Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2023 · 1 min read

“गरीब की बचत”

“गरीब की बचत”
गरीब की बचत छोटे-छोटे लोहे के टुकड़े की तरह होती है। कोई भी चुम्बक उसे आसानी से उदरस्थ कर जाता है। चाहे वह बीमारी हो,, ब्याह हो अथवा अन्तिम कर्म की रस्में। अन्ततः जेबें खाली हो जाती हैं। इन सबमें सपना कहीं पीछे छूट जाता है।
-डॉ. किशन टण्डन क्रान्ति

12 Likes · 5 Comments · 287 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
"सच की सूरत"
Dr. Kishan tandon kranti
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
Sanjay ' शून्य'
इंसानियत का कोई मजहब नहीं होता।
इंसानियत का कोई मजहब नहीं होता।
Rj Anand Prajapati
*देश भक्ति देश प्रेम*
*देश भक्ति देश प्रेम*
Harminder Kaur
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
खुद में, खुद को, खुद ब खुद ढूंढ़ लूंगा मैं,
खुद में, खुद को, खुद ब खुद ढूंढ़ लूंगा मैं,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
वक़्त बदल रहा है, कायनात में आती जाती हसीनाएँ बदल रही हैं पर
वक़्त बदल रहा है, कायनात में आती जाती हसीनाएँ बदल रही हैं पर
Sukoon
ख़ामोशी
ख़ामोशी
कवि अनिल कुमार पँचोली
“जिंदगी की राह ”
“जिंदगी की राह ”
Yogendra Chaturwedi
अधूरी ख्वाहिशें
अधूरी ख्वाहिशें
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
अनुभव
अनुभव
डॉ०प्रदीप कुमार दीप
गीत
गीत
Mahendra Narayan
डॉ अरुण कुमार शास्त्री / drarunkumarshastri
डॉ अरुण कुमार शास्त्री / drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
श्रेष्ठ भावना
श्रेष्ठ भावना
Raju Gajbhiye
बागों में जीवन खड़ा, ले हाथों में फूल।
बागों में जीवन खड़ा, ले हाथों में फूल।
Suryakant Dwivedi
जिस के नज़र में पूरी दुनिया गलत है ?
जिस के नज़र में पूरी दुनिया गलत है ?
Sandeep Mishra
पोषित करते अर्थ से,
पोषित करते अर्थ से,
sushil sarna
It always seems impossible until It's done
It always seems impossible until It's done
Naresh Kumar Jangir
डॉ. राकेशगुप्त की साधारणीकरण सम्बन्धी मान्यताओं के आलोक में आत्मीयकरण
डॉ. राकेशगुप्त की साधारणीकरण सम्बन्धी मान्यताओं के आलोक में आत्मीयकरण
कवि रमेशराज
कौन करता है आजकल जज्बाती इश्क,
कौन करता है आजकल जज्बाती इश्क,
डी. के. निवातिया
बहुत खूबसूरत सुबह हो गई है।
बहुत खूबसूरत सुबह हो गई है।
surenderpal vaidya
2898.*पूर्णिका*
2898.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
If we’re just getting to know each other…call me…don’t text.
If we’re just getting to know each other…call me…don’t text.
पूर्वार्थ
बेटियाँ
बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
"वो कलाकार"
Dr Meenu Poonia
जग मग दीप  जले अगल-बगल में आई आज दिवाली
जग मग दीप जले अगल-बगल में आई आज दिवाली
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
एक शेर
एक शेर
Ravi Prakash
हर दिन नया नई उम्मीद
हर दिन नया नई उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
"चाणक्य"
*Author प्रणय प्रभात*
नाम बनाने के लिए कभी-कभी
नाम बनाने के लिए कभी-कभी
शेखर सिंह
Loading...