeevan Ka saar
Jeevan Ka saar
Tushar Jagawat
मेरा सपना
मेरा सपना
Adha Deshwal
गणतंत्र दिवस की बधाई।।
गणतंत्र दिवस की बधाई।।
Rajni kapoor
भूल ना था
भूल ना था
भरत कुमार सोलंकी
*आदत*
*आदत*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुझको कबतक रोकोगे
मुझको कबतक रोकोगे
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
*पद का मद सबसे बड़ा, खुद को जाता भूल* (कुंडलिया)
*पद का मद सबसे बड़ा, खुद को जाता भूल* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
ग़ज़ल(उनकी नज़रों से ख़ुद को बचाना पड़ा)
ग़ज़ल(उनकी नज़रों से ख़ुद को बचाना पड़ा)
डॉक्टर रागिनी
फलक भी रो रहा है ज़मीं की पुकार से
फलक भी रो रहा है ज़मीं की पुकार से
Mahesh Tiwari 'Ayan'
यादों के संसार की,
यादों के संसार की,
sushil sarna
सवाल जवाब
सवाल जवाब
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वाक़िफ नहीं है कोई
वाक़िफ नहीं है कोई
Dr fauzia Naseem shad
अतुल वरदान है हिंदी, सकल सम्मान है हिंदी।
अतुल वरदान है हिंदी, सकल सम्मान है हिंदी।
Neelam Sharma
"वंशवाद की अमरबेल" का
*Author प्रणय प्रभात*
2804. *पूर्णिका*
2804. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तू ही मेरी चॉकलेट, तू प्यार मेरा विश्वास। तुमसे ही जज्बात का हर रिश्तो का एहसास। तुझसे है हर आरजू तुझ से सारी आस।। सगीर मेरी वो धरती है मैं उसका एहसास।
तू ही मेरी चॉकलेट, तू प्यार मेरा विश्वास। तुमसे ही जज्बात का हर रिश्तो का एहसास। तुझसे है हर आरजू तुझ से सारी आस।। सगीर मेरी वो धरती है मैं उसका एहसास।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
सबसे कठिन है
सबसे कठिन है
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
भाथी के विलुप्ति के कगार पर होने के बहाने / MUSAFIR BAITHA
भाथी के विलुप्ति के कगार पर होने के बहाने / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
ज़रूरी है...!!!!
ज़रूरी है...!!!!
Jyoti Khari
अस्तित्व अंधेरों का, जो दिल को इतना भाया है।
अस्तित्व अंधेरों का, जो दिल को इतना भाया है।
Manisha Manjari
चांद सी चंचल चेहरा 🙏
चांद सी चंचल चेहरा 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
तुम नहीं हो
तुम नहीं हो
पूर्वार्थ
“नये वर्ष का अभिनंदन”
“नये वर्ष का अभिनंदन”
DrLakshman Jha Parimal
Loading...