Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Feb 2023 · 1 min read

गुनहगार तू भी है…

” गुनहगार तू भी है ”
~~°~~°~~°
गुनहगार तू भी है,
जिसने हकीकत को नजरअंदाज किया।
तलवारें पास थी पर,
खुलेआम खुद पे ही क्यों वार किया।
कलम थी कागज भी था,
पर स्याही के क्यों पड़ गए लाले।
जुल्म सहने की आदत ही थी,
कि रोकर भी स्वीकार किया।

वो रचते गए साजिशें चुनचुन कर,
हमने ना प्रतिकार किया।
सेकुलर कहलाने की होड़ ऐसी,
कि सत्य पे ही प्रहार किया।
जर जोरू और जमीन,
सब पर दोधारी तलवारें चलती रही।
ये कैसा हिन्दुस्तान है जिसने,
हिन्दुत्व से सदा इन्कार किया।

दीदार करते गए हम जितना,
उतना ही हमें दरकिनार किया।
वारिस असली हम थे,
हम से ही सौतेला क्यूँ व्यवहार किया।
बेघरबार हुए हम हर ठिकाने से,
फर्ज अपना अब निभाने दो।
अपने ही वतन में हमने,
गुमशुदगी का जो यूँ इश्तिहार किया।

मौलिक और स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – २४ /०२ /२०२३
फाल्गुन ,शुक्ल पक्ष ,चतुर्थी ,गुरुवार
विक्रम संवत २०७९
मोबाइल न. – 8757227201
ई-मेल – mk65ktr@gmail.com

5 Likes · 1288 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from मनोज कर्ण
View all
You may also like:
ਸੰਵਿਧਾਨ ਦੀ ਆਤਮਾ
ਸੰਵਿਧਾਨ ਦੀ ਆਤਮਾ
विनोद सिल्ला
कँवल कहिए
कँवल कहिए
Dr. Sunita Singh
Just a duty-bound Hatred | by Musafir Baitha
Just a duty-bound Hatred | by Musafir Baitha
Dr MusafiR BaithA
खुद से भी सवाल कीजिए
खुद से भी सवाल कीजिए
Mahetaru madhukar
हमेशा फूल दोस्ती
हमेशा फूल दोस्ती
Shweta Soni
हो सकता है कि अपनी खुशी के लिए कभी कभी कुछ प्राप्त करने की ज
हो सकता है कि अपनी खुशी के लिए कभी कभी कुछ प्राप्त करने की ज
Paras Nath Jha
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
वाणी वह अस्त्र है जो आपको जीवन में उन्नति देने व अवनति देने
वाणी वह अस्त्र है जो आपको जीवन में उन्नति देने व अवनति देने
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
गुरु चरण
गुरु चरण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ग़ज़ल/नज़्म/मुक्तक - बिन मौसम की बारिश में नहाना, अच्छा है क्या
ग़ज़ल/नज़्म/मुक्तक - बिन मौसम की बारिश में नहाना, अच्छा है क्या
अनिल कुमार
अफसोस है मैं आजाद भारत बोल रहा हूॅ॑
अफसोस है मैं आजाद भारत बोल रहा हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
कली से खिल कर जब गुलाब हुआ
कली से खिल कर जब गुलाब हुआ
नेताम आर सी
गर्म चाय
गर्म चाय
Kanchan Khanna
बहू बनी बेटी
बहू बनी बेटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रोशनी की शिकस्त में आकर अंधेरा खुद को खो देता है
रोशनी की शिकस्त में आकर अंधेरा खुद को खो देता है
कवि दीपक बवेजा
राष्ट्रीय किसान दिवस : भारतीय किसान
राष्ट्रीय किसान दिवस : भारतीय किसान
Satish Srijan
गायब हुआ तिरंगा
गायब हुआ तिरंगा
आर एस आघात
लोकतंत्र की आड़ में तानाशाही ?
लोकतंत्र की आड़ में तानाशाही ?
Shyam Sundar Subramanian
मंज़र
मंज़र
अखिलेश 'अखिल'
"सुनो भाई-बहनों"
Dr. Kishan tandon kranti
3301.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3301.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
■आज का #दोहा।।
■आज का #दोहा।।
*प्रणय प्रभात*
*ट्रस्टीशिप विचार: 1982 में प्रकाशित मेरी पुस्तक*
*ट्रस्टीशिप विचार: 1982 में प्रकाशित मेरी पुस्तक*
Ravi Prakash
मुक़ाम क्या और रास्ता क्या है,
मुक़ाम क्या और रास्ता क्या है,
SURYA PRAKASH SHARMA
जीवन शैली का स्वस्थ्य पर प्रभाव
जीवन शैली का स्वस्थ्य पर प्रभाव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
ख़ामोशी जो पढ़ सके,
ख़ामोशी जो पढ़ सके,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
देखना ख़्वाब
देखना ख़्वाब
Dr fauzia Naseem shad
बह्र -212 212 212 212 अरकान-फ़ाईलुन फ़ाईलुन फ़ाईलुन फ़ाईलुन काफ़िया - आना रदीफ़ - पड़ा
बह्र -212 212 212 212 अरकान-फ़ाईलुन फ़ाईलुन फ़ाईलुन फ़ाईलुन काफ़िया - आना रदीफ़ - पड़ा
Neelam Sharma
वहां पथ पथिक कुशलता क्या, जिस पथ पर बिखरे शूल न हों।
वहां पथ पथिक कुशलता क्या, जिस पथ पर बिखरे शूल न हों।
Slok maurya "umang"
सम्मान में किसी के झुकना अपमान नही होता
सम्मान में किसी के झुकना अपमान नही होता
Kumar lalit
Loading...