Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

गर्द चेहरे से अपने हटा लीजिए

आईये प्यार से गुनगुना लीजिए
खूबसूरत समां को सजा लीजिए
दिल की बातें हुनर से बताकर यहाँ
चंद लफ़्ज़ों में अपना बना लीजिए।।

जिंदगी के सफ़र का मजा लीजिए
दर्द काफ़ूर हो इल्तिज़ा कीजिए
प्यार से रोशनी की इबारत लिखें
सुख मिले हर किसी को दुआ कीजिए।।

बदजुबानी न दूषित हवा कीजिए
मुल्क कायम रहे वो फिजा कीजिए
वैर का विष न घोलें अमन में कहीं
न्याय सबको मिले फ़ैसला कीजिए।।

दम्भ को ज़िंदगी से मिटा दीजिए
नेक दरिया दिलों में बहा लीजिए
आईने में कहीं नुक्स मत ढूँढिये
गर्द चेहरे से अपने हटा लीजिए।।

इस कलम से सभी को जगा दीजिए
भेद जो भी करें अब भगा दीजिए
कुछ अधर्मी यहां सर उठाने लगे
आग लंका में उनके लगा दीजिए।।

डॉ छोटेलाल सिंह मनमीत

92 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*कभी तो खुली किताब सी हो जिंदगी*
*कभी तो खुली किताब सी हो जिंदगी*
Shashi kala vyas
عيشُ عشرت کے مکاں
عيشُ عشرت کے مکاں
अरशद रसूल बदायूंनी
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
परम सत्य
परम सत्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुम जब भी जमीन पर बैठो तो लोग उसे तुम्हारी औक़ात नहीं बल्कि
तुम जब भी जमीन पर बैठो तो लोग उसे तुम्हारी औक़ात नहीं बल्कि
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
रिश्ते मोबाइल के नेटवर्क जैसे हो गए हैं। कब तक जुड़े रहेंगे,
रिश्ते मोबाइल के नेटवर्क जैसे हो गए हैं। कब तक जुड़े रहेंगे,
Anand Kumar
*धन्य विवेकानंद प्रवक्ता, सत्य सनातन ज्ञान के (गीत)*
*धन्य विवेकानंद प्रवक्ता, सत्य सनातन ज्ञान के (गीत)*
Ravi Prakash
मन की गति
मन की गति
Dr. Kishan tandon kranti
इंद्रधनुष सा यह जीवन अपना,
इंद्रधनुष सा यह जीवन अपना,
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
कौन हूँ मैं ?
कौन हूँ मैं ?
पूनम झा 'प्रथमा'
घर में यदि हम शेर बन के रहते हैं तो बीबी दुर्गा बनकर रहेगी औ
घर में यदि हम शेर बन के रहते हैं तो बीबी दुर्गा बनकर रहेगी औ
Ranjeet kumar patre
तोड़ कर खुद को
तोड़ कर खुद को
Dr fauzia Naseem shad
होगा बढ़िया व्यापार
होगा बढ़िया व्यापार
Buddha Prakash
" जलाओ प्रीत दीपक "
Chunnu Lal Gupta
.......रूठे अल्फाज...
.......रूठे अल्फाज...
Naushaba Suriya
इन चरागों का कोई मक़सद भी है
इन चरागों का कोई मक़सद भी है
Shweta Soni
Started day with the voice of nature
Started day with the voice of nature
Ankita Patel
कुदरत है बड़ी कारसाज
कुदरत है बड़ी कारसाज
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कवि की कल्पना
कवि की कल्पना
Rekha Drolia
गंणतंत्रदिवस
गंणतंत्रदिवस
Bodhisatva kastooriya
जितना अता किया रब,
जितना अता किया रब,
Satish Srijan
3240.*पूर्णिका*
3240.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*गीत*
*गीत*
Poonam gupta
गिनती
गिनती
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दूसरों की आलोचना
दूसरों की आलोचना
Dr.Rashmi Mishra
फूलों से हँसना सीखें🌹
फूलों से हँसना सीखें🌹
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कहार
कहार
Mahendra singh kiroula
#मुक्तक
#मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
जीवन दर्शन मेरी नज़र से. .
जीवन दर्शन मेरी नज़र से. .
Satya Prakash Sharma
💐प्रेम कौतुक-97💐
💐प्रेम कौतुक-97💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...