Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Dec 2023 · 2 min read

खेत का सांड

लहलहाए फसलों को
जब चरते हो
देख कर
देखते ही रहना चाहता हूं
बहुत देर तक ।

हजारों वर्ष बाद !
नाथी, पगहा, जुआठा
से मुक्त
हरे खेतों में
फ़ैल कर
तुम्हारा चरना
जैसे,
घुड़सवार सेना
दस्तक दे चुकी हो
किसी रणभूमि में

जब भी,
ओआंय्य, ओआंय्य, ओआंय्य
करके आवाज देता हूं
तुम अपने नथुनों को फुलाकर
फ्फूं,फ्फूं,फ्फूं, फ्फूं, फ्फूं
करके तमतमा जाते हो
और चल पड़ते हो
अपनी नथुनों को नीचे दबाए और सींग,
जोड़ा भाले की तरह
तानकर,
मैं डर जाता हूं!

क्या अब, चर डालोगे
पूरी फसलों को
उखाड़ दोगे
उनकी जड़ों को,
पलटहवा हल से
और फिर चलाओगे
पाटा
किसी नए
घुड़सवार के लिए ?

क्या बाऊ जी के बातों से
नाराज़ हो,
“खटि – खटि- मरैं बहेतरा
बैठे खांय तुरंग”
अब तो कहीं
तुरंग नहीं खाता
बैठ कर
अब तो, वह भी खींचता है
दूल्हे की बघ्घी
ढोता है
ईंट ।

फिर क्यों,
नाराज़ होकर
बिना डिल्ल वाले
विदेशी
जर्सी और फ्रिसिएन
के साथ
चर जाना चाहते हो
सब कुछ ?

उनके पुरखे तो, कभी नहीं चले
हल, चक्की, कोल्हू, रहट, दौंरी और पाटा !
बेड़े में
बंधी गयों का खाया चारा,
किया तंग
बाछी और बाछों को
बदल दिया
उनकी नस्ल को ।

क्या भूल गए,
तुम जब पीपल के नीचे
बैठे होते थे
तेजी – तेजी से बुलाते थे,
गर्दन हिला कर
और अपनी दरबरी जीभ से
चाट के , सपाट कर देते थे मेरे
सिर के बलों को,
किसी गिलहरी की तरह,
तुम्हारे चोट पर
मैं ही तो रखता था,
घी का फा़हा !

आओ
लौट आओ
फिर लहलहाएगी खेती
महकेगा बगीचा
पहले की तरह ।

~आनन्द मिश्र

Language: Hindi
4 Likes · 2 Comments · 192 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हाथों ने पैरों से पूछा
हाथों ने पैरों से पूछा
Shubham Pandey (S P)
कुछ ख्वाब
कुछ ख्वाब
Rashmi Ratn
होली
होली
Kanchan Khanna
यह जो आँखों में दिख रहा है
यह जो आँखों में दिख रहा है
कवि दीपक बवेजा
"कोहरा रूपी कठिनाई"
Yogendra Chaturwedi
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*राम-नाम को भज प्यारे यह, जग से पार लगाएगा (हिंदी गजल)*
*राम-नाम को भज प्यारे यह, जग से पार लगाएगा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
माँ
माँ
Anju
Republic Day
Republic Day
Tushar Jagawat
धरा और इसमें हरियाली
धरा और इसमें हरियाली
Buddha Prakash
माईया पधारो घर द्वारे
माईया पधारो घर द्वारे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सुनो मोहतरमा..!!
सुनो मोहतरमा..!!
Surya Barman
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
Rj Anand Prajapati
‘ चन्द्रशेखर आज़ाद ‘ अन्त तक आज़ाद रहे
‘ चन्द्रशेखर आज़ाद ‘ अन्त तक आज़ाद रहे
कवि रमेशराज
स्मृतियों की चिन्दियाँ
स्मृतियों की चिन्दियाँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
वंदेमातरम
वंदेमातरम
Bodhisatva kastooriya
भूखे भेड़िये हैं वो,
भूखे भेड़िये हैं वो,
Maroof aalam
मैं और मेरी फितरत
मैं और मेरी फितरत
लक्ष्मी सिंह
एक ही तो, निशा बचा है,
एक ही तो, निशा बचा है,
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
जागेगा अवाम
जागेगा अवाम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
महकती रात सी है जिंदगी आंखों में निकली जाय।
महकती रात सी है जिंदगी आंखों में निकली जाय।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
चूरचूर क्यों ना कर चुकी हो दुनिया,आज तूं ख़ुद से वादा कर ले
चूरचूर क्यों ना कर चुकी हो दुनिया,आज तूं ख़ुद से वादा कर ले
Nilesh Premyogi
ऐ वतन....
ऐ वतन....
Anis Shah
2897.*पूर्णिका*
2897.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दो साँसों के तीर पर,
दो साँसों के तीर पर,
sushil sarna
तुम चाहो तो मुझ से मेरी जिंदगी ले लो
तुम चाहो तो मुझ से मेरी जिंदगी ले लो
shabina. Naaz
बात न बनती युद्ध से, होता बस संहार।
बात न बनती युद्ध से, होता बस संहार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
बना चाँद का उड़न खटोला
बना चाँद का उड़न खटोला
Vedha Singh
क्या खूब दिन थे
क्या खूब दिन थे
Pratibha Pandey
राहें भी होगी यूं ही,
राहें भी होगी यूं ही,
Satish Srijan
Loading...