Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jul 2023 · 1 min read

*खोया अपने आप में, करता खुद की खोज (कुंडलिया)*

खोया अपने आप में, करता खुद की खोज (कुंडलिया)

खोया अपने आप में, करता खुद की खोज
प्रातः धरना ध्यान का, नियम बनाता रोज
नियम बनाता रोज, गहन भीतर तक जाता
मोती असली मोक्ष, तत्व का वह ही पाता
कहते रवि कविराय, कलुष उस ही ने धोया
खुद पर कसी लगाम, संतुलन कभी न खोया

रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

310 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
प्रेम ईश्वर प्रेम अल्लाह
प्रेम ईश्वर प्रेम अल्लाह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जिंदगी जब जब हमें
जिंदगी जब जब हमें
ruby kumari
"क्रन्दन"
Dr. Kishan tandon kranti
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
यूँ इतरा के चलना.....
यूँ इतरा के चलना.....
Prakash Chandra
बंदर मामा
बंदर मामा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
इश्क की रूह
इश्क की रूह
आर एस आघात
स्वतंत्रता का अनजाना स्वाद
स्वतंत्रता का अनजाना स्वाद
Mamta Singh Devaa
घमंड
घमंड
Ranjeet kumar patre
ज़िस्म की खुश्बू,
ज़िस्म की खुश्बू,
Bodhisatva kastooriya
यादों की एक नई सहर. . . . .
यादों की एक नई सहर. . . . .
sushil sarna
नई शुरावत नई कहानियां बन जाएगी
नई शुरावत नई कहानियां बन जाएगी
पूर्वार्थ
होठों को रख कर मौन
होठों को रख कर मौन
हिमांशु Kulshrestha
ना कहीं के हैं हम - ना कहीं के हैं हम
ना कहीं के हैं हम - ना कहीं के हैं हम
Basant Bhagawan Roy
कौन जात हो भाई / BACHCHA LAL ’UNMESH’
कौन जात हो भाई / BACHCHA LAL ’UNMESH’
Dr MusafiR BaithA
मैं ज़िंदगी भर तलाशती रही,
मैं ज़िंदगी भर तलाशती रही,
लक्ष्मी सिंह
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तो क्या हुआ
तो क्या हुआ
Sûrëkhâ
शायरी - संदीप ठाकुर
शायरी - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
कभी छोड़ना नहीं तू , यह हाथ मेरा
कभी छोड़ना नहीं तू , यह हाथ मेरा
gurudeenverma198
🌹🌹🌹फितरत 🌹🌹🌹
🌹🌹🌹फितरत 🌹🌹🌹
umesh mehra
विकट संयोग
विकट संयोग
Dr.Priya Soni Khare
"अश्क भरे नयना"
Ekta chitrangini
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
मुस्तक़िल बेमिसाल हुआ करती हैं।
मुस्तक़िल बेमिसाल हुआ करती हैं।
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अयोध्या धाम
अयोध्या धाम
Mukesh Kumar Sonkar
गहरी हो बुनियादी जिसकी
गहरी हो बुनियादी जिसकी
कवि दीपक बवेजा
प्रेम ही जीवन है।
प्रेम ही जीवन है।
Acharya Rama Nand Mandal
Ye chad adhura lagta hai,
Ye chad adhura lagta hai,
Sakshi Tripathi
बेटी
बेटी
Neeraj Agarwal
Loading...