Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2017 · 1 min read

–आज मिलके उनसे–

आज मिलके उनसे ख़ारो-ग़म निकल गये।
बदले-बदले उनके मिज़ाज़ हमें बदल गये।।

कुछ ऐसी हसरत भरी निग़ाह से देखा हमें।
बंद दिल के दरवाज़े उसी वक्त खुल गये।।

उठा ली क़सम राहे-वफ़ा में दग़ा न करेंगे।
इस नेक वादे पर मेरे जानेमन मचल गये।।

चाह थी बादलों से देखें ईद का चाँद हम।
देखा उनका चेहरा तो इरादे ही टल गये।।

इरादे अटल हों तो आसमां छू ले इंसान।
हौंसले वाले पर्वतों को चींटी-सा मसल गये।।

उनसे मिलकर सफ़र कुछ आसान हो गया।
सुख-दुख समझ सके वो हमदम मिल गये।।

फूल-ख़ुशबू-सा साथ निभाएंगे क़सम ली है।
इश्के-बहार को दिले-चमन के रास्ते मिल गये।।

दिले-मंदिर में आरज़ू के दीप ऐसे जलाएं हैं।
देखकर मंज़र हवाओं के भी दिल खिल गये।।

इश्क़ की आग बराबर ऐसी लगी दो दिलों में।
ज़माने के रस्मो-रिवाज़ भी हैं आज जल गये।।

“प्रीतम”आज तेरे चेहरे पर रौनक आ गयी है।
लगता है ज़िन्दगी से दिल के ग़म धुल गये।।

राधेयश्याम बंगालिया “प्रीतम”
******************

Language: Hindi
268 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from आर.एस. 'प्रीतम'
View all
You may also like:
बेहिसाब सवालों के तूफान।
बेहिसाब सवालों के तूफान।
Taj Mohammad
* रेल हादसा *
* रेल हादसा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आस
आस
Shyam Sundar Subramanian
"मत पूछो"
Dr. Kishan tandon kranti
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
Swami Ganganiya
मेरे पास नींद का फूल🌺,
मेरे पास नींद का फूल🌺,
Jitendra kumar
अश'आर हैं तेरे।
अश'आर हैं तेरे।
Neelam Sharma
तन्हाईयां सुकून देंगी तुम मिज़ाज बिंदास रखना,
तन्हाईयां सुकून देंगी तुम मिज़ाज बिंदास रखना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बापू के संजय
बापू के संजय
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
■ महसूस करें तो...
■ महसूस करें तो...
*प्रणय प्रभात*
किसी ने दिया तो था दुआ सा कुछ....
किसी ने दिया तो था दुआ सा कुछ....
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कभी छोड़ना नहीं तू , यह हाथ मेरा
कभी छोड़ना नहीं तू , यह हाथ मेरा
gurudeenverma198
देव्यपराधक्षमापन स्तोत्रम
देव्यपराधक्षमापन स्तोत्रम
पंकज प्रियम
अफ़सोस न करो
अफ़सोस न करो
Dr fauzia Naseem shad
जितना आपके पास उपस्थित हैं
जितना आपके पास उपस्थित हैं
Aarti sirsat
ये भावनाओं का भंवर है डुबो देंगी
ये भावनाओं का भंवर है डुबो देंगी
ruby kumari
बाल कविता मोटे लाला
बाल कविता मोटे लाला
Ram Krishan Rastogi
प्रिये का जन्म दिन
प्रिये का जन्म दिन
विजय कुमार अग्रवाल
पग पग पे देने पड़ते
पग पग पे देने पड़ते
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बेटी ही बेटी है सबकी, बेटी ही है माँ
बेटी ही बेटी है सबकी, बेटी ही है माँ
Anand Kumar
* टाई-सँग सँवरा-सजा ,लैपटॉप ले साथ【कुंडलिया】*
* टाई-सँग सँवरा-सजा ,लैपटॉप ले साथ【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
2897.*पूर्णिका*
2897.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
होली पर
होली पर
Dr.Pratibha Prakash
पावन सावन मास में
पावन सावन मास में
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
Just try
Just try
पूर्वार्थ
तुम वादा करो, मैं निभाता हूँ।
तुम वादा करो, मैं निभाता हूँ।
अजहर अली (An Explorer of Life)
जी हां मजदूर हूं
जी हां मजदूर हूं
Anamika Tiwari 'annpurna '
एक दोहा...
एक दोहा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
" तार हूं मैं "
Dr Meenu Poonia
Loading...