Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 1 min read

*खोटा था अपना सिक्का*

वादों को अब वो अपने ऐसे निभा रहे हैं
आँखों पे डाले चश्मा दुनिया घुमा रहे हैं

बुद्धू है हमको समझा या फिर बना रहे हैं
बाते बना-बना कर हमको फँसा रहे हैं

करनी थी अपने मन की, करते ही जा रहे हैं
खाना था हमको दोसा, खिचड़ी खिला रहे हैं

चढ़ना था हमको बस पर, पर भीड़ ने धकेला
टूटी हुई है चप्पल, बस लड़खड़ा रहे हैं

परियों-सी उनकी बेटी, भोंदूँ-सा अपना लडका
सिक्का था अपना खोटा फिर भी चला रहे हैं

8 Likes · 2 Comments · 1611 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Poonam Matia
View all
You may also like:
गणेश अराधना
गणेश अराधना
Davina Amar Thakral
जीवन में चुनौतियां हर किसी
जीवन में चुनौतियां हर किसी
नेताम आर सी
वक्त यदि गुजर जाए तो 🧭
वक्त यदि गुजर जाए तो 🧭
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हँसकर गुजारी
हँसकर गुजारी
Bodhisatva kastooriya
" नई चढ़ाई चढ़ना है "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
बेजुबान तस्वीर
बेजुबान तस्वीर
Neelam Sharma
मेरा लड्डू गोपाल
मेरा लड्डू गोपाल
MEENU
माँ तेरे चरणों मे
माँ तेरे चरणों मे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
विषय - पर्यावरण
विषय - पर्यावरण
Neeraj Agarwal
साहब का कुत्ता (हास्य-व्यंग्य कहानी)
साहब का कुत्ता (हास्य-व्यंग्य कहानी)
दुष्यन्त 'बाबा'
दो कदम
दो कदम
Dr fauzia Naseem shad
#उल्टा_पुल्टा
#उल्टा_पुल्टा
*Author प्रणय प्रभात*
असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है।
असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
फिर से जीने की एक उम्मीद जगी है
फिर से जीने की एक उम्मीद जगी है "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
3) मैं किताब हूँ
3) मैं किताब हूँ
पूनम झा 'प्रथमा'
due to some reason or  excuses we keep busy in our life but
due to some reason or excuses we keep busy in our life but
पूर्वार्थ
रूठी हूं तुझसे
रूठी हूं तुझसे
Surinder blackpen
क्षणिका :  ऐश ट्रे
क्षणिका : ऐश ट्रे
sushil sarna
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
मेरी दोस्ती मेरा प्यार
मेरी दोस्ती मेरा प्यार
Ram Krishan Rastogi
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Rekha Drolia
*जमाना बदल गया (छोटी कहानी)*
*जमाना बदल गया (छोटी कहानी)*
Ravi Prakash
वक्त कितना भी बुरा हो,
वक्त कितना भी बुरा हो,
Dr. Man Mohan Krishna
जीवनसंगिनी सी साथी ( शीर्षक)
जीवनसंगिनी सी साथी ( शीर्षक)
AMRESH KUMAR VERMA
संवेदनाएं
संवेदनाएं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
3118.*पूर्णिका*
3118.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गल्प इन किश एण्ड मिश
गल्प इन किश एण्ड मिश
प्रेमदास वसु सुरेखा
वेदना ऐसी मिल गई कि मन प्रदेश में हाहाकार मच गया,
वेदना ऐसी मिल गई कि मन प्रदेश में हाहाकार मच गया,
Sukoon
मजदूर है हम
मजदूर है हम
Dinesh Kumar Gangwar
मूर्दन के गांव
मूर्दन के गांव
Shekhar Chandra Mitra
Loading...