Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 2 min read

गुलाब के काॅंटे

जग सवालों का बंद पिटारा है, यहाँ जवाब बनना आसान नहीं है।
बाग़ में सख़्त काॅंटे भरे पड़े, कोमल गुलाब बनना आसान नहीं है।
मैंने जिनकी राह पर फूल बिछाए, वो मुझे काॅंटों से सहला रहे थे।
खुशबू बाॅंचते गुलाब के काॅंटे, स्वयं उसे ही नुकसान पहुँचा रहे थे।

मेरे जीवन से समय के फेर ने, सबसे प्यारा एक मीत छीन लिया।
जिसमें प्रत्येक पल सुरमई था, उस चरित्र से हर गीत छीन लिया।
हम बेवफ़ाई की रुदाली पे रुके, वो वफ़ा का साज़ गुनगुना रहे थे।
खुशबू बाॅंचते गुलाब के काॅंटे, स्वयं उसे ही नुकसान पहुँचा रहे थे।

बेवफ़ाई के बाद तो हमने भी, इस दिल का फाटक बंद कर दिया।
प्रेम भाव पर बसा एक गाँव, स्वांग रचने का नाटक बंद कर दिया।
हमने प्रपंच के मंच बंद किए, पर वो गिरे हुए पर्दों को उठा रहे थे।
खुशबू बाॅंचते गुलाब के काॅंटे, स्वयं उसे ही नुकसान पहुँचा रहे थे।

इस दिल की तसल्ली के लिए, हमने सनम को दूसरा मौका दिया।
पर उसने फ़रेबी का संग निभाते हुए, मेरे दिल को ही चौंका दिया।
हमने उन्हें सच कहने की हिदायत दी, वो झूठी दास्तां सुना रहे थे।
खुशबू बाॅंचते गुलाब के काॅंटे, स्वयं उसे ही नुकसान पहुँचा रहे थे।

आईना कभी झूठ नहीं बोलता, ये तो सच्चाई का साथ निभाता है।
हर आईना यूं चकनाचूर होकर, सच दिखाने की ही सज़ा पाता है।
सब आइने में ख़ुद को निहारें, हम आइने को आईना दिखा रहे थे।
खुशबू बाॅंचते गुलाब के काॅंटे, स्वयं उसे ही नुकसान पहुँचा रहे थे।

उनके मुॅंह से निकला हर शब्द, यों चिंगारी से ज्वाला बन जाता है।
कभी सबके राज़ जान लेता, कभी इशारे का हवाला बन जाता है।
जिन्होंने कस्बों को ख़ाक किया, हम उन्हें ही जलना सिखा रहे थे।
खुशबू बाॅंचते गुलाब के काॅंटे, स्वयं उसे ही नुकसान पहुँचा रहे थे।

आज अपने सनम से बिछड़े हुए, काफ़ी लंबा अरसा बीत चुका है।
गफ़लत में मदहोश सिकंदर हारा, होश में खड़ा बंदा जीत चुका है।
अब सही मायनों में इस ज़िंदगी से, पूरी वफ़ा हम भी निभा रहे थे।
खुशबू बाॅंचते गुलाब के काॅंटे, स्वयं उसे ही नुकसान पहुँचा रहे थे।

फरवरी में बसंत आगमन करें, जिसका परिदृश्य होता है निराला।
पर वैलेंटाइन संत ने डाकू बनकर, हर प्रेमी हृदय को हिला डाला।
सब लोग इश्क़ के पीछे पागल, हम गज़लों से दिल बहला रहे थे।
खुशबू बाॅंचते गुलाब के काॅंटे, स्वयं उसे ही नुकसान पहुँचा रहे थे।

4 Likes · 76 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
View all
You may also like:
हर किसी पर नहीं ज़ाहिर होते
हर किसी पर नहीं ज़ाहिर होते
Shweta Soni
ईश्वर
ईश्वर
Neeraj Agarwal
पुलवामा वीरों को नमन
पुलवामा वीरों को नमन
Satish Srijan
■ आज का आखिरी शेर।
■ आज का आखिरी शेर।
*Author प्रणय प्रभात*
यूँही चलते है कदम बेहिसाब
यूँही चलते है कदम बेहिसाब
Vaishaligoel
भले वो चाँद के जैसा नही है।
भले वो चाँद के जैसा नही है।
Shah Alam Hindustani
ये लोकतंत्र की बात है
ये लोकतंत्र की बात है
Rohit yadav
वजह ऐसी बन जाऊ
वजह ऐसी बन जाऊ
Basant Bhagawan Roy
23/167.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/167.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अपने ज्ञान को दबा कर पैसा कमाना नौकरी कहलाता है!
अपने ज्ञान को दबा कर पैसा कमाना नौकरी कहलाता है!
Suraj kushwaha
सुना है सकपने सच होते हैं-कविता
सुना है सकपने सच होते हैं-कविता
Shyam Pandey
संगति
संगति
Buddha Prakash
ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
shabina. Naaz
"सरल गणित"
Dr. Kishan tandon kranti
जय मां शारदे
जय मां शारदे
Mukesh Kumar Sonkar
ज़िन्दगी में अगर ऑंख बंद कर किसी पर विश्वास कर लेते हैं तो
ज़िन्दगी में अगर ऑंख बंद कर किसी पर विश्वास कर लेते हैं तो
Paras Nath Jha
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
क्या अब भी किसी पे, इतना बिखरती हों क्या ?
क्या अब भी किसी पे, इतना बिखरती हों क्या ?
The_dk_poetry
पत्नी के डबल रोल
पत्नी के डबल रोल
Slok maurya "umang"
क़रार आये इन आँखों को तिरा दर्शन ज़रूरी है
क़रार आये इन आँखों को तिरा दर्शन ज़रूरी है
Sarfaraz Ahmed Aasee
दिल पर साजे बस हिन्दी भाषा
दिल पर साजे बस हिन्दी भाषा
Sandeep Pande
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*कविवर शिव कुमार चंदन* *(कुंडलिया)*
*कविवर शिव कुमार चंदन* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
उजाले को वही कीमत करेगा
उजाले को वही कीमत करेगा
पूर्वार्थ
थक गई हूं
थक गई हूं
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
*आशाओं के दीप*
*आशाओं के दीप*
Harminder Kaur
परिवार के बीच तारों सा टूट रहा हूं मैं।
परिवार के बीच तारों सा टूट रहा हूं मैं।
राज वीर शर्मा
रूपसी
रूपसी
Prakash Chandra
मुझे वास्तविकता का ज्ञान नही
मुझे वास्तविकता का ज्ञान नही
Keshav kishor Kumar
सागर की ओर
सागर की ओर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Loading...