Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jul 2023 · 1 min read

ख्वाब हो गए हैं वो दिन

ख्वाब हो गए हैं वो दिन

जब हम सब बेफिक्रहुआ करते थे

….

ख्वाब हो गए हैं वो दिन

जब हम एक दूसरे के लिए

दर्द को बांट लिया करते थे

दिल की बात कह कर

दिल का बोझ

हलका कर लिया करते थे

ख्वाब हो गए वो दिन

जब किसी के पास

कुछ नहीं था….पर

अपनो को अपनो के

लिए वक्त था

उनका

ख्यालथा

अन पर ऐतबार था

उन से प्यार था

ख्वाब हो गए वो दिन

जब फेसबुक

WhatsAppइंस्टाग्राम नही था

मगर दिलो का दिलो से

एहसास का रिश्ता उन को….. जोड़े

रखता था..

ख्वाब हो गए वो दिन

जब हिचकी आने पर

सोचा जाता था केज़ुरूर किसी ने

शायद याद किया है

और सचमुच उसका नाम

लेने पर रुक जाती थी हिचकिया

ख्वाब हो गए वो दिन जब

बढ़ो की बात छोटे मान

लिया करते थे

जब छोटो के नखरो

और बढ़ो का बदप्पन

का एक तालमेल हुआ करता था..इन सब के

बीच जिंदगी कितनी आसान हुआ करती थी………..

सोशल मीडिया ऐसे

सब के दिमाग में

घुसा के कोई किसी का ना रहा…..

हर रिश्ता कांचकी तरह टूट गया…

और ये टूटे हुए टुकड़े कांच के

दिलो में चुभते है

लहू बन के टपकते है……

सब जीते हैं

सब मरते…… है

मगर तौबा नहीं करते है

लोगो की जिंदगी

लोगो ने ही ज़हर घोला है

चेहरे इं

सुनो जीना भी एक आर्ट है….shabinaZ

1 Like · 126 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from shabina. Naaz
View all
You may also like:
" बेदर्द ज़माना "
Chunnu Lal Gupta
"बारिश की बूंदें" (Raindrops)
Sidhartha Mishra
"पता नहीं"
Dr. Kishan tandon kranti
लिख रहा हूं कहानी गलत बात है
लिख रहा हूं कहानी गलत बात है
कवि दीपक बवेजा
मोबाइल
मोबाइल
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
ह्रदय की स्थिति की
ह्रदय की स्थिति की
Dr fauzia Naseem shad
होता नहीं कम काम
होता नहीं कम काम
जगदीश लववंशी
अपने माँ बाप पर मुहब्बत की नजर
अपने माँ बाप पर मुहब्बत की नजर
shabina. Naaz
जगे युवा-उर तब ही बदले दुश्चिंतनमयरूप ह्रास का
जगे युवा-उर तब ही बदले दुश्चिंतनमयरूप ह्रास का
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कोई जिंदगी में यूँ ही आता नहीं
कोई जिंदगी में यूँ ही आता नहीं
VINOD CHAUHAN
अच्छा लगता है
अच्छा लगता है
Harish Chandra Pande
झुकाव कर के देखो ।
झुकाव कर के देखो ।
Buddha Prakash
द़ुआ कर
द़ुआ कर
Atul "Krishn"
पैसा है मेरा यार, कभी साथ न छोड़ा।
पैसा है मेरा यार, कभी साथ न छोड़ा।
Sanjay ' शून्य'
■ एक स्वादिष्ट रचना श्री कृष्ण जन्माष्टमी की पूर्व संध्या कान्हा जी के दीवानों के लिए।
■ एक स्वादिष्ट रचना श्री कृष्ण जन्माष्टमी की पूर्व संध्या कान्हा जी के दीवानों के लिए।
*Author प्रणय प्रभात*
व्याकरण पढ़े,
व्याकरण पढ़े,
Dr. Vaishali Verma
दोहे- चार क़दम
दोहे- चार क़दम
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मैं भूत हूँ, भविष्य हूँ,
मैं भूत हूँ, भविष्य हूँ,
Harminder Kaur
पुस्तक परिचय /समीक्षा
पुस्तक परिचय /समीक्षा
Ravi Prakash
मेरे चेहरे से मेरे किरदार का पता नहीं चलता और मेरी बातों से
मेरे चेहरे से मेरे किरदार का पता नहीं चलता और मेरी बातों से
Ravi Betulwala
खाक पाकिस्तान!
खाक पाकिस्तान!
Saransh Singh 'Priyam'
মানুষ হয়ে যাও !
মানুষ হয়ে যাও !
Ahtesham Ahmad
2325.पूर्णिका
2325.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हार नहीं मानेंगे, यूं अबाद रहेंगे,
हार नहीं मानेंगे, यूं अबाद रहेंगे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पत्थर
पत्थर
Shyam Sundar Subramanian
बेअसर
बेअसर
SHAMA PARVEEN
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मूरत
मूरत
कविता झा ‘गीत’
जिंदगी एक आज है
जिंदगी एक आज है
Neeraj Agarwal
धन्यवाद कोरोना
धन्यवाद कोरोना
Arti Bhadauria
Loading...