Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2024 · 2 min read

गले लगाना पड़ता है

कपट दौड़े सरपट, छल जाता है उछल, जग को यह सब भाता है।
भलाई, प्रेम, कृपा, त्याग जैसा भाव, किसी भी मन में न आता है।
भोग-विलास करते इस जग में, प्रेमी को वैरागी हो जाना पड़ता है।
कभी हालात से मजबूर होके, शैतान को भी गले लगाना पड़ता है।

अब इश्क़ की बातों को सुनते ही, ज़माना मखौल उड़ाने लगता है।
किसी को इश्क़ की कद्र नहीं, ये बातों का माहौल बताने लगता है।
इश्क़ के ग़मों का हर किस्सा, बुझे मन से सबको सुनाना पड़ता है।
कभी हालात से मजबूर होके, शैतान को भी गले लगाना पड़ता है।

पहले तो ख़ुद ही दर्द पहुँचाते, बाद में उसपे मरहम लगाते हैं लोग।
इश्क़ की थोड़ी पैरवी करते ही, यूॅं एहसान हर दिन जताते हैं लोग।
ज़माना जालिम है ये जानते हुए, दर्द भी इसी को बताना पड़ता है।
कभी हालात से मजबूर होके, शैतान को भी गले लगाना पड़ता है।

प्यार हुआ तो सब मित्र बिछड़े, ज़माने की भीड़ में कहीं खोते गए।
मित्रों के मन में छिपे भाव न दिखे, हम प्रियसी के करीब होते गए।
माना हर हाथ में कटार, पर मित्र मानते हुए हाथ मिलाना पड़ता है।
कभी हालात से मजबूर होके, शैतान को भी गले लगाना पड़ता है।

सोच अच्छी न हो तो न सही, पर कुछ बातें तो अच्छी किया करो।
हर समय दुःख ही रहता संग, कभी तो खुशी होके भी जीया करो।
यहाॅं हर मुॅंह में अंगार भरा, हमें बातों से ही दिल जलाना पड़ता है।
कभी हालात से मजबूर होके, शैतान को भी गले लगाना पड़ता है।

दोनों के दिल को बुरा लगता है, इसे अच्छी यादों से भरना चाहिए।
समस्याएँ तो रोज़ होती रहेंगी, इन्हें सूझबूझ से हल करना चाहिए।
गलती अपनी हो या प्रेमिका की, प्रेमी को ही उसे मनाना पड़ता है।
कभी हालात से मजबूर होके, शैतान को भी गले लगाना पड़ता है।

1 Like · 36 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
View all
You may also like:
“बदलते रिश्ते”
“बदलते रिश्ते”
पंकज कुमार कर्ण
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दैनिक जीवन में सब का तू, कर सम्मान
दैनिक जीवन में सब का तू, कर सम्मान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दोस्ती का रिश्ता
दोस्ती का रिश्ता
विजय कुमार अग्रवाल
23/113.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/113.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गले की फांस
गले की फांस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
झुका के सर, खुदा की दर, तड़प के रो दिया मैने
झुका के सर, खुदा की दर, तड़प के रो दिया मैने
Kumar lalit
बस तेरे हुस्न के चर्चे वो सुबो कार बहुत हैं ।
बस तेरे हुस्न के चर्चे वो सुबो कार बहुत हैं ।
Phool gufran
🌙Chaand Aur Main✨
🌙Chaand Aur Main✨
Srishty Bansal
एक कुंडलिया
एक कुंडलिया
SHAMA PARVEEN
काकाको यक्ष प्रश्न ( #नेपाली_भाषा)
काकाको यक्ष प्रश्न ( #नेपाली_भाषा)
NEWS AROUND (SAPTARI,PHAKIRA, NEPAL)
राह मुश्किल हो चाहे आसां हो
राह मुश्किल हो चाहे आसां हो
Shweta Soni
हर बार सफलता नहीं मिलती, कभी हार भी होती है
हर बार सफलता नहीं मिलती, कभी हार भी होती है
पूर्वार्थ
जीवन डगर पहचान चलना वटोही
जीवन डगर पहचान चलना वटोही
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
#नज़्म / ■ दिल का रिश्ता
#नज़्म / ■ दिल का रिश्ता
*प्रणय प्रभात*
*राजा राम सिंह का वंदन, जिनका राज्य कठेर था (गीत)*
*राजा राम सिंह का वंदन, जिनका राज्य कठेर था (गीत)*
Ravi Prakash
**ये गबारा नहीं ‘ग़ज़ल**
**ये गबारा नहीं ‘ग़ज़ल**
Dr Mukesh 'Aseemit'
जरा विचार कीजिए
जरा विचार कीजिए
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
हम अपनी ज़ात में
हम अपनी ज़ात में
Dr fauzia Naseem shad
यूं बहाने ना बनाया करो वक्त बेवक्त मिलने में,
यूं बहाने ना बनाया करो वक्त बेवक्त मिलने में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हम दुनिया के सभी मच्छरों को तो नहीं मार सकते है तो क्यों न ह
हम दुनिया के सभी मच्छरों को तो नहीं मार सकते है तो क्यों न ह
Rj Anand Prajapati
कैमिकल वाले रंगों से तो,पड़े रंग में भंग।
कैमिकल वाले रंगों से तो,पड़े रंग में भंग।
Neelam Sharma
व्यंग्य क्षणिकाएं
व्यंग्य क्षणिकाएं
Suryakant Dwivedi
ग़ज़ल _ क्या हुआ मुस्कुराने लगे हम ।
ग़ज़ल _ क्या हुआ मुस्कुराने लगे हम ।
Neelofar Khan
प्रिये
प्रिये
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"शहीद वीर नारायण सिंह"
Dr. Kishan tandon kranti
गरिमामय प्रतिफल
गरिमामय प्रतिफल
Shyam Sundar Subramanian
आपसे होगा नहीं , मुझसे छोड़ा नहीं जाएगा
आपसे होगा नहीं , मुझसे छोड़ा नहीं जाएगा
Keshav kishor Kumar
संस्कार
संस्कार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
शुभ मंगल हुई सभी दिशाऐं
शुभ मंगल हुई सभी दिशाऐं
Ritu Asooja
Loading...