Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jul 2016 · 1 min read

गुरुवर तुम्हें नमन है

जिसने बताया हमको , लिखना हमारा नाम .
जिसने सिखाया हमको , कविता ,ग़ज़ल -कलाम .
समझाया जिसने हमको , दीने -धरम ,ईमान .
जिसने कहा कि एक है ,कह लो रहीम – राम .
भगवान से भी पहले ,करता नमन उन्हीं को .
मानों तो हैं खुदा वो , ना मानों तो हैं आम .
गुरुवर तुम्हें नमन है , गुरुवर तुम्हें प्रणाम .
माटी के हम थे लोंदे .मूरत बनाया तुमने .
सूरत मिली खुदा से , सीरत सिखाया तुमने.
माँ- बाप ने जना पर , हमको सजाया तुमने .
इंसान की शक्ल थी , इन्सां बनाया तुमने.
जीवन संवारा तुमने , तुमने हमें गढ़ा है .
यीशु कहूँ या मौला , वाहे गुरु या राम .
गुरुवर तुम्हें नमन है , गुरुवर तुम्हें प्रणाम .
…… सतीश मापतपुरी
गुरु पूर्णिमा की शुभकामना

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 1 Comment · 242 Views
You may also like:
शेर
Rajiv Vishal
चश्मा
राकेश कुमार राठौर
कहानी *”ममता”* पार्ट-1 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
दोस्त हो तो ऐसा
Anamika Singh
मैं और तू
Dr fauzia Naseem shad
दफन
Dalveer Singh
बेताब दिल
VINOD KUMAR CHAUHAN
बख़्श दी है जान मेरी, होश में क़ातिल नहीं है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
झूठे मुकदमे
Shekhar Chandra Mitra
🚩यौवन अतिशय ज्ञान-तेजमय हो, ऐसा विज्ञान चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
उपहार
विजय कुमार अग्रवाल
है रौशन बड़ी।
Taj Mohammad
स्वर कोकिला लता
RAFI ARUN GAUTAM
एक संकल्प
Aditya Prakash
*त्यौहार हिन्द के(बाल कविता)*
Ravi Prakash
बिन माचिस के आग लगा देते हो
Ram Krishan Rastogi
भाग्य हीन का सहारा कौन ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
आदरणीय अन्ना जी, बुरा न मानना जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पर्यावरण
विजय कुमार 'विजय'
वैदेही से राम मिले
Dr. Sunita Singh
पापा
सेजल गोस्वामी
**कर्मसमर्पणम्**
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
'जियो और जीने दो'
Godambari Negi
पहला प्यार
Sushil chauhan
प्यार -ए- इतिहास
Nishant prakhar
निःशब्दता हीं, जीवन का सार होता है।
Manisha Manjari
प्रेम की राख
Buddha Prakash
बाल कविता: तोता
Rajesh Kumar Arjun
"शेर-ऐ-पंजाब महाराजा रणजीत सिंह की धर्मनिरपेक्षता"
Pravesh Shinde
जी हाँ, मैं
gurudeenverma198
Loading...