Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Mar 2017 · 1 min read

[[[[ गुम होती मानवता ]]]]

((( गुम होती मानवता )))
@ दिनश एल० “जैहिंद”

एक तरफ खुदा है रुठा,,
है वहाँ तो बचपन भूखा |
देख तमाशा ये भाई देख,,
नहीं मिटे कभी भाग्यलेखा ||

दूजी तरफ मेहरबाँ है खुदा,,
वहाँ खेलता बालक दूजा |
भूखा-प्यासा बच्चा बेचारा,,
खाने को टैब आतुर राजा ||

खुदा की बातें वही जाने,,
हम क्यूँ उस पर दोष डालें |
है नासमझी का ये आलम,,
कोई उचित हम हल निकालें ||

सम्भाव, सद्भवना का यहाँ,,
आदिकाल से लोप हुआ है |
एक बचपन खुशहाल हुआ,,
दूजा जीवन बेहाल मुआ है ||

हम विवेकशील, विवेकवान,,
पर क्यूँ न हो सके एकसमान ?
बचपन हमसे पूछे कई सवाल,
पर हिल न पाए हमारी जुबान ||

खुदा ने देकर हमको ये प्राण,,
क्या कोई बड़ा है गुनाह किया ?
हम तो बड़े गुनहगार है खुदके,
खुद को राजा-रंक में बाँट लिया ||

अब भी वक्त है ना कुछ बिगड़ा,,
कर लो कुछ अभी से भाई उपाय |
नेक दिल, नेक इंसान की खातिर,,
बनकर इंसां होते खुदा सदा सहाय ||

###दिनेश एल० “जैहिंद”

Language: Hindi
460 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सच
सच
Sanjeev Kumar mishra
सूनी बगिया हुई विरान ?
सूनी बगिया हुई विरान ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*बारिश सी बूंदों सी है प्रेम कहानी*
*बारिश सी बूंदों सी है प्रेम कहानी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
यह क्या अजीब ही घोटाला है,
यह क्या अजीब ही घोटाला है,
Sukoon
मनुष्यता कोमा में
मनुष्यता कोमा में
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कैसा क़हर है क़ुदरत
कैसा क़हर है क़ुदरत
Atul "Krishn"
জীবন নামক প্রশ্নের বই পড়ে সকল পাতার উত্তর পেয়েছি, কেবল তোমা
জীবন নামক প্রশ্নের বই পড়ে সকল পাতার উত্তর পেয়েছি, কেবল তোমা
Sakhawat Jisan
दिल का दर्द💔🥺
दिल का दर्द💔🥺
$úDhÁ MãÚ₹Yá
स्तुति - दीपक नीलपदम्
स्तुति - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"तहजीब"
Dr. Kishan tandon kranti
मत पूछो मुझ पर  क्या , क्या  गुजर रही
मत पूछो मुझ पर क्या , क्या गुजर रही
श्याम सिंह बिष्ट
नारी
नारी
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
अकेले चलने की तो ठानी थी
अकेले चलने की तो ठानी थी
Dr.Kumari Sandhya
शक्ति स्वरूपा कन्या
शक्ति स्वरूपा कन्या
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
भोर काल से संध्या तक
भोर काल से संध्या तक
देवराज यादव
■ आज का चिंतन...
■ आज का चिंतन...
*Author प्रणय प्रभात*
*कालरात्रि महाकाली
*कालरात्रि महाकाली"*
Shashi kala vyas
सौ बरस की जिंदगी.....
सौ बरस की जिंदगी.....
Harminder Kaur
*हजारों साल से लेकिन,नई हर बार होली है 【मुक्तक 】*
*हजारों साल से लेकिन,नई हर बार होली है 【मुक्तक 】*
Ravi Prakash
आज दिवस है  इश्क का, जी भर कर लो प्यार ।
आज दिवस है इश्क का, जी भर कर लो प्यार ।
sushil sarna
कहने का मौका तो दिया था तुने मगर
कहने का मौका तो दिया था तुने मगर
Swami Ganganiya
शांति से खाओ और खिलाओ
शांति से खाओ और खिलाओ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अपने मन मंदिर में, मुझे रखना, मेरे मन मंदिर में सिर्फ़ तुम रहना…
अपने मन मंदिर में, मुझे रखना, मेरे मन मंदिर में सिर्फ़ तुम रहना…
Anand Kumar
उलझनें
उलझनें
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
* प्यार की बातें *
* प्यार की बातें *
surenderpal vaidya
अंदाज़े शायरी
अंदाज़े शायरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
औलाद
औलाद
Surinder blackpen
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
........,?
........,?
शेखर सिंह
God is Almighty
God is Almighty
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...