Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

ग़ज़ल

——ग़ज़ल—–
तुम्हारे वास्ते दुनिया भुलाए बैठे हैं
ये रोग इश्क़ का दिल को लगाए बैठे हैं

तुम्हारे पाँव में काँटा न चुभने पाएगा
चले भी आओ कि हम दिल बिछाए बैठे हैं

ख़ुशी जहां की मयस्सर तुम्हे हो ऐ दिलबर
तुम्हारे ग़म को हम अपना बनाए बैठे हैं

हमारी मंज़िले-मक़सूद हो तुम्ही जानां
तुम्ही पे जान ये अपनी लुटाए बैठे हैं

हमारी रात ग़ुज़रती तुम्हारे ख़्वाबों में
तुम्हे ही अपनी नज़र में बसाए बैठे हैं

वो कौन शाम है जिस दिन मिलोगे तुम हमसे
ये बज़्म प्यार का कब से सजाए बैठे हैं

कभी तो आओ ऐ “प्रीतम” हमारी गुलशन में
हज़ारों ख़ुशियों के गुल हम खिलाए बैठे हैं

प्रीतम राठौर भिनगाई
श्रावस्ती (उ०प्र०)

188 Views
You may also like:
*अमृत-सरोवर में नौका-विहार*
Ravi Prakash
✍️नोटबंदी✍️
'अशांत' शेखर
राहतें ना थी।
Taj Mohammad
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
खुश रहना
dks.lhp
मूकदर्शक
Shyam Sundar Subramanian
करो नहीं किसी का अपमान तुम
gurudeenverma198
प्रेम
श्याम सिंह बिष्ट
मोहब्बत के सिवा मैं कुछ ना चाहता हूं।
Taj Mohammad
भीगे-भीगे मौसम में.....!!
Kanchan Khanna
सरकारी नौकर
Dr Meenu Poonia
इंसानों की इस भीड़ में
Dr fauzia Naseem shad
रूठ गई हैं बरखा रानी
Dr Archana Gupta
जुल्म की इन्तहा
DESH RAJ
हे मनुष्य!
Vijaykumar Gundal
तेरा पापा... अपने वतन में
Dr. Pratibha Mahi
“ मित्रताक अमिट छाप “
DrLakshman Jha Parimal
तेरा ख्याल।
Taj Mohammad
💐साधकस्य निष्ठा एव कल्याणकर्त्री💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मत्तगयंद सवैया ( राखी )
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मेरे करीब़ हो तुम
VINOD KUMAR CHAUHAN
मुकद्दर ने
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
मुझमें भारत तुझमें भारत
Rj Anand Prajapati
✍️आज तारीख 7-7✍️
'अशांत' शेखर
In my Life.
Taj Mohammad
कभी तो तुम मिलने आया करो
Ram Krishan Rastogi
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
परिकल्पना
संदीप सागर (चिराग)
'नर्क के द्वार' (कृपाण घनाक्षरी)
Godambari Negi
हमारे पापा
पाण्डेय चिदानन्द
Loading...