Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Oct 2016 · 1 min read

खोलो उर के द्वार ,बंद ऑखों को खोलो :: जितेंद्रकमलआनंद ( पोस्ट८१)

गीत;
——-खोलो उर के द्वार , बंद ऑखों को खोलो !
िनखिलल विश्व का प्यार , तुमंहारे घर आता है ।।

दिखता है अब सूर्य विहग – कुल कलरव करते ।
प्रफुल्लित हैं वृक्ष , फूल भी झर झर झरते ।
मानो कहते , सुनो ! हमारे दि ल की धड़कन ,
कर लो अब श्रंगार ! हमारे मन भाता है ।।

गाओ लय में , ओमकार की अरणि बन्कर, मन्थन कर लो !;मधुरिम सुर में ध्यान लगाकर ,प्रकट कर महतत्व
उजाला जी भर देखो , कर लो , साक्षात् कार ।
कमल यह फिर गाता है ।।

करो साधना प्रेममयी तुम सुंदर प्रतिपल
मन को दर्पन करो ओर भी कर लो उज्ज्वल ।
हटने दो आवरण , पडा जो अंधकार का ।
देखो फिर संसार सुनहरा दिखलाता है ।
निखिल विश्व का प्यार तुम्हारे घर आता है।।
——- जितेंद्रकमलआनंद

Language: Hindi
Tag: गीत
407 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फूल ही फूल
फूल ही फूल
shabina. Naaz
ज़िद से भरी हर मुसीबत का सामना किया है,
ज़िद से भरी हर मुसीबत का सामना किया है,
Kanchan sarda Malu
3008.*पूर्णिका*
3008.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■ आग लगाऊ मीडिया
■ आग लगाऊ मीडिया
*Author प्रणय प्रभात*
चुलियाला छंद ( चूड़मणि छंद ) और विधाएँ
चुलियाला छंद ( चूड़मणि छंद ) और विधाएँ
Subhash Singhai
वीर शहीदों की कुर्बानी...!!!!
वीर शहीदों की कुर्बानी...!!!!
Jyoti Khari
!! उमंग !!
!! उमंग !!
Akash Yadav
!! कोई आप सा !!
!! कोई आप सा !!
Chunnu Lal Gupta
भले ई फूल बा करिया
भले ई फूल बा करिया
आकाश महेशपुरी
सारी दुनिया में सबसे बड़ा सामूहिक स्नान है
सारी दुनिया में सबसे बड़ा सामूहिक स्नान है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बूत परस्ती से ही सीखा,
बूत परस्ती से ही सीखा,
Satish Srijan
पोथी समीक्षा -भासा के न बांटियो।
पोथी समीक्षा -भासा के न बांटियो।
Acharya Rama Nand Mandal
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
।। गिरकर उठे ।।
।। गिरकर उठे ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
दर्द ने हम पर
दर्द ने हम पर
Dr fauzia Naseem shad
सादगी
सादगी
राजेंद्र तिवारी
*सीढ़ी चढ़ती और उतरती(बाल कविता)*
*सीढ़ी चढ़ती और उतरती(बाल कविता)*
Ravi Prakash
मुक्ति का दे दो दान
मुक्ति का दे दो दान
Samar babu
(मुक्तक) जऱ-जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
(मुक्तक) जऱ-जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
सत्य कुमार प्रेमी
रिश्ते प्यार के
रिश्ते प्यार के
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
प्रतिशोध
प्रतिशोध
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
ज़िदादिली
ज़िदादिली
Shyam Sundar Subramanian
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
Rj Anand Prajapati
18. कन्नौज
18. कन्नौज
Rajeev Dutta
“ मेरा रंगमंच और मेरा अभिनय ”
“ मेरा रंगमंच और मेरा अभिनय ”
DrLakshman Jha Parimal
सुनो प्रियमणि!....
सुनो प्रियमणि!....
Santosh Soni
हाइपरटेंशन(ज़िंदगी चवन्नी)
हाइपरटेंशन(ज़िंदगी चवन्नी)
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जिंदगी
जिंदगी
Neeraj Agarwal
जमाने से क्या शिकवा करें बदलने का,
जमाने से क्या शिकवा करें बदलने का,
Umender kumar
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Dr Archana Gupta
Loading...