Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jul 2016 · 1 min read

गुरुवर तुम्हें नमन है

जिसने बताया हमको , लिखना हमारा नाम .
जिसने सिखाया हमको , कविता ,ग़ज़ल -कलाम .
समझाया जिसने हमको , दीने -धरम ,ईमान .
जिसने कहा कि एक है ,कह लो रहीम – राम .
भगवान से भी पहले ,करता नमन उन्हीं को .
मानों तो हैं खुदा वो , ना मानों तो हैं आम .
गुरुवर तुम्हें नमन है , गुरुवर तुम्हें प्रणाम .
माटी के हम थे लोंदे .मूरत बनाया तुमने .
सूरत मिली खुदा से , सीरत सिखाया तुमने.
माँ- बाप ने जना पर , हमको सजाया तुमने .
इंसान की शक्ल थी , इन्सां बनाया तुमने.
जीवन संवारा तुमने , तुमने हमें गढ़ा है .
यीशु कहूँ या मौला , वाहे गुरु या राम .
गुरुवर तुम्हें नमन है , गुरुवर तुम्हें प्रणाम .
…… सतीश मापतपुरी
गुरु पूर्णिमा की शुभकामना

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 306 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन
जीवन
Rekha Drolia
दीप की अभिलाषा।
दीप की अभिलाषा।
Kuldeep mishra (KD)
प्रतिबद्ध मन
प्रतिबद्ध मन
लक्ष्मी सिंह
नया दिन
नया दिन
Vandna Thakur
✍️क्रांतिउर्जा के क्रांतिसूर्य
✍️क्रांतिउर्जा के क्रांतिसूर्य
'अशांत' शेखर
विद्रोही प्रेम
विद्रोही प्रेम
Rashmi Ranjan
■ गीत- / बित्ते भर धरती, मुट्ठी भर अम्बर...!
■ गीत- / बित्ते भर धरती, मुट्ठी भर अम्बर...!
*Author प्रणय प्रभात*
23/65.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/65.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्यार का रंग (सजल)
प्यार का रंग (सजल)
Rambali Mishra
आशा की किरण
आशा की किरण
Nanki Patre
उज्जयिनी (उज्जैन) नरेश चक्रवर्ती सम्राट विक्रमादित्य
उज्जयिनी (उज्जैन) नरेश चक्रवर्ती सम्राट विक्रमादित्य
Pravesh Shinde
क्यों हो इतने हताश
क्यों हो इतने हताश
Surinder blackpen
रैन बसेरा
रैन बसेरा
Shekhar Chandra Mitra
महाभारत युद्ध
महाभारत युद्ध
Anil chobisa
ऐसा नहीं है कि मैं तुम को भूल जाती हूँ
ऐसा नहीं है कि मैं तुम को भूल जाती हूँ
Faza Saaz
पल-पल यू मरना
पल-पल यू मरना
The_dk_poetry
बलिदानी सिपाही
बलिदानी सिपाही
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*आए जब से राम हैं, चारों ओर वसंत (कुंडलिया)*
*आए जब से राम हैं, चारों ओर वसंत (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हिंदी दिवस पर राष्ट्राभिनंदन
हिंदी दिवस पर राष्ट्राभिनंदन
Seema gupta,Alwar
नरभक्षी_गिद्ध
नरभक्षी_गिद्ध
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
सबके हाथ में तराजू है ।
सबके हाथ में तराजू है ।
Ashwini sharma
वाह रे जमाना
वाह रे जमाना
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
राजनीतिकों में चिंता नहीं शेष
राजनीतिकों में चिंता नहीं शेष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बेटियाँ
बेटियाँ
Mamta Rani
दूरियां अब सिमटती सब जा रही है।
दूरियां अब सिमटती सब जा रही है।
surenderpal vaidya
దేవత స్వరూపం గో మాత
దేవత స్వరూపం గో మాత
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
याद आते हैं
याद आते हैं
Chunnu Lal Gupta
भय के द्वारा ही सदा, शोषण सबका होय
भय के द्वारा ही सदा, शोषण सबका होय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐Prodigy Love-49💐
💐Prodigy Love-49💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
#अज्ञानी_की_कलम
#अज्ञानी_की_कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...