Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2023 · 1 min read

ग़ज़ल/नज़्म – मैं बस काश! काश! करते-करते रह गया

मैं बस काश! काश! करते-करते रह गया,
और बार-बार ताश के पत्ते सा ढ़ह गया।

इज़हार-ए-प्यार ना कर पाया उससे कभी,
यूँ ही ज़माने की दुश्वारियों को सह गया।

उसके लबों से ही इक़रार का इंतज़ार रहा,
वो इशारा ही ना देखा जो बहुत कुछ कह गया।

मेरे हिस्से बिखरते गए रिश्तों में इस कदर,
कभी उनको जोड़ते, कभी गिनते रह गया।

हर शख़्स सामने आया एक तूफाँ बनकर,
हमारे प्यार में जैसे उसका सब कुछ बह गया।

आज़ जो साथ बैठे हम थोड़ा हौसला लेकर,
तो एक-एक लम्हा ही पूरी ज़िन्दगी कह गया।

(दुश्वारी = मुश्किल, कठिनता, दुरुहता, आपत्ति, मुसीबत)

©✍🏻 स्वरचित
अनिल कुमार ‘अनिल’
9783597507,
9950538424,
anilk1604@gmail.com

1 Like · 151 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार
View all
You may also like:
सोने के भाव बिके बैंगन
सोने के भाव बिके बैंगन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*भीड बहुत है लोग नहीं दिखते* ( 11 of 25 )
*भीड बहुत है लोग नहीं दिखते* ( 11 of 25 )
Kshma Urmila
अब उठो पार्थ हुंकार करो,
अब उठो पार्थ हुंकार करो,
अनूप अम्बर
मुक्तक।
मुक्तक।
Pankaj sharma Tarun
बनावटी दुनिया मोबाईल की
बनावटी दुनिया मोबाईल की"
Dr Meenu Poonia
*गुरु (बाल कविता)*
*गुरु (बाल कविता)*
Ravi Prakash
हाथ माखन होठ बंशी से सजाया आपने।
हाथ माखन होठ बंशी से सजाया आपने।
लक्ष्मी सिंह
कुछ लोगो के लिए आप महत्वपूर्ण नही है
कुछ लोगो के लिए आप महत्वपूर्ण नही है
पूर्वार्थ
"रंग का मोल"
Dr. Kishan tandon kranti
कविता
कविता
Rambali Mishra
वक्त-ए-रूखसती पे उसने पीछे मुड़ के देखा था
वक्त-ए-रूखसती पे उसने पीछे मुड़ के देखा था
Shweta Soni
मेरे अंतस में ......
मेरे अंतस में ......
sushil sarna
कर बैठे कुछ और हम
कर बैठे कुछ और हम
Basant Bhagawan Roy
नेह धागों का त्योहार
नेह धागों का त्योहार
Seema gupta,Alwar
प्यारा बंधन प्रेम का
प्यारा बंधन प्रेम का
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मैं समुद्र की गहराई में डूब गया ,
मैं समुद्र की गहराई में डूब गया ,
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*शिव शक्ति*
*शिव शक्ति*
Shashi kala vyas
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
उसकी सुनाई हर कविता
उसकी सुनाई हर कविता
हिमांशु Kulshrestha
प्रत्याशी को जाँचकर , देना  अपना  वोट
प्रत्याशी को जाँचकर , देना अपना वोट
Dr Archana Gupta
चंद अशआर -ग़ज़ल
चंद अशआर -ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
******** प्रेम भरे मुक्तक *********
******** प्रेम भरे मुक्तक *********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
■ आज का शेर...
■ आज का शेर...
*Author प्रणय प्रभात*
पुण्यात्मा के हाथ भी, हो जाते हैं पाप ।
पुण्यात्मा के हाथ भी, हो जाते हैं पाप ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
पत्थर - पत्थर सींचते ,
पत्थर - पत्थर सींचते ,
Mahendra Narayan
☀️ओज़☀️
☀️ओज़☀️
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
अभी तो साथ चलना है
अभी तो साथ चलना है
Vishal babu (vishu)
*बिरहा की रात*
*बिरहा की रात*
Pushpraj Anant
Loading...