Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Aug 2022 · 1 min read

खैरियत का जवाब आया

खैरियत का जवाब आया

धूप की तपिश में भी सुकून आया,
मानो किरने उसे छूकर आई हो,
आज हवाओं पर भी प्यार आया,
उनकी खैरियत का जवाब है मानो आया ।।

सीमा टेलर(छिम्पियान लम्बोर)

Language: Hindi
3 Likes · 2 Comments · 286 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
संबंधो में अपनापन हो
संबंधो में अपनापन हो
संजय कुमार संजू
क्या रखा है, वार (युद्ध) में?
क्या रखा है, वार (युद्ध) में?
Dushyant Kumar
टाईम पास .....लघुकथा
टाईम पास .....लघुकथा
sushil sarna
■ और क्या चाहिए...?
■ और क्या चाहिए...?
*Author प्रणय प्रभात*
2839.*पूर्णिका*
2839.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सावन मंजूषा
सावन मंजूषा
Arti Bhadauria
💐प्रेम कौतुक-215💐
💐प्रेम कौतुक-215💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
देशज से परहेज
देशज से परहेज
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
क्यों और कैसे हुई विश्व पर्यावरण दिवस मनाने की शुरुआत। क्या है 2023 का थीम ?
क्यों और कैसे हुई विश्व पर्यावरण दिवस मनाने की शुरुआत। क्या है 2023 का थीम ?
Shakil Alam
मन बैठ मेरे पास पल भर,शांति से विश्राम कर
मन बैठ मेरे पास पल भर,शांति से विश्राम कर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
यकीन
यकीन
Sidhartha Mishra
कसक ...
कसक ...
Amod Kumar Srivastava
दोगला चेहरा
दोगला चेहरा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
उदासी एक ऐसा जहर है,
उदासी एक ऐसा जहर है,
लक्ष्मी सिंह
"राखी के धागे"
Ekta chitrangini
हे आशुतोष !
हे आशुतोष !
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
फितरत जग एक आईना
फितरत जग एक आईना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कविता माँ काली का गद्यानुवाद
कविता माँ काली का गद्यानुवाद
दुष्यन्त 'बाबा'
जो तुम्हारी ख़ामोशी से तुम्हारी तकलीफ का अंदाजा न कर सके उसक
जो तुम्हारी ख़ामोशी से तुम्हारी तकलीफ का अंदाजा न कर सके उसक
ख़ान इशरत परवेज़
पल का मलाल
पल का मलाल
Punam Pande
अपनी पहचान को
अपनी पहचान को
Dr fauzia Naseem shad
जिनके पास अखबार नहीं होते
जिनके पास अखबार नहीं होते
Surinder blackpen
साहित्य क्षेत्रे तेल मालिश का चलन / MUSAFIR BAITHA
साहित्य क्षेत्रे तेल मालिश का चलन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
खुल जाये यदि भेद तो,
खुल जाये यदि भेद तो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*समय है एक अनुशासन, जिसे सूरज निभाता है (मुक्तक)*
*समय है एक अनुशासन, जिसे सूरज निभाता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
"आत्मा"
Dr. Kishan tandon kranti
*
*"ममता"* पार्ट-2
Radhakishan R. Mundhra
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
gurudeenverma198
Loading...