Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Sep 2016 · 1 min read

गुण त्रय

हैं रंगत जग जीव सब,
सत रज तम गुण तीन,
ईष्टमन-गेवा–टेक्नी–,
क्या है अदभुत सीन ।
क्या है अदभुत सीन ,
रोज़ ही खिलती होली।
जीव तो –रंग हीन ,
भीगते–चोले-चोली–।
श्याम रंग ही नेक ,
जहाँ घनश्याम बसत हैं।
भगति ही रंग ही एक ,
गुण तीनों ही नसत हैं ।

372 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
धुंधली यादो के वो सारे दर्द को
धुंधली यादो के वो सारे दर्द को
'अशांत' शेखर
-- नसीहत --
-- नसीहत --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
समय ही अहंकार को पैदा करता है और समय ही अहंकार को खत्म करता
समय ही अहंकार को पैदा करता है और समय ही अहंकार को खत्म करता
Rj Anand Prajapati
मात पिता
मात पिता
विजय कुमार अग्रवाल
चाहत नहीं और इसके सिवा, इस घर में हमेशा प्यार रहे
चाहत नहीं और इसके सिवा, इस घर में हमेशा प्यार रहे
gurudeenverma198
सुखी होने में,
सुखी होने में,
Sangeeta Beniwal
सुख दुख
सुख दुख
Sûrëkhâ
What is FAMILY?
What is FAMILY?
पूर्वार्थ
सुंदरता के मायने
सुंदरता के मायने
Surya Barman
आइये तर्क पर विचार करते है
आइये तर्क पर विचार करते है
शेखर सिंह
तेवरी आन्दोलन की साहित्यिक यात्रा *अनिल अनल
तेवरी आन्दोलन की साहित्यिक यात्रा *अनिल अनल
कवि रमेशराज
मोदी को सुझाव
मोदी को सुझाव
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
3317.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3317.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
पत्नी जब चैतन्य,तभी है मृदुल वसंत।
पत्नी जब चैतन्य,तभी है मृदुल वसंत।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
लेके फिर अवतार ,आओ प्रिय गिरिधर।
लेके फिर अवतार ,आओ प्रिय गिरिधर।
Neelam Sharma
जीवन के पल दो चार
जीवन के पल दो चार
Bodhisatva kastooriya
होली
होली
लक्ष्मी सिंह
"महापाप"
Dr. Kishan tandon kranti
!! घड़ी समर की !!
!! घड़ी समर की !!
Chunnu Lal Gupta
नवरात्रि के सातवें दिन दुर्गाजी की सातवीं शक्ति देवी कालरात्
नवरात्रि के सातवें दिन दुर्गाजी की सातवीं शक्ति देवी कालरात्
Shashi kala vyas
सभी गम दर्द में मां सबको आंचल में छुपाती है।
सभी गम दर्द में मां सबको आंचल में छुपाती है।
सत्य कुमार प्रेमी
आजकल कल मेरा दिल मेरे बस में नही
आजकल कल मेरा दिल मेरे बस में नही
कृष्णकांत गुर्जर
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Akshay patel
चल बन्दे.....
चल बन्दे.....
Srishty Bansal
"" *स्वस्थ शरीर है पावन धाम* ""
सुनीलानंद महंत
शहीदों के लिए (कविता)
शहीदों के लिए (कविता)
गुमनाम 'बाबा'
निर्णय
निर्णय
Dr fauzia Naseem shad
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Rekha Drolia
ख्वाब नाज़ुक हैं
ख्वाब नाज़ुक हैं
rkchaudhary2012
क्षितिज
क्षितिज
Dhriti Mishra
Loading...