Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2023 · 1 min read

गिलहरी

तीन लकीरें पीठ पर इसके,
चुस्त दुरुस्त छरहरी।
दिखने में प्यारी भोली सी,
नन्ही प्रिय गिलहरी।

अन्न फूल सब्जी फल खाती,
आम अनार व केले।
लम्बी पूंछ बदन पर रोंये,
दांत हैं बड़े नुकीले।

कर्मठ है अपने स्वभाव से,
पहली कक्षा में जाना।
कौआ के संग खेती करना,
ढेरों फसल उगाना।

पेड़ पर सरपट चढ़ जाती है,
हो बरगद या चीड़।
अपने व बच्चों के खातिर,
स्वयं बनाती नीड़।

दो से पांच तक बच्चे जनती,
सबको लाती दाना।
गिल्ली सबको प्यारी लगती,
बच्चा बूढ़ सयाना।

महादेवी वर्मा ने पाला,
नाम धराया गिल्लू।
दाना देती और पिलाती,
पानी भर कर चुल्लू।

ऐसी किमबदंति भारत में,
राम को ये थी प्यारी।
सीता का यह हाल पूंछती,
सो थी उन्हें दुलारी।

अगर गिलहरी आये आँगन,
शुभ संकेत है मानो।
धन आगमन की यह प्रतीक है,
लक्ष्मी प्रिय यह जानो।

ऐसा विद्वानों का कहना,
आयी हरि के काम।
सेतु निमार्ण में यह लघु प्राणी,
मेहनत किया तमाम।

राम गिलहरी के तन ऊपर,
प्रेम से हाथ फिराया।
श्वेत श्याम की तीन पट्टीका,
इसने पीठ पर पाया।

अंत में एक बात कहना है,
तरु इसका आवास।
पेड़ कटाई बंद हुई न,
कहाँ करेगी निवास।

गौरैया हो गयी लुप्त ज्यों,
नहीं आती अब देहरी।
वैसे धीरे धीरे वन से,
होगी लुप्त गिलहरी।

2 Likes · 2 Comments · 365 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
मैं माँ हूँ
मैं माँ हूँ
Arti Bhadauria
नैनों के अभिसार ने,
नैनों के अभिसार ने,
sushil sarna
मैं खंडहर हो गया पर तुम ना मेरी याद से निकले
मैं खंडहर हो गया पर तुम ना मेरी याद से निकले
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
नरसिंह अवतार
नरसिंह अवतार
Shashi kala vyas
हमेशा तेरी याद में
हमेशा तेरी याद में
Dr fauzia Naseem shad
अटूट सत्य - आत्मा की व्यथा
अटूट सत्य - आत्मा की व्यथा
Sumita Mundhra
I Have No Desire To Be Found At Any Cost
I Have No Desire To Be Found At Any Cost
Manisha Manjari
इंसानियत का कत्ल
इंसानियत का कत्ल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
परिवार का एक मेंबर कांग्रेस में रहता है
परिवार का एक मेंबर कांग्रेस में रहता है
शेखर सिंह
14- वसुधैव कुटुम्ब की, गरिमा बढाइये
14- वसुधैव कुटुम्ब की, गरिमा बढाइये
Ajay Kumar Vimal
अकेला हूँ ?
अकेला हूँ ?
Surya Barman
सितारे अपने आजकल गर्दिश में चल रहे है
सितारे अपने आजकल गर्दिश में चल रहे है
shabina. Naaz
आओ लौट चले 2.0
आओ लौट चले 2.0
Dr. Mahesh Kumawat
डीजे
डीजे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चंदा मामा (बाल कविता)
चंदा मामा (बाल कविता)
Ravi Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
चन्द्रयान उड़ा गगन में,
चन्द्रयान उड़ा गगन में,
Satish Srijan
नीलामी हो गई अब इश्क़ के बाज़ार में मेरी ।
नीलामी हो गई अब इश्क़ के बाज़ार में मेरी ।
Phool gufran
करार दे
करार दे
SHAMA PARVEEN
बरसात...
बरसात...
डॉ.सीमा अग्रवाल
■ घिसे-पिटे रिकॉर्ड...
■ घिसे-पिटे रिकॉर्ड...
*प्रणय प्रभात*
-आजकल मोहब्बत में गिरावट क्यों है ?-
-आजकल मोहब्बत में गिरावट क्यों है ?-
bharat gehlot
मेरी प्रीत जुड़ी है तुझ से
मेरी प्रीत जुड़ी है तुझ से
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
सीख बुद्ध से ज्ञान।
सीख बुद्ध से ज्ञान।
Buddha Prakash
योग की महिमा
योग की महिमा
Dr. Upasana Pandey
मैं तो महज संघर्ष हूँ
मैं तो महज संघर्ष हूँ
VINOD CHAUHAN
पिछले पन्ने 7
पिछले पन्ने 7
Paras Nath Jha
बता ये दर्द
बता ये दर्द
विजय कुमार नामदेव
#गुलमोहरकेफूल
#गुलमोहरकेफूल
कार्तिक नितिन शर्मा
"मैं आग हूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...