Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Apr 2024 · 1 min read

खुला खत नारियों के नाम

इक्कीसवीं सदी की नारियों
तुम सदियों से रही हो
अपनी सेहत के मसलों से लापरवाह,
जब चलना शुरू करती हो
तब तन-मन की गाड़ी रुकती नहीं
चाहे हृदय से निकले आह।

बिस्तर से उठ जाती तभी
जब सूरज भी बनाया न होता
तेरी जमीं को झाँकने का मन,
जब खुद सोने लगती रात
जाती हो तब बिस्तर में
वो भी काम छोड़कर अनमने मन।

एनीमिया से पीड़ित हैं आज
तेरी सत्तावन फीसदी जमात,
हर दिन पाव भर धूप का टुकड़ा
तुम्हारे बदन पर ठिठके
इतनी भी मोहलत नहीं तुम्हारे पास।

रसोई जिमाती हो सबको
तुम भी भर पेट खाती काश,
किस चिड़िया का नाम है जिन्दगी
ये समझती हो अच्छी तरह
मगर खुद की सेहत के वास्ते
क्यों करती ना ये अहसास।

इमोशनल हेल्थ की धज्जियाँ उड़ाती
ऊपर से पीठ और जोड़ों का दर्द,
मौसम के साथ-साथ ही
होती रहती सेहत गर्म वो सर्द,
अब तो डिप्रेशन को भी
चोर दरवाजे से
जिन्दगी में शामिल कर चुकी हो,
एकदम हैरान हूँ मैं
बावजूद तुम हैरान नहीं हो।

नारी शक्ति पर आधारित पुस्तक
‘आधी दुनिया’ के बाद
मेरी प्रकाशित द्वितीय काव्य-कृति :
‘बराबरी का सफर’ से,,,

डॉ. किशन टण्डन क्रान्ति
साहित्य वाचस्पति
भारत भूषण सम्मान प्राप्त
भारत के 100 महान व्यक्तित्व में शामिल
एक साधारण व्यक्ति।

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 41 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
न रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
न रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
सत्य कुमार प्रेमी
संस्कार मनुष्य का प्रथम और अपरिहार्य सृजन है। यदि आप इसका सृ
संस्कार मनुष्य का प्रथम और अपरिहार्य सृजन है। यदि आप इसका सृ
Sanjay ' शून्य'
विद्यावाचस्पति Ph.D हिन्दी
विद्यावाचस्पति Ph.D हिन्दी
Mahender Singh
तस्मात् योगी भवार्जुन
तस्मात् योगी भवार्जुन
सुनीलानंद महंत
21वीं सदी और भारतीय युवा
21वीं सदी और भारतीय युवा
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
जय जय नंदलाल की ..जय जय लड्डू गोपाल की
जय जय नंदलाल की ..जय जय लड्डू गोपाल की"
Harminder Kaur
गाँधी जी की लाठी
गाँधी जी की लाठी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*।। मित्रता और सुदामा की दरिद्रता।।*
*।। मित्रता और सुदामा की दरिद्रता।।*
Radhakishan R. Mundhra
पानीपुरी (व्यंग्य)
पानीपुरी (व्यंग्य)
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
खुद को मसखरा बनाया जिसने,
खुद को मसखरा बनाया जिसने,
Satish Srijan
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
जिसने हर दर्द में मुस्कुराना सीख लिया उस ने जिंदगी को जीना स
जिसने हर दर्द में मुस्कुराना सीख लिया उस ने जिंदगी को जीना स
Swati
उजाले को वही कीमत करेगा
उजाले को वही कीमत करेगा
पूर्वार्थ
*हनुमान (बाल कविता)*
*हनुमान (बाल कविता)*
Ravi Prakash
इंडियन सेंसर बोर्ड
इंडियन सेंसर बोर्ड
*Author प्रणय प्रभात*
मायड़ भौम रो सुख
मायड़ भौम रो सुख
लक्की सिंह चौहान
दिल आइना
दिल आइना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्रेम
प्रेम
पंकज कुमार कर्ण
कब रात बीत जाती है
कब रात बीत जाती है
Madhuyanka Raj
* भावना में *
* भावना में *
surenderpal vaidya
!! ख़ुद को खूब निरेख !!
!! ख़ुद को खूब निरेख !!
Chunnu Lal Gupta
अभिमान  करे काया का , काया काँच समान।
अभिमान करे काया का , काया काँच समान।
Anil chobisa
पीड़ाएं सही जाती हैं..
पीड़ाएं सही जाती हैं..
Priya Maithil
میرے اس دل میں ۔
میرے اس دل میں ۔
Dr fauzia Naseem shad
ये उम्र के निशाँ नहीं दर्द की लकीरें हैं
ये उम्र के निशाँ नहीं दर्द की लकीरें हैं
Atul "Krishn"
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
Maroof aalam
इंसानियत का कत्ल
इंसानियत का कत्ल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
प्रकृति की गोद खेल रहे हैं प्राणी
प्रकृति की गोद खेल रहे हैं प्राणी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
23/67.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/67.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अगर न बने नये रिश्ते ,
अगर न बने नये रिश्ते ,
शेखर सिंह
Loading...