Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Aug 2016 · 1 min read

गीत :– ये जुल्फें ये आँखें ये होठों की लाली !!

गीत :– ये जुल्फें ये आँखें ये होठों की लाली !!

ये जुल्फें ये आँखें ये होठों की लाली !
खुदा नें है बख्शा या तूने चुरा ली!!

दहकता ये जौवन ..ये झूमे बदन है !
ना दिल में तपन है ना माथे शिकन है !!
सागर मे खिलता गुलाबी कमल ज्यों ;
चहरे पे रौनक वो दीवानापन है !!

ये नाक की नथनी ये कानों की बाली !
खुदा नें है बख्शा या तू नें चुरा ली !!

सांसों से तेरी ये महका चमन है !
नजाकत निगाहों में एक आवरण है !
सितारे ये पूछें जमीं में उतर कर ;
परी है या कोई कली गुलबदन है !!

ये आहें ये सांसें ये बातें निराली !
खुदा नें है बख्शा या तूने चुरा ली !!

कवि :– अनुज तिवारी “इन्दवार”

Language: Hindi
Tag: गीत
2 Likes · 5 Comments · 2907 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ज़िंदगी एक पहेली...
ज़िंदगी एक पहेली...
Srishty Bansal
स्कूल कॉलेज
स्कूल कॉलेज
RAKESH RAKESH
"बड़ी चुनौती ये चिन्ता"
Dr. Kishan tandon kranti
23/158.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/158.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हम तो अपनी बात कहेंगें
हम तो अपनी बात कहेंगें
अनिल कुमार निश्छल
Rap song (1)
Rap song (1)
Nishant prakhar
जिन्दगी जीना बहुत ही आसान है...
जिन्दगी जीना बहुत ही आसान है...
Abhijeet
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
Anil chobisa
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
गर्मी की छुट्टी में होमवर्क (बाल कविता )
गर्मी की छुट्टी में होमवर्क (बाल कविता )
Ravi Prakash
"तुम्हारी गली से होकर जब गुजरता हूं,
Aman Kumar Holy
दोहा त्रयी. . . सन्तान
दोहा त्रयी. . . सन्तान
sushil sarna
बारिश का मौसम
बारिश का मौसम
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
वर्णमाला
वर्णमाला
Abhijeet kumar mandal (saifganj)
बैठ अटारी ताकता, दूरी नभ की फाँद।
बैठ अटारी ताकता, दूरी नभ की फाँद।
डॉ.सीमा अग्रवाल
श्रीमद्भगवद्‌गीता का सार
श्रीमद्भगवद्‌गीता का सार
Jyoti Khari
■दोहा■
■दोहा■
*Author प्रणय प्रभात*
बाल कविता: नानी की बिल्ली
बाल कविता: नानी की बिल्ली
Rajesh Kumar Arjun
💐प्रेम कौतुक-177💐
💐प्रेम कौतुक-177💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आदतों में तेरी ढलते-ढलते, बिछड़न शोहबत से खुद की हो गयी।
आदतों में तेरी ढलते-ढलते, बिछड़न शोहबत से खुद की हो गयी।
Manisha Manjari
बातों का तो मत पूछो
बातों का तो मत पूछो
Rashmi Ranjan
हमारी जिंदगी ,
हमारी जिंदगी ,
DrLakshman Jha Parimal
अन्त हुआ आतंक का,
अन्त हुआ आतंक का,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरी रातों की नींद क्यों चुराते हो
मेरी रातों की नींद क्यों चुराते हो
Ram Krishan Rastogi
तुम्हारे बार बार रुठने पर भी
तुम्हारे बार बार रुठने पर भी
gurudeenverma198
हौसला देने वाले अशआर
हौसला देने वाले अशआर
Dr fauzia Naseem shad
★मां का प्यार★
★मां का प्यार★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
हिन्द की हस्ती को
हिन्द की हस्ती को
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Muhabhat guljar h,
Muhabhat guljar h,
Sakshi Tripathi
सौंदर्य मां वसुधा की
सौंदर्य मां वसुधा की
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...